अपना शहर चुनें

States

Sourav Ganguly Health Updates: सौरव गांगुली की हालत स्थिर, 4 सदस्यीय मेडिकल बोर्ड का गठन

सौरव गांगुली कोलकाता के अपोलो अस्पताल में भर्ती हैं.
सौरव गांगुली कोलकाता के अपोलो अस्पताल में भर्ती हैं.

Sourav Ganguly Health Updates: सौरव गांगुली को फिलहाल निगरानी में रखा गया है और उनकी हालत स्थिर है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 27, 2021, 6:24 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पूर्व भारतीय कप्तान और भारतीय क्रिकेट बोर्ड (BCCI) अध्यक्ष सौरव गांगुली को सीने में दर्द और बेचैनी की शिकायत के बाद बुधवार दोपहर फिर से अस्पताल ले जाया गया. अस्पताल की ओर से कहा गया है कि गांगुली की हालत स्थिर है और वह सिर्फ रूटीन चेकअप के लिए आए हैं. उनकी एंजियोप्लास्टी हुए को अभी एक महीना भी नहीं बीता है. इस महीने की शुरुआत में 48 वर्षीय गांगुली की एंजियोप्लास्टी हुई थी. उनकी धमनियों में रूकावट पाई गई थी.

पूर्वी कोलकाता स्थित अपोलो अस्पताल ने एक बयान में कहा, "48 वर्षीय गांगुली अपने हार्ट की जांच कराने के लिए आए हैं. अस्पताल में भर्ती में होने के बाद उनके पैरामीटर में कोई बदलाव नहीं हुआ है." परिवार के करीबी सूत्र ने कहा कि मंगलवार शाम से गांगुली अच्छा महसूस नहीं कर रहे थे. बुधवार को भी ऐसी स्थिति बने रहने पर उनका ईसीजी किया जिसमें कुछ बदलाव दिखे. पीटीआई की एक रिपोर्ट के अनुसार, उन्हें चक्कर आ रहा था और सीने में हल्की सी तकलीफ थी. सूत्र ने कहा कि परिवार ने गांगुली को अस्पताल ले जाने का फैसला किया.

कोलकाता पुलिस ने बेहाला स्थित उनके आवास से आसानी से अस्पताल पहुंचाने के लिए ग्रीन कोरिडोर बनाया. इससे पहले इस महीने की शुरुआत में भारत के पूर्व कप्तान को व्यायाम करते हुए सीने में दर्द उठा था. उनके इलाज के लिए नौ सदस्यीय चिकित्सा टीम बनाई गई थी. डॉक्टर देवी शेट्टी, आर के पांडा, सैमुअल मैथ्यू, अश्विन मेहता और न्यूयॉर्क से शमिन के शर्मा जैसे विशेषज्ञों से राय लेने के बाद दिल की नसों में स्टेंट डाला गया था.



यह भी पढ़ें:
बड़ी खबर: IPL 2021 के लिए 18 फरवरी को चेन्‍नई में लगेगी खिलाड़ियों पर बोली

PAK vs SA: पाकिस्तानी विकेटकीपर रिजवान ने ऐसा किया रन आउट, याद आ गए जोंटी रोड्स- देखें Video

उस समय कहा गया था कि सौरव गांगुली को जरूरत पड़ने पर कुछ हफ्तों बाद एक और स्टेंट डाला जा सकता है. फिलहाल गांगुली को अभी निगरानी में रखा जाएगा. उनके इलाज के लिए गठित 4 सदस्यीय मेडिकल बोर्ड द्वारा आवश्यकता महसूस होने के बाद ही उनकी धमनियों में स्टेंट डाला जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज