• Home
  • »
  • News
  • »
  • sports
  • »
  • सचिन तेंदुलकर ने डेब्यू टेस्ट में दूर किया था सौरव गांगुली का टेंशन, पूर्व कप्तान ने सुनाया इससे जुड़ा किस्सा

सचिन तेंदुलकर ने डेब्यू टेस्ट में दूर किया था सौरव गांगुली का टेंशन, पूर्व कप्तान ने सुनाया इससे जुड़ा किस्सा

सौरव गांगुली ने 20 जून 1996 को इंग्लैंड के खिलाफ लॉर्ड्स में टेस्ट डेब्यू किया था. उन्होंने पहले टेस्ट में ही 131 रन की पारी खेली थी. (Sourav Ganguly Instagram)

सौरव गांगुली ने 20 जून 1996 को इंग्लैंड के खिलाफ लॉर्ड्स में टेस्ट डेब्यू किया था. उन्होंने पहले टेस्ट में ही 131 रन की पारी खेली थी. (Sourav Ganguly Instagram)

पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली (Sourav Ganguly Test Debut) ने 20 जून 1996 को लॉर्ड्स में टेस्ट डेब्यू किया था. उनके टेस्ट करियर के 25 साल पूरे हो गए हैं. गांगुली का डेब्यू टेस्ट में शतक 22 जून को पूरा हुआ था. उन्होंने इससे जुड़ा एक किस्सा साझा किया कि कैसे सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ने उनका टेंशन दूर किया था.

  • Share this:
    नई दिल्ली. सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) की गिनती दुनिया के सबसे सफल कप्तानों में की जाती है. उनके अंतरराष्ट्रीय करियर में 22 जून की तारीख खास है. क्योंकि इसी दिन उन्होंने 1996 में अपने टेस्ट करियर के पहले मैच में ही शतक जड़ा था. हालांकि, लॉर्ड्स में यह मैच 20 जून को शुरू हुआ था और दूसरे ही दिन यानी 21 जून को गांगुली बल्लेबाजी को उतर गए थे. लेकिन उनका शतक तीसरे दिन पूरा हुआ. गांगुली को आज भी अपना टेस्ट डेब्यू याद है. उन्होंने टेस्ट डेब्यू के 25 साल पूरे होने पर उस ऐतिहासिक पारी से जुड़ा एक किस्सा सुनाया, जिसने एक खिलाड़ी के तौर पर उनकी पहचान बुलंद की.

    स्टार स्पोर्ट्स से हुई बातचीत में पूर्व भारतीय कप्तान गांगुली ने कहा कि लॉर्ड्स मेरे लिए हमेशा से ही खास मैदान रहा है. यहां से मेरी कई यादें जुड़ी हुईं हैं. बहुत कम लोगों को अपना पहला टेस्ट लॉर्ड्स में खेलने को मिलता है. मुझे आज भी याद है कि मैं पॉइंट पर फील्डिंग कर रहा था और पूरा स्टेडियम भरा था. मैं डेब्यू टेस्ट के बाद जब भी लॉर्ड्स गया हूं, तो मुझे हमेशा खास अहसास हुआ.

    मेरे हर शॉट पर लोग तालियां बजा रहे थे: गांगुली
    उन्होंने आगे कहा कि उस टेस्ट में मुझे तीन नंबर पर बल्लेबाजी करनी थी. मैंने टेस्ट के तीसरे दिन शनिवार को अपना शतक पूरा किया, टेस्ट क्रिकेट के लिहाज से लॉर्ड्स में सबसे शानदार दिन था. क्योंकि पूरा स्टेडियम भरा हुआ था. डेब्यू पर मैंने शतक मारा था. इससे बेहतर कुछ नहीं हो सकता था. क्योंकि मुझे याद है कि हर शॉट पर लोग तालियां बजा रहे थे. चाय ब्रेक पर मैं 100 पूरा करके ड्रेसिंग रूम लौटा था.

    'सचिन ने मुझे ऑफर की थी'
    इस बातचीत के दौरान गांगुली ने सचिन तेंदुलकर से जुड़ा एक खास किस्सा भी सुनाया. उन्होंने बताया कि कैसे सचिन ने डेब्यू टेस्ट पर उनका टेंशन दूर किया था. गांगुली ने कहा कि मुझे याद है कि टी ब्रेक के दौरान मैं 100 पर खेल रहा था और शारीरिक से ज्यादा मानसिक रूप से थक चुका था. क्योंकि ये मेरा पहला शतक था और वो भी डेब्यू टेस्ट में. मैं बल्ले के हैंडल के चारों ओर टेप लगा रहा था. क्योंकि उछाल भरी गेंदों के कारण वो नरम होना शुरू हो गया था. मुझे याद है कि सचिन मेरे पास आए और कहा- तुम आराम करो, चाय का प्याला लो. मुझे वो पल याद है, जब मैं ड्रेसिंग रूम में गया था और मेरी उपलब्धि के कारण हर कोई मुझे चीयर करने के लिए ड्रेसिंग रूम के बाहर खड़ा था.

    यह भी पढ़ें: PSL Final 2021: मुल्तान सुल्तांस ने पेशावर जाल्मी को हराकर पहली बार जीता पीएसएल का खिताब

    ENG vs SL 2nd T20: इंग्लैंड दूसरे टी20 में श्रीलंका के खिलाफ मुश्किल से जीता, मलान फिर हुए फ्लॉप

    गांगुली ने डेब्यू टेस्ट में 131 रन की पारी खेली
    इंग्लैंड ने तब पहली पारी में 344 रन बनाए थे. इसके जवाब में भारत का पहला विकेट जल्दी गिर गया था. विक्रम राठौर 15 रन बनाकर आउट हो गए थे. तीन नंबर पर आए गांगुली ने 131 रन की शानदारी पारी खेली. उन्होंने 20 चौके जड़े. गांगुली की इस पारी के कारण भारत ने पहली पारी में 429 रन बनाए और मैच ड्रॉ रहा. गांगुली ने 113 टेस्ट में 42 से ज्यादा के औसत से 7212 रन बनाए. उन्होंने 16 शतक और 35 अर्धशतक लगाए थे.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज