पाकिस्तान में पढ़ाई जाती है चेतन शर्मा पर पोयम; ‘चेतन वाज़ बॉलिंग, जावेद वाज़ बैटिंग…’

चेतन शर्मा आईसीसी विश्व कप में हैट्रिक लेने वाले दुनिया के पहले गेंदबाज हैं. (फाइल फोटो)
चेतन शर्मा आईसीसी विश्व कप में हैट्रिक लेने वाले दुनिया के पहले गेंदबाज हैं. (फाइल फोटो)

शाहिद आफरीदी (Shahid Afridi) ने अपनी आत्मकथा गेम चेंजर (Game Changer) में इस पोयम के बारे में लिखा है. वे कहते हैं कि यह सिर्फ एक छक्के या जीत की बात हीं है. यह तो मनोवैज्ञानिक बढ़त की बात है.

  • News18India
  • Last Updated: April 18, 2020, 5:19 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. खिलाड़ी किसी भी देश के रोलमॉडल होते हैं. हर देश अपने महान खिलाड़ियों पर गर्व करता है. उसके बारे में फिल्में और सीरियल बनते हैं. स्कूल के पाठ्यक्रम में भी खिलाड़ियों को जगह मिलती है. हममें से हर किसी ने स्कूली दिनों अपनी क्लास में ध्यानचंद, रंजीत सिंह जैसे आदर्श खिलाड़ियों को पढ़ा होगा. क्या आप यकीन करेंगे कि पाकिस्तान (Pakistan) के स्कूल में भारतीय गेंदबाज चेतन शर्मा (Chetan Sharma) के बारे में भी कविता पढ़ाई जाती है?

दरअसल, भारत और पाकिस्तान (INDvsPAK) क्रिकेट का जब भी जिक्र छिड़ता है तो यह बिना चेतन शर्मा और मियांदाद के पूरा नहीं होता. जावेद मियांदाद (Javed Miandad)  पाकिस्तान के महान बल्लेबाज रहे हैं. 1980 के दशक में उनके नाम की तूती बोलती थी. 1986 में शारजाह में खेले गए ऑस्ट्रेलेशिया कप के फाइनल में जावेद ने पाकिस्तान को भारत पर असंभव सी जीत दिलाई थी. उन्होंने मैच की आखिरी गेंद पर छक्का लगाया था. यह ओवर चेतन कर रहे थे.

संयोग से यह मैच आज से 34 साल पहले 18 अप्रैल (1986) को ही खेला गया था. हालांकि, यह कहना सही नहीं होगा कि जावेद मियांदाद इस मैच के बाद अपने देश के हीरो बन गए. वे हीरो तो पहले से ही थे. इस एक छक्के ने उनका कद जरूर बढ़ा दिया. तभी तो पाकिस्तानी स्कूलों में जावेद मियांदाद और चेतन शर्मा की भिड़ंत की कविता पढ़ाई जाती है. यह पोयम कुछ ऐसी है:



द डेजर्ट वाज़ बर्निंग
चेतन वाज़ बॉलिंग
जावेद वाज़ बैटिंग
रन रिक्वायर्ड फोर
दिस हैड नेवर हैपेंड बिफोर
चेतन बोल्ड ए स्ट्रेंज बॉल
इट नेवर टच्ड द ग्राउंड एट ऑल
यू नो वॉट हैपेंड टू दैट बॉल?
इट वेंट स्ट्रेट इनटू द वीआईपी हॉल!

शाहिद आफरीदी (Shahid Afridi) ने अपनी आत्मकथा गेम चेंजर (Game Changer) में इस पोयम के बारे में लिखा है. अफरीदी कहते हैं कि यह सिर्फ एक छक्के या जीत की बात हीं है. यह तो मनोवैज्ञानिक बढ़त की बात है. भारत और पाकिस्तान हमेशा कट्टर प्रतिद्वंद्वी रहे हैं. ऐसे में जावेद का यह शॉट करोड़ों पाकिस्तानियों और भारतीयों के दिलो-दिमाग में बस गया था. इस छक्के ने पाकिस्तान को भारत पर मनोवैज्ञानिक बढ़त दिला दी थी. हालांकि, कुछ साल बाद भारत इस झटके से उबर गया. लेकिन आज भी जब यूएई में भारत से मैच होता है तो पाकिस्तान का मनोबल ऊंचा हो जाता है.

चेतन के नाम है विश्व कप की पहली हैट्रिक
बता दें कि चेतन शर्मा के नाम आईसीसी विश्व कप में पहली हैट्रिक लेने का रिकॉर्ड है. उन्होंने 1987 में न्यूजीलैंड के खिलाफ यह कारनामा किया था. उन्होंने लगातार तीन गेंदों पर विपक्षी बल्लेबाजों को क्लीन बोल्ड किया था. शर्मा ने अपने 10 साल के इंटरनेशनल करियर में 65 वनडे और 23 टेस्ट मैच खेले.

यह भी पढ़ें:

ICC ने कुरेदा चेतन शर्मा का जख्म, जो जावेद मियांदाद ने 34 साल पहले दिया था

हेल्थ वर्कर्स के लिए तालियां बजाने पर भड़के स्टोक्स,कहा-कैमरे पर आने के लिए...
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज