• Home
  • »
  • News
  • »
  • sports
  • »
  • IPL पर टिका है इन लोगों का भविष्य, आयोजन नहीं हुआ तो परिवार को क्या खिलाएंगे?

IPL पर टिका है इन लोगों का भविष्य, आयोजन नहीं हुआ तो परिवार को क्या खिलाएंगे?

आईपीएल रद्द हुआ तो कई लोगों के घर नहीं जलेगा चूल्हा!

आईपीएल रद्द हुआ तो कई लोगों के घर नहीं जलेगा चूल्हा!

इंडियन प्रीमियर लीग 2020 (IPL 2020) का आयोजन होगा या नहीं, कोई नहीं जानता. फिलहाल ये कोरोना वायरस की वजह से अनिश्चिकाल के लिए टला हुआ है

  • Share this:
    नई दिल्ली. इंडियन प्रीमियर लीग (IPL)...सिर्फ एक टूर्नामेंट नहीं, ये एक जरिया है लोगों के मनोरंजन का, खिलाड़ियों को खुद को साबित करने का, पैसा कमाने का...और कुछ लोग ऐसे हैं जो आईपीएल के भरोसे ही पिछले दस 12 सालों से अपना परिवार पाल रहे हैं. फिलहाल ये टूर्नामेंट कोरोना वायरस की वजह से अनिश्चितकाल के लिए टला हुआ है. उम्मीद की जा रही है कि सितंबर-अक्टूबर में इसका आयोजन हो जाए लेकिन अबतक तस्वीर साफ नहीं है क्योंकि इस टूर्नामेंट का आयोजन आईसीसी टी20 वर्ल्ड कप 2020 और एशिया कप के टलने पर निर्भर करता है. अगर किसी भी वजह से इस साल ये टूर्नामेंट आयोजित नहीं हुआ तो, बीसीसीआई को तो लगभग 4000 करोड़ का नुकसान होगा ही, साथ में कुछ ऐसे लोग भी हैं जिनके लिए अपना परिवार पालना मुश्किल हो जाएगा. आइए आपको बताते हैं कुछ ऐसे ही लोगों के बारे में...

    आईपीएल के भरोसे है एक मोची का परिवार
    जी हां इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) का आयोजन चेन्नई के एक मोची के परिवार को रोटी की गारंटी देता है. आर भास्करन चेन्नई में मोची का काम करते हैं, जो चेन्नई सुपरकिंग्स टीम के साथ पहले सीजन से जुड़े हुए हैं. चेन्नई के रहने वाले भास्करन साल 1993 से एमए चिंदबरम स्टेडियम में हर मैच देख रहे हैं. पिछले 12 सालों से वो चेन्नई सुपरकिंग्स से भी जुड़े हुए हैं. वो चेन्नई की टीम के आधिकारिक मोची हैं. मैच के दिन वो खिलाड़ियों और मैच अधिकारियों के कमरों के पास काम करते हैं. भास्करन ने सचिन के पैड्स भी सिले हुए हैं. भास्करन को एमएस धोनी भी अच्छी तरह जानते हैं, कई बार उन्होंने साथ में चाय भी पी है. बता दें भास्करन आईपीएल के दौरान 1000 रुपये प्रति दिन कमा लेते हैं लेकिन अगर आईपीएल का आयोजन नहीं होता है तो उन्हें दो वक्त की रोटी के लिए तरसना पड़ सकता है. हाल ही में पूर्व भारतीय ऑलराउंडर इरफान पठान ने भास्करन की 25000 रुपये देकर मदद की थी.

    चीयरलीडर्स को लगेगी चपत
    आईपीएल (IPL) के भरोसे सिर्फ भारत में काम करने वाले लोग ही नहीं हैं, बल्कि विदेशी नागरिक भी इस टूर्नामेंट पर निर्भर हैं. चीयरलीडर्स पहले सीजन से ही आईपीएल का हिस्सा हैं और वो इस दौरान जबर्दस्त कमाई करती हैं. चीयरलीडर्स सोफिया रोज और क्लॉय मे को इस सीजन में मुंबई इंडियंस ने अपने साथ जोड़ा है. अगर आईपीएल नहीं होता है तो इन्हें बहुत बड़ा नुकसान हो सकता है. वहीं एक दूसरी चीयरलीडर कायली एनी थॉम्पसन ने तो आईपीएल के लिए अपनी नौकरी तक छोड़ दी है. वो अमेरिका में अपने परिवार के साथ रहती हैं लेकिन फिर कोरोना वायरस की वजह से ये टूर्नामेंट अनिश्तिकाल के लिए स्थगित हो गया और अब कायली के पास कमाई का कोई दूसरा जरिया नहीं.

    थ्रो डाउन स्पेशलिस्ट को लगेगा झटका
    आजकल बल्लेबाजों को तेज गेंदों को खेलने में ज्यादा दिक्कत पेश नहीं आती, वो आसानी से उसका सामना करते दिखते हैं. इसकी एक बड़ी वजह हैं थ्रो डाउन स्पेशलिस्ट जो टीम के बल्लेबाजों की प्रैक्टिस में अहम योगदान देते हैं. एक ऐसे ही थ्रो डाउन स्पेशलिस्ट वी नरसिम्हन भी हैं, जो कि चेन्नई सुपरकिंग्स के साथ जुड़े हैं. आईपीएल 2020 के शुरू होने से पहले चेन्नई सुपरकिंग्स ने अपना एक प्रैक्टिस कैंप लगाया था जिसमें रैना, रायडू और एमएस धोनी प्रैक्टिस कर रहे थे. इस कैंप में नरसिम्हन थ्रो डाउन स्पेशलिस्ट के तौर पर काम कर रहे थे. अब अगर इस सीजन आईपीएल रद्द होता है तो नरसिम्हन की जेब पर भी चपत लगनी तय है.

    अफरीदी के बाद अब इस दिग्गज खिलाड़ी को हुआ कोरोना वायरस, सास भी चपेट में आई

    कैसे 2011 वर्ल्‍ड कप फाइनल हारते ही कार कंपनी के मालिक बने क्रिकेट अधिकारी?'

    स्कोरिंग करने वाले लोगों को लगेगा झटका
    मैदान पर क्रिकेट स्कोरिंग करने वाले लोग भी आईपीएल के ना होने से प्रभावित होंगे. चेन्नई में रहने वाले राहुल राज एक कॉरपोरेट कंपनी में नौकरी करते थे लेकिन उन्होंने स्कोरिंग के लिए उसे छोड़ दिया. राहुल राज चेन्नई में विजय हजारे ट्रॉफी और रणजी ट्रॉफी में स्कोरिंग करते हैं और चेपॉक में होने वाले आईपीएल मैचों में भी वो यही काम करते हैं. आईपीएल में उन्हें 10 हजार रुपये प्रति मैच की कमाई होती है, मतलब 7 मैचों में उन्हें 70,000 रुपये मिलते हैं. वहीं घरेलू मुकाबलों में ये रकम 5000 रुपये प्रति मैच होती है. कोरोना वायरस की वजह से क्रिकेट बंद है और अब अगर आईपीएल भी नहीं हुआ तो इस स्कोरिंग करने वाले शख्स की जेब पर क्या असर पड़ेगा? इन छोटे लोगों के अलावा अंपायर, कमेंटेटर्स की जेब भी ढीली होगी.ऐसे में जाहिर है आईपीएल सिर्फ मनोरंजन और खेल नहीं है, ये कई लोगों के लिए अपना घर-परिवार चलाने का बहुत बड़ा जरिया भी है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज