B'Day Special: डॉक्टर की डिग्री छोड़ क्रिकेट को बनाया करियर, पर Corona ने कर दिया खेल

B'Day Special: डॉक्टर की डिग्री छोड़ क्रिकेट को बनाया करियर, पर Corona ने कर दिया खेल
लाउरा वोल्वार्ट महज 21 साल की उम्र में 50 वनडे मैच खेल चुकी हैं.

स्टार क्रिकेटर लाउरा वोल्वार्ट (Laura Wolvaardt) 70 इंटरनेशनल मैच खेल चुकी हैं. हालांकि, उन्होंने दो महीने पहले ही यह तय किया है कि वे डॉक्टर की बजाय क्रिकेटर बनेंगी.

  • News18India
  • Last Updated: April 26, 2020, 6:25 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. सिर मुंडाते ही ओले पड़े. आपने यह कहावत तो सुनी होगी. लगता है यह कहावत अफ्रीकी स्टार क्रिकेटर लाउरा वोल्वार्ट (Laura Wolvaardt) के लिए ही बनी हो, जो 70 इंटरनेशनल मैच खेल चुकी हैं. कुछ समय पहले तक यह तय नहीं था कि लॉउरा क्रिकेट को करियर बनाएंगी. वजह- वे डॉक्टर की पढ़ाई कर रही थीं और क्रिकेट महज उनका शौक था. लेकिन दो नाव की सवारी कितने दिन खिंचती. आखिर वो वक्त भी आ गया जब लाउरा को क्रिकेट और मेडिकल की पढ़ाई की पढ़ाई में से एक चुनना पड़ा. पिता ने सशर्त क्रिकेट खेलने की छूट दी. इस तरह लाउरा ने क्रिकेट को अपना करियर बनाने का निर्णय लिया.

तो फिर सिर मुडाते ही ओले पड़े, की बात कहां से आई? इसका जवाब आपको लाउरा की बातों में ही मिल जाएगा. उन्होंने एक इंटरव्यू में क्रिकइंफो से कहा कि दो महीने पहले तक वह उधेड़बुन में थीं कि डॉक्टर बनना है या क्रिकेटर. आखिर लंबी कश्मकश के बाद क्रिकेटर बनने का निर्णय लिया कि क्रिकेटर बनना है. इसमें भी पिता जी ने एक शर्त जोड़ी कि खेलने के साथ कुछ ना कुछ पढ़ते रहना होगा. अब जबकि यह तय हो गया है कि अगले कुछ साल तक क्रिकेट ही खेलनी है तो कोरोना वायरस (Coronavirus) के चलते खेल ही बंद हो गया.

दक्षिण अफ्रीका (South Africa) की लाउरा वोल्वार्ट का 26 अप्रैल को 21 साल की हो जाएंगी. वे अपना जन्मदिन कैसे मनाएंगी? इस सवाल के जवाब में लाउरा कहती हैं, ‘कुछ खास नहीं. कुछ दोस्तों के साथ घर पर छोटी सी पार्टी करेंगे. मम्मी केक बनाएंगी और बाहर से कुछ मिठाई मंगाई जाएगी. इन दिनों में इससे ज्यादा की उम्मीद नहीं की जा सकती.’



मेडिकल की पढ़ाई का क्या किस्सा है, विस्तार से बताइए? लाउरा इसके जवाब में कहती हैं, ‘जब वे 16 साल की थी, तब दक्षिण अफ्रीकी क्रिकेट टीम में चुन ली गई थीं. इस बीच पढ़ाई जारी रही. 2018 में मेडिसिन की पढ़ाई के लिए भी सिलेक्शन हो गया. अभी एक महीने ही पढ़ाई की थी कि भारतीय दौरे के लिए टीम में फिर चुन ली गई. इसके बाद यूनिवर्सिटी से एक साल का गैप ले लिया. 2019 में दोबारा गैप लेना पड़ा. तीसरे साल यह विकल्प नहीं था. इस बार क्रिकेट या पढ़ाई में से एक चुनना था. लंबी बहस और कश्मकश के बाद मैंने क्रिकेट चुन लिया.’
क्रिकेट को करियर चुनने में मुश्किल क्या थी? इस सवाल के जवाब में लाउरा कहती हैं, ‘महिला क्रिकेट में नाम तो है, लेकिन ज्यादा पैसा नहीं है. ऐसे में आपको 30-35 की उम्र के बारे में सोचना होगा, जब आप रिटायर हो चुकी होंगी और कमाई निश्चित नहीं होगी. ऐसे में कुछ ना कुछ ऐसा पढ़ना होगा, जो उस वक्त आपको नौकरी दिला सके.’ लाउरा 50 वनडे और 20 टी20 मैच खेल चुकी हैं.

आप किस क्रिकेटर के साथ क्वारंटाइन होना चाहेंगी? लाउरा इसके जवाब में सुन ल्यूस का नाम लेती हैं. कहती हैं कि वह मेरी अच्छी दोस्त है. वह अभी प्रिटिरिया में अपने घर पर है. फिर भी दोनों देर तक बातें करती हैं. ट्रेनिंग, पढ़ाई और सोशल मीडिया में वक्त बिताने के अलावा क्या करती हैं. इसके जवाब में लाउरा बताती हैं कि वे किचन में मम्मी की थोड़ी मदद कर देती हैं. नेटफ्लिक्स पर एक सीरीज भी देख रही हैं.

यह भी पढ़ें: 

कोरोना के खौफ के बीच इस दिग्‍गज पाकिस्‍तानी क्रिकेटर ने लिया संन्‍यास

टीम की जर्सी पहनकर पत्‍नी के साथ डांस करते दिखे वॉर्नर, वीडियो हुआ वायरल
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज