शार्दुल ठाकुर की सचिन तेंदुलकर से हुई तुलना, नया नाम पड़ा शार्दुलकर

शार्दुल ठाकुर ने ब्रिसबेन टेस्ट में शानदार 67 रनों की पारी खेली थी. (PIC: AP)

शार्दुल ठाकुर (Shardul Thakur) की कवर ड्राइव की तुलना महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) के शॉट से हो रही है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ब्रिसबेन के गाबा मैदान में खेले गए आखिरी और फाइनल टेस्ट में भारतीय गेंदबाज शार्दुल ठाकुर (Shardul Thakur) ने ऐतिहासिक प्रदर्शन किया था. ठाकुर ने चौथे टेस्ट में भारत की पारी में कुछ आकर्षक शॉट लगाए थे जिसमें बेहतरीन कवर ड्राइव भी शामिल था. ठाकुर की कवर ड्राइव की तुलना महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) के शॉट से हो रही है. कवर ड्राइव सचिन का पसंदीदा शॉट था. 29 वर्षीय मुंबई के इस खिलाड़ी को शार्दुलकर (Shardulkar) नया निकनेम भी मिला है.

    शार्दुल की पारी ने बदली मैच की तस्वीर
    फाइनल टेस्ट से पहले बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी 1-1 से बराबर थी. ब्रिसबेन में पहले बल्लेबाजी करते हुए ऑस्ट्रेलिया ने मार्नस लाबुशेन की शतक की बदौलत 369 रन बनाए. भारत को बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी अपने पास रखने के लिए हर हाल में यह टेस्ट ड्रॉ कराना जरूरी था. एक समय भारतीय टीम 186 रन पर छह विकेट खोकर संघर्ष कर रही थी. आठवें नंबर पर बल्लेबाजी करने उतरे शार्दुल ठाकुर ने वॉशिंगटन सुंदर के साथ 123 रनों की साझेदारी करके मैच का रुख बदल दिया. ठाकुर ने 115 गेंदों में नौ चौके और दो छक्के की मदद से 67 रन बनाए. उनके अलावा सुंदर ने भी 62 रनों का योगदान दिया. इन दोनों बल्लेबाजों की बदौलत भारत पहली पारी में 336 रन बनाने में सफल रहा.

    शार्दुल पहली पारी में भारत की ओर सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी रहे. अपनी पारी में शार्दुल ने शानदार कवर ड्राइव पर चौका भी जड़ा. भारत के फील्डिंग कोच आर श्रीधर ने उनके शॉट की तुलना सचिन तेंदुलकर के कवर ड्राइव से की है. उन्होंने कहा कि तेंदुलकर के बाद हमारे पास शार्दुलकर हैं जो कवर ड्राइव खेल रहे हैं.

    यह भी पढ़ें:

    ऑस्‍ट्रेलिया दौरे से लौटने के बाद वाशिंगटन सुंदर ने शेयर की अपनी 2 अनमोल संपत्ति की तस्‍वीर

    IND vs ENG: सीरीज का आगाज करने से पहले चेन्‍नई में बनेगी विराट कोहली की 'टीम इंडिया'

    गेंदबाजी में भी मचाया धमाल
    अक्टूबर 2018 में वेस्टइंडीज के खिलाफ डेब्यू करने वाले ठाकुर अपने पहले मैच में सिर्फ 10 गेंद फेंकने के बाद चोटिल होकर मैदान से बाहर चले गए. वापस टीम में आने के लिए उन्होंने 26 महीनों का लंबा इंतजार करना पड़ा. जसप्रीत बुमराह के चोटिल होने की वजह से उन्हें ब्रिसबेन में खेलने का मौका मिला. ठाकुर ने इस मौके को पूरी तरह भुनाया. पहली पारी में उन्होंने 94 रन देकर तीन जबकि दूसरी पारी में 61 रन देकर चार विकेट हासिल लिया. ब्रिसबेन में वह भारत की तरफ सबसे ज्यादा विकेट हासिल करने वाले गेंदबाज रहे.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.