Home /News /sports /

मां की जिद ने साकिबुल को बनाया चैंपियन, गहने गिरवी रखकर बेटे को दिलाया बैट, अब लाल ने दुनियाभर में बढ़ाया मान

मां की जिद ने साकिबुल को बनाया चैंपियन, गहने गिरवी रखकर बेटे को दिलाया बैट, अब लाल ने दुनियाभर में बढ़ाया मान

Ranji Trophy 2021-22: साकिबुल गनी (Sakibul Gani) ने बनाया वर्ल्ड रिकॉर्ड. (Wisden cricket twitter)

Ranji Trophy 2021-22: साकिबुल गनी (Sakibul Gani) ने बनाया वर्ल्ड रिकॉर्ड. (Wisden cricket twitter)

Ranji Trophy 2021-22: बिहार के 22 साल के युवा बल्लेबाज साकिबुल गनी (Sakibul Gani) एक पारी से रिकाॅर्ड बुक में शामिल हो गए हैं. वे फर्स्ट क्लास क्रिकेट के डेब्यू मैच में तिहरा शतक लगाने वाले दुनिया के पहले खिलाड़ी हैं.

नई दिल्ली. साकिबुल गनी (Sakibul Gani) नए स्टार बनकर उभरे हैं और अपना नाम इतिहास में दर्ज करा लिया है, लेकिन उनके यहां तक पहुंचने की कहानी बेहद ही संघर्ष वाली रही है. क्रिकेट के अच्छे बैट 30 से 35 हजार रुपए के आते हैं. ऐसे में गरीब परिवार से ताल्लुक रखने वाले गनी के पास इतने पैसे नहीं थे कि वे बैट खरीद सकें, पर मां तो मां ही होती है. उसने अपने गहने गिरवी रखकर बेटे के सपने को पूरा करने की ठानी और आज परिणाम सबके सामने हैं. गनी फर्स्ट क्लास क्रिकेट के डेब्यू मैच में तिहरा शतक लगाने वाले दुनिया के पहले खिलाड़ी बन गए हैं. 22 साल के बिहार के गनी ने रणजी ट्रॉफी (Ranji Trophy) के एक मैच में 405 गेंद पर 341 रन बना डाले. मिजोरम के खिलाफ उन्होंने 56 चौके और 2 छक्के भी जड़े.

साकिबुल गनी इससे पहले जूनियर क्रिकेट में भी अच्छा प्रदर्शन कर चुके हैं. उनके बड़े भाई फैसल गनी ने बताया कि हमारे पास साकिबुल के महंगे बैट खरीदने के पैसे नहीं थे. लेकिन मां ने कभी भी पैसे की कमी महसूस नहीं होने दी. जब भी परेशानी आती थी, मां अपना गहना गिरवी रखकर मदद कर देती थीं. उन्होंने बताया कि पिछले दिनों जब गनी टूर्नामेंट खेलने के लिए जा रहा था कि मां ने उसे 3 बैट दिए. फिर कहा- जाओ बेटा तीन शतक लगा कर आना. उसने पहले ही मैच में तिहरा शतक लगाकर उनके सपने को पूरा कर दिया.

7 साल की उम्र से क्रिकेट खेलना शुरू किया

22 साल के युवा बल्लेबाज साकिबुल गनी ने 7 साल की उम्र से क्रिकेट खेलना शुरू किया था. उनके पिता मोहम्मद मन्नान पीडीएस की दुकान चलाते हैं. उन्होंने बताया कि उसने 7 साल की उम्र से क्रिकेट खेलना शुरू कर दिया था. वह अपने बड़े भाई के साथ खेलने जाता था. हमने हर तरह से उसकी मदद करने की कोशिश. एक बार साकिबुल अपने बड़े भाई फैसल को 2009 में मैच खेलने के लिए पटना एयरपोर्ट छोड़ने गया था. फैसल ने बताया कि मुझे हवाई जहाज में बैठता देख साकिबुल को लगा कि वह भी क्रिकेट खेलेगा तो फ्लाइट से यात्रा कर सकेगा. इसके बाद उसने खेल पर और ध्यान शुरू किया. फैसल तेज गेंदबाज हैं.

यह भी पढ़ें: T20 World Cup में नहीं देखा होगा ऐसा प्रदर्शन, गेंदबाज ने 8 गेंद डाली, 5 विकेट झटक लिए

यह भी पढ़ें: IPL 2022: KKR के खिलाड़ी ने टी20 में मचाया कोहराम, फाइनल में 10 गेंद पर बना डाले 50 रन

स्टेट लेवल टूर्नामेंट में भी जड़ चुके हैं तिहरा शतक

साकिबुल गनी ने पहली बार तिहरा शतक नहीं लगाया है. इससे पहले वे स्टेट लेवल के अंडर-23 टूर्नामेंट में भी 306 रन की बड़ी पारी खेल चुके हैं. इसके अलावा वे दोहरा शतक भी जड़ चुके हैं. हालांकि खेल के चलते वे पढ़ाई में पिछड़ गए. वे 12वीं की परीक्षा भी नहीं दे सके. वे तेज गेंदबाजी भी करते हैं. साकिबुल 14 लिस्ट-ए मैच में 31 की औसत से 377 रन बना चुके हैं. 4 विकेट भी झटके हैं. वहीं टी20 की 9 पारियों में 27 की औसत से 192 रन बनाए हैं. एक अर्धशतक लगाया है. रणजी के मौजूदा सीजन में उन्होंने अच्छी शुरुआत की है. अब नजर आने वाले मैचों में उनके प्रदर्शन पर है.

Tags: BCCI, Cricket Records, Ranji Trophy

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर