लाइव टीवी

सौरव गांगुली के हाथों में है चयन समिति का भविष्य, सेलेक्टर्स के कार्यकाल का करेंगे फैसला

भाषा
Updated: October 24, 2019, 8:42 PM IST
सौरव गांगुली के हाथों में है चयन समिति का भविष्य, सेलेक्टर्स के कार्यकाल का करेंगे फैसला
गांगुली ने संभाला बीसीसीआई का कामकाज

सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) जल्द ही चयनकर्ताओं (Selectors) के साथ बैठक करने वाले हैं और इस दौरान इस मामले पर चर्चा होने की संभावना है.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. बीसीसीआई (BCCI) के नये संविधान के अनुसार एमएसके प्रसाद (MSK Prasad) की अगुवाई वाली चयनसमिति का कार्यकाल अभी बचा हुआ है. लेकिन बोर्ड के नये अध्यक्ष सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) फैसला करेंगे कि क्या पैनल को पांच साल का कार्यकाल पूरा करना चाहिए या नहीं.

पुराने संविधान के अनुसार चयनकर्ताओं का कार्यकाल चार साल था लेकिन अब प्रभावी हो चुके संशोधित संविधान में अधिकतम पांच साल के कार्यकाल का प्रावधान है.

नए संविधान के बाद बदले नियम
नये संविधान के अनुच्छेद 26(3) में लिखा है, ‘किसी भी व्यक्ति जो किसी क्रिकेट समिति का कुल पांच वर्ष तक सदस्य रहा हो वह किसी अन्य क्रिकेट समिति का सदस्य बनने के योग्य नहीं होगा.’ प्रसाद (दक्षिण क्षेत्र) और गगन खोड़ा (मध्य क्षेत्र) को 2015 में बीसीसीआई की वार्षिक आम बैठक (एजीएम) में नियुक्त किया गया था और नये संविधान के अनुसार उनका कार्यकाल सितंबर 2020 में समाप्त होगा.

cricket, bcci, indian cricket team, india vs west indies, sanjay bangar, west indies cricket team, क्रिकेट, बीसीसीआई, भारतीय क्रिकेट टीम, इंडिया वस वेस्टइंडीज, संजय बांगड़, वेस्टइंडीज क्रिकेट टीम, west indies cricket team
एमएसके प्रसाद मौजूदा चयन समिति के अध्यक्ष हैं (फाइल फोटो)


अन्य चयनकर्ताओं में जतिन परांजपे (पूर्व क्षेत्र), सरनदीप सिंह (उत्तर क्षेत्र) और देवांग गांधी (पूर्व क्षेत्र) ने 2016 में शुरुआत की थी और उनका दो साल का कार्यकाल बचा हुआ है. गांगुली की चयनकर्ताओं के साथ बैठक के दौरान इस मामले पर चर्चा होने की संभावना है.

सौरव गांगुली ने दिए थे बदलाव के संकेत
Loading...

चयनकर्ताओं के अनुबंध में एक उपबंध है जिसमें कहा गया है कि प्रत्येक एजीएम में उनके अनुबंध का नवीनीकरण करने की जरूरत होगी. प्रशासकों की समिति के बोर्ड का संचालन करने के कारण 2017 और 2018 में कोई एजीएम नहीं हुई थी और इस तरह से पैनल बना रहा. गांगुली ने संकेत दिये हैं कि प्रसाद और खोड़ा की जगह नये सदस्य रखे जाएंगे जबकि परांजपे, गांधी और सरनदीप का एक साल बचा हुआ है. माना जा रहा है कि गांगुली का बयान पुराने संविधान पर आधार था जिसमें चार साल के कार्यकाल (आखिरी वर्ष कार्यकाल बढ़ाये जाने पर निर्भर) था.

बीसीसीआई के एक सदस्य ने गोपनीयता की शर्त पर कहा, ‘अध्यक्ष तीन को रख सकता है और दो की जगह नये सदस्य रख सकता और यहां तक कि आमूलचूल बदलाव करके क्रिकेट सलाहकार समिति को पांच नये सदस्य रखने के लिये कह सकता है.’

इन 5 बल्लेबाजों को न चुन सेलेक्टर्स ने की बड़ी गलती! छक्कों की करते हैं बारिश

बांग्लादेश के खिलाफ टेस्ट सीरीज के लिए टीम इंडिया का ऐलान, नदीम हुए बाहर

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 24, 2019, 7:54 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...