होम /न्यूज /खेल /

'तुम मोटे हो, ऑस्ट्रेलिया के लिए क्रिकेट खेलने के लायक नहीं..' शेन वॉर्न के दिल पर ऐसी लगी कि बन गए फिरकी के जादूगर

'तुम मोटे हो, ऑस्ट्रेलिया के लिए क्रिकेट खेलने के लायक नहीं..' शेन वॉर्न के दिल पर ऐसी लगी कि बन गए फिरकी के जादूगर


शेन वॉर्न को जब उनके शुरुआती कोच टैरी जेनर ने देखा था तो वजन और मोटापे के अलावा अनुशासन को लेकर भी काफी लताड़ लगाई थी. इसका जिक्र वॉर्न ने अपनी किताब 'No Spin' में किया है. (AP)

शेन वॉर्न को जब उनके शुरुआती कोच टैरी जेनर ने देखा था तो वजन और मोटापे के अलावा अनुशासन को लेकर भी काफी लताड़ लगाई थी. इसका जिक्र वॉर्न ने अपनी किताब 'No Spin' में किया है. (AP)

शेन वॉर्न ने 52 साल की उम्र में दुनिया को अलविदा (Shane Warne Death) कह दिया. उनकी गिनती महानतम स्पिनरों में होती है लेकिन उनकी इस खेल में शुरुआत आसान नहीं थी. उनके शुरुआती कोच टैरी जेनर ने जब उन्हें देखा था तो काफी लताड़ लगाई थी. वॉर्न ने उस मुलाकात का जिक्र अपनी किताब 'No Spin' में किया है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. दुनिया के महानतम गेंदबाजों में शुमार ऑस्ट्रेलिया के दिग्गज शेन वॉर्न (Shane Warne) ने 52 साल की उम्र में इस दुनिया को अलविदा कह दिया. वॉर्न (Shane Warne Death) ने क्रिकेट के मैदान पर कई रिकॉर्ड बनाए और तोड़े लेकिन इस खेल में आना उनके लिए आसान नहीं रहा. साल 1992 में टेस्ट डेब्यू करने वाले वॉर्न पहले काफी मोटे थे. उनके शुरुआती कोच टैरी जेनर ने उनके वजन को देखते हुए यहां तक कह दिया था कि वह ऑस्ट्रेलिया के लिए खेलने के लायक नहीं हैं. यह बात वॉर्न को दिल पर लगी और बाद में उन्होंने फिरकी के जादूगर के तौर पर ऐसा नाम कमाया कि कई युवाओं के रोल मॉडल बन गए.

शेन वॉर्न ने अपनी किताब ‘नो स्पिन’ में इस बात का जिक्र किया है. वॉर्न ने क्रिकेट के अपने सपने, बीयर और जंक फूड के प्रति प्यार और टर्निंग प्वॉइंट का जिक्र अपनी किताब में किया है. वॉर्न ने कोच टैरी जेनर से मिलने के बारे में लिखा है. किताब में उन्होंने लिखा, ‘जब मैं कोच टैरी जेनर से मिला तो काफी मोटा था. मुझे देखकर जेनर ने कहा था- तुम्हारा वजन बहुत ज्यादा है, असल में तुम बहुत मोटे हो. तुममें बिलकुल अनुशासन नहीं है और तुम सोचते हो कि तुम बेहतर हो. तुम ऑस्ट्रेलिया के लिए खेलने के लायक नहीं हो.’

इसे भी देखें, शेन वॉर्न ने 12 घंटे पहले लीजेंड की मौत पर जताया था दुख, फैंस बोले- नहीं हो रहा विश्वास

यही मुलाकात वॉर्न के लिए टर्निंग प्वॉइंट साबित हुई. वॉर्न ने मेहनत की, फिटनेस पर काफी काम किया और दुनिया को दिखा दिया कि किसी सपने को कैसे मेहनत की बदौलत पूरा किया जाता है. भारत के खिलाफ सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर अपने करियर का पहला टेस्ट मैच खेलने वाले वॉर्न को 1992 से 2007 के बीच उनकी अतुल्य उपलब्धियों के लिए विजडन ने शताब्दी के पांच क्रिकेटरों में चुना था. उन्हें 2013 में आईसीसी हाल ऑफ फेम में शामिल किया गया.

शेन वॉर्न 1999 में विश्व कप जीतने वाली ऑस्ट्रेलियाई टीम के सदस्य थे. उनके नाम कई रिकॉर्ड दर्ज हैं. वह टेस्ट में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाज हैं. उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ एशेज क्रिकेट में सर्वाधिक 195 विकेट लिए हैं.

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कहने के बाद उन्होंने दुनिया की सबसे अमीर क्रिकेट लीग आईपीएल में भी नाम कमाया. वॉर्न ने 2008 में राजस्थान रॉयल्स को लीग के पहले ही सीजन में कप्तान और कोच के रूप में खिताब दिलाया. मैदान के भीतर और बाहर बेहतरीन शख्सियत के मालिक वॉर्न ने कमेंटेटर के रूप में भी कामयाबी पाई.

Tags: Australia, Australia Cricket Team, Cricket news, On This Day, Shane warne

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर