धोनी के संन्यास पर सहवाग का बड़ा बयान, कहा-पूर्व कप्तान को उनकी आखिरी सीरीज के बारे में बताएं चयनकर्ता

टीम इंडिया के पूर्व ओपनर वीरेंद्र सहवाग ने चयनकर्ताओं से धोनी से बात करने को कहा है. (फाइल फोटो)

महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) के वर्ल्ड कप (World Cup) के बाद ही संन्यास (Retirement) लेने की अटकलें थी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. अब माना जा रहा है कि धोनी अगले साल टी-20 वर्ल्ड कप (T-20 World Cup) तक टीम के साथ बने रहेंगे.

  • Share this:
    आईसीसी वर्ल्ड कप 2019 (ICC World Cup 2019) के सेमीफाइनल से टीम इंडिया (Team India) की विदाई के बाद से ही महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) के संन्यास को लेकर चर्चाओं का बाजार गर्म है. हालांकि उनके वर्ल्ड कप के बाद भारत लौटते ही संन्यास लेने का अनुमान भी लगाया गया था, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. अब माना जा रहा है कि धोनी अगले साल ऑस्ट्रेलिया में होने वाले टी-20 वर्ल्ड कप तक टीम के साथ बने रहेंगे. इन सभी के बीच टीम इंडिया के पूर्व ओपनर वीरेंद्र सहवाग (Virender Sehwag) ने धोनी के संन्यास को लेकर बड़ा बयान दिया है.

    महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) ने वर्ल्ड कप के बाद खुद को वेस्टइंडीज दौरे (West Indies Tour) के लिए अनुपलब्‍ध बताया था. वेस्टइंडीज जाने की बजाय धोनी 15 दिन की आर्मी ट्रेनिंग (Army Training) के लिए जम्मू-कश्मीर चले गए थे. 31 जुलाई से शुरू हुई उनकी आर्मी ट्रेनिंग 15 अगस्त को पूरी हो गई थी. उसके बाद वह वापस लौट आए थे.

    हालांकि उनके संन्यास को लेकर अटकलों का बाजार अब भी गर्म ही है. इसी बीच वीरेंद्र सहवाग (Virender Sehwag) ने कहा है कि अगर चयनकर्ताओं को लगता है कि धोनी टीम में योगदान नहीं दे पा रहे हैं तो फिर उन्हें धोनी को बता देना चाहिए कि वो उन्हें आखिरी सीरीज दे रहे हैं.

    cricket, bcci, indian cricket team, mahendra singh dhoni, virender sehwag, dhoni retirement, क्रिकेट, भारतीय क्रिकेट टीम, वीरेंद्र सहवाग, बीसीसीआई, महेंद्र सिंह धोनी, धोनी रिटायरमेंट,
    टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी हाल ही में 15 दिन की आर्मी ट्रेनिंग करके लौटे हैं. (फाइल फोटो)


    हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) के संन्यास पर वीरेंद्र सहवाग (Virender Sehwag) ने कहा कि संन्यास कब लेना है ये फैसला करना पूरी तरह से धोनी का अधिकार है. अगर उन्हें लगता है कि वो फिट हैं और पहले की तरह योगदान दे सकते हैं तो फिर उनके खेलते रहने में कोई हर्ज नहीं है. लेकिन अगर चयनकर्ताओं को लगता है कि धोनी अब योगदान नहीं दे सकते हैं तो उन्हें धोनी को साफ कर देना चाहिए‌ कि हम आपको आखिरी सीरीज दे रहे हैं. ऐसे मामले में खिलाड़ी और चयनकर्ताओं के बीच हमेशा बात होनी चाहिए.

    यह नामुमकिन है...
    वीरेंद्र सहवाग ने कहा कि मैं नहीं जानता कि चयनकर्ता खिलाड़ी से बात कर रहे हैं या नहीं. हमने सिर्फ मुख्य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद को ये कहते हुए सुना है कि धोनी को ये संदेश दे दिया गया है कि वो पहली पसंद नहीं हैं. इसका मतलब ये हुआ कि वे पहले ऋषभ पंत को चुनेंगे और अगर जरूरत पड़ी तो फिर धोनी की ओर जाएंगे. यह नामुमकिन है. एक वक्त के बाद धोनी चयनकर्ताओं से बात करेंगे कि उन्हें एक रिटायरमेंट गेम चाहिए. यह तभी होगा जब धोनी को संन्यास लेने के लिए ये सही वक्त लगेगा.

    cricket, bcci, indian cricket team, mahendra singh dhoni, virender sehwag, dhoni retirement, क्रिकेट, भारतीय क्रिकेट टीम, वीरेंद्र सहवाग, बीसीसीआई, महेंद्र सिंह धोनी, धोनी रिटायरमेंट,
    महेंद्र सिंह धोनी की अगुआई में टीम इंडिया ने 2007 का टी-20 वर्ल्ड कप और 2011 का वनडे वर्ल्ड कप जीता था. (फाइल फोटो)


    दिग्गत बोर्ड की नहीं, बल्कि चयनकर्ताओं की संवादहीनता की है
    रिपोर्ट के अनुसार, सहवाग से जब पूछा गया कि क्या खिलाड़ियों के रिटायरमेंट के वक्त होने वाली समस्या की वजह बोर्ड से संवादहीनता एक वजह है तो उन्होंने कहा कि दिक्कत बोर्ड की नहीं, बल्कि चयनकर्ताओं की है. मुझे लगता है कि चयनकर्ताओं को खिलाड़ियों से बात करनी चाहिए. संवादहीनता बड़ी समस्या है. मुझसे किसी ने इस बारे में नहीं पूछा और मुझे लगता है कि मेरे जैसे और भी कई खिलाड़ी हैं. बता दें कि वीरेंद्र सहवाग को महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में ही 2013 में टीम से निकाल दिया गया था और उसके बाद से वे वापसी नहीं कर सके.

    कोहली को किया था दो बार आउट...अब लोगों की जान बचा रहा है वेस्टइंडीज का ये क्रिकेटर
    टीम मैनेजमेंट पर बरसे गावस्कर, कहा-इतना शानदार रिकॉर्ड, फिर भी प्लेइंग इलेवन में क्यों नहीं अश्विन

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.