बॉल टेंपरिंग पर ऑस्ट्रेलिया के गेंदबाजी कोच ने कहा- इसे राेका जा सकता था, लेकिन?

इस घटना के बाद स्टीव स्मिथ को कप्तानी से हटना पड़ा था. (AFP)

बॉल टेंपरिंग (ball tampering) का मामला ऑस्ट्रेलिया के लिए फिर परेशानी खड़ा कर रहा है. इस घटना के दौरान टीम के गेंदबाजी कोच रहे डेविड सेकर ने कहा कि यह बहुत बड़ी गलती थी. यह घटना कभी पीछा नहीं छोड़ने वाली.

  • Share this:
    नई दिल्ली. ऑस्ट्रेलिया के पूर्व गेंदबाजी कोच डेविड सेकर ने 2018 में गेंद से छेड़छाड़ के बारे में रविवार को कहा कि यह बहुत बड़ी गलती थी, जिसे रोका जा सकता था. इसके लिए उन पर भी उंगली उठाई जा सकती है. इस घटना के बाद ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट पर उंगली उठी थी. उस समय घटना के बाद कप्तान स्टीव स्मिथ, उप कप्तान डेविड वार्नर और गेंद से छेड़छाड़ करने वाले बल्लेबाज कैमरन बैनक्राॅफ्ट पर बैन लगाया गया था, लेकिन सेकर ने कहा यह सामूहिक असफलता थी.

    डेविड सेकर ने ‘सिडनी मार्निंग हेरल्ड’ से कहा, ‘निश्चित तौर पर उस समय कई चीजें गलत हुई थी. इसके लिए लगातार उंगलियां उठाई जा रही थीं. बहुत सारे लोगों को दोष दिया जा सकता है. मुझे भी दोष दिया जा सकता है. यह कोई और भी हो सकता है. इसे रोका जा सकता था, लेकिन ऐसा नहीं हुआ, जो कि दुर्भाग्यपूर्ण था.’ उन्होंने कहा कि यह घटना हमेशा ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट से जुड़ी रहेगी और इसमें कोई कुछ नहीं कर सकता है.

    कोच पर भी उंगली उठाई जा सकती है

    डेविड सेकर ने कहा, ‘आप मुझ पर उंगली उठा सकते हो, आप बूफ (तत्कालीन कोच डैरेन लेहमैन) पर उंगली उठा सकते हैं. आप अन्य लोगों पर उंगली उठा सकते हो. निश्चित तौर पर आप ऐसा कर सकते हो.’ उन्होंने कहा, ‘दुर्भाग्यपूर्ण यह है कि इससे कभी पीछा नहीं छूटेगा. हम सभी जानते हैं कि हमने बहुत बड़ी गलती की है. इसका प्रभाव तब तक पता नहीं था जब तक यह सामने नहीं आया.’ सेकर ने यह बयान तब दिया जबकि बैनक्राॅफ्ट ने चौंकाने वाला खुलासा किया कि ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों को उस समय इस साजिश की जानकारी थी.

    यह भी पढ़ें: धोनी ने बतौर कप्तान 7वें मैच में जीत ली थी आईसीसी ट्रॉफी, 200 मैच के बाद भी कोहली के हाथ खाली

    दोबारा जांच करना गलत नहीं

    डेविड सेकर ने कहा कि दोबारा इस मामले की जांच करना गलत नहीं होगा. मुझे नहीं पता है कि इससे क्या मिलेगा. यह अंडरआर्म घटना की तरह है, यह कभी नहीं जाने वाला. अंडरआर्म की घटना 1981 की है. ऑस्ट्रेलिया के गेंदबाज ट्रेवर चैपल को कप्तान और भाई ग्रेग चैपल ने अंडर आर्म गेंद फेंकने को कही. न्यूजीलैंड को अंतिम गेंद पर जीत के लिए 6 रन बनाने थे. अंडरआर्म गेंद के कारण ऑस्ट्रेलिया ने मैच तो जीत लिया, लेकिन उसकी बहुत आलोचना हुई थी.