• Home
  • »
  • News
  • »
  • sports
  • »
  • 'धोनी पर इतना ध्‍यान क्‍यों, क्‍या टीम में दूसरे बल्‍लेबाज नहीं जो रन बना सकें'

'धोनी पर इतना ध्‍यान क्‍यों, क्‍या टीम में दूसरे बल्‍लेबाज नहीं जो रन बना सकें'

एमएस धोनी. (AP Photo)

एमएस धोनी. (AP Photo)

एमएस धोनी ने रविवार को इंग्लैंड के खिलाफ 31 गेंद में 42 रन की नाबाद पारी खेली लेकिन भारत यह मैच 31 रन से हार गया.

  • Share this:
    इंग्‍लैंड के खिलाफ मैच में इंडिया की हार के बाद पूर्व कप्‍तान एमएस धोनी एक बार फिर से निशाने पर हैं. फैंस, जानकार और पूर्व क्रिकेटर उनकी धीमी बल्‍लेबाजी पर सवाल उठा रहे हैं. लेकिन भारतीय टीम के बल्लेबाजी कोच संजय बांगड़ ने महेन्द्र सिंह धोनी का समर्थन करते हुए सोमवार को कहा कि स्ट्राइक रेट को लेकर इस अनुभवी बल्लेबाज की लगातार हो रही आलोचना से वह आश्चर्यचकित हैं. धोनी ने रविवार को इंग्लैंड के खिलाफ 31 गेंद में 42 रन की नाबाद पारी खेली लेकिन भारत यह मैच 31 रन से हार गया. इस हार के बाद एक बार फिर अंतिम ओवरों में तेजी से रन बनाने की धोनी की क्षमता पर सवाल उठने लगे.

    पूर्व क्रिकेटर संजय मांजरेकर का भी मानना है कि धोनी के स्ट्राइक रेट पर सवाल उठाना सही नहीं है और उनकी जगह लोकेश राहुल जैसे युवा खिलाड़ियों को अधिक जवाबदेह ठहराया जाना चाहिए.

    धोनी ने 7 में से 5 मैच में अपना काम किया
    बांग्लादेश के खिलाफ मैच की पूर्व संध्या पर बांगड़ ने कहा, ‘एक पारी (अफगानिस्तान के खिलाफ 52 गेंद में 28 रन) को छोड़कर उन्होंने हमेशा अपनी भूमिका निभाई है. उन्होंने सात में से पांच मैचों में टीम के लिए अपनी भूमिका को बखूबी निभाया है. उन्होंने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ रोहित शर्मा के साथ 70 रन की साझेदारी की. इसके बाद ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ भी उन्होंने जो जरूरी था वह किया. मैनचेस्टर में मुश्किल पिच पर उन्होंने 58 रन की अहम पारी खेली. यहां (इंग्लैंड के खिलाफ) भी उन्होंने अपनी भूमिका को अच्छे से निभाया.’

    धोनी पर इतना ध्‍यान सही नहीं
    वहीं मांजरेकर ने कहा, ‘यह वास्तव में अनुचित है कि करियर के इस स्तर पर भी सारा ध्यान सिर्फ धोनी पर है, क्या टीम में दूसरे बल्लेबाज नहीं है जो भारत को जीत दिलाने में मदद कर सकें. अगर ऐसा है तो यह भारतीय क्रिकेट के लिए अच्छा संकेत नहीं है. धोनी पर इतना ज्यादा ध्यान नहीं होना चाहिए. ये बातें मीडिया में चर्चा के लिए हैं. अगर मैं भारतीय क्रिकेट का शुभचिंतक हूं तो राहुल और दूसरे बल्लेबाजों पर अच्छा प्रदर्शन करने का दबाव बनाउंगा जिससे धोनी जैसे खिलाड़ी से दबाव कम हो सके.’

    राहुल को खेलनी चाहिए बड़ी पारी
    मांजरेकर को लगता है कि राहुल को अपनी शुरूआत को बड़ी पारी में बदलना चाहिए और अपनी क्षमता के साथ न्याय करना चाहिए. मांजरेकर ने हालांकि माना कि अगर धोनी पारी के 20-25वें ओवर में बल्लेबाजी के लिए आते हैं तो उन्हें गेंद और रन के बीच में ज्यादा अंतर नहीं होने देना चाहिए. उन्होंने कहा, ‘अगर टीम शुरूआत में दो विकेट गंवा देती है तब तो यह समझ में आता है. अगर वह 22वें या 25वें ओवर में बल्लेबाजी के लिए आते हैं तो उन्हों गेंद और रन में ज्यादा अंतर नहीं होने देना चाहिए.’

    सेमीफाइनल पर इंडिया की नजरें...मगर ये खिलाड़ी बनेगा मुसीबत 

    धोनी पर भड़के क्रिकेटर, गांगुली बोले- चौके-छक्‍के मारना था

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज