लाइव टीवी

बड़ा खुलासा: खराब फॉर्म की वजह से मनोचिकित्सक के पास गया था ये भारतीय बल्लेबाज!

भाषा
Updated: April 6, 2020, 7:50 PM IST
बड़ा खुलासा: खराब फॉर्म की वजह से मनोचिकित्सक के पास गया था ये भारतीय बल्लेबाज!
मौजूदा दौर में कई ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर डिप्रेशन (Depression) का शिकार हो चुके हैं, अब खुलासा हुआ है कि एक भारतीय खिलाड़ी भी मनोचिकित्सक के पास गया था

मौजूदा दौर में कई ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर डिप्रेशन (Depression) का शिकार हो चुके हैं, अब खुलासा हुआ है कि एक भारतीय खिलाड़ी भी मनोचिकित्सक के पास गया था

  • Share this:
नई दिल्ली. बीते कुछ महीनों में कई क्रिकेटरों के डिप्रेशन में होने की खबरों ने सुर्खियां बनाई है. ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर ग्लेन मैक्सवेल, पुकोवोस्की जैसे नाम डिप्रेशन का शिकार हुए हैं. हालांकि भारतीय क्रिकेटरों में ऐसी समस्या नहीं देखी गई. लेकिन अब टीम इंडिया के युवा बल्लेबाज श्रेयस अय्यर (Shreyas Iyer) के पिता ने खुलासा किया है कि वो अपने बेटे को महज 16 साल की उम्र में मनोचिकित्सक के पास ले गए थे क्योंकि उनकी फॉर्म खराब हो गई थी.

श्रेयस अय्यर को मनोचिकित्सक के पास पिता ले गए
भारतीय क्रिकेटर श्रेयस अय्यर (Shreyas Iyer) के पिता संतोष अय्यर ने कहा कि जब उनके बेटे के प्रदर्शन में गिरावट आयी तो उन्होंने मनोचिकित्सक से मदद ली जिससे इस क्रिकेटर को खेल में सुधार करने में मदद मिली. संतोष ने ‘क्रिकबज’ के कार्यक्रम ‘स्पाइसी पिच’ में बताया कि अय्यर जब 16 साल के थे और उनके खेल में गिरावट आयी थी तब उन्हें डांट से ज्यादा मनोचिकित्सक की सलाह की जरूरत महसूस हुई. आमतौर पर भारतीय परिवेश में जिन अभिभावकों को अपने बच्चों से ज्यादा उम्मीदें होती है , वह उनके लिए अच्छा करने की चाहत में नुकसान कर बैठते हैं.

16 साल की उम्र में भटका अय्यर का ध्यान!



सीमित ओवरों की भारतीय टीम में जगह पक्की कर चुके अय्यर के पिता ने कहा, 'जब वह चार साल का था तब वह घर में प्लास्टिक की गेंद से खेलता था. उस समय भी वह गेंद को बल्ले के बीचों बीच से मारता था. इससे हमें उनके प्रतिभा के बारे में पता चला। हम उसकी उस प्रतिभा को निखारने के लिए जो भी संभव था वह करने की कोशिश कर रहे थे.' मुंबई अंडर-16 के लिए खेलते समय अय्यर के प्रदर्शन में गिरावट आयी तो कोच ने कहा कि उसका ध्यान भटक रहा है.



संतोष अय्यर ने कहा, टजब एक कोच ने कहा कि आपके बेटे के पास प्रतिभा की कोई कमी नहीं है लेकिन उसका ध्यान भटक रहा है. मैं थोड़ा चिंतित हो गया था. मुझे लगा कि वह किसी के प्यार में पड़ गया है या गलत संगत में आ गया है.' उन्होंने बताया कि यह नौ साल पहले की बात है और उस समय मनोचिकित्सा को ज्यादा महत्व नहीं दिया जाता था. आमतौर पर ऐसे समय में अभिभावक बच्चों को डांटते थे लेकिन मैंने उसे मनोचिकित्सक के पास ले जाने का फैसला किया.

मनोचिकित्सक ने मुझे कहा, 'आखिरकार, मुझे बताया गया कि चिंता की कोई बात नहीं है. ज्यादातर क्रिकेटरों की श्रेयस भी खराब दौर से गुजर रहा है. फिर उसने जल्द ही लय हासिल कर ली और फिर पीछे मुड़कर नहीं देखा.' बता दें अय्यर (Shreyas Iyer) ने 18 एकदिवसीय में 748 रन बनाये है जहां उनका औसत लगभग 50 का है. उन्होंने 22 टी20 अंतरराष्ट्रीय में 27 से अधिक के औसत से 417 रन बनाये हैं.

लॉकडाउन के बीच कॉलगर्ल को घर बुलाया, इस दिग्गज खिलाड़ी पर अब होगी कार्रवा

पीएम मोदी के कहने पर कैफ ने जलाए दीये तो भड़क गए फैंस, कहा-मुसलमान...

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 6, 2020, 7:09 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading