बीसीसीआई के नाडा के दायरे में आने के फैसले का खेल मंत्री रिजिजू ने किया स्वागत

बीसीसीआई सीईओ राहुल जोहरी से शुक्रवार को लिखित में दिया है कि वह नाडा की डोपिंग निरोधक नीति का पालन करेगा.

भाषा
Updated: August 10, 2019, 3:04 PM IST
बीसीसीआई के नाडा के दायरे में आने के फैसले का खेल मंत्री रिजिजू ने किया स्वागत
खेल मंत्रालय किरण रिजिजू
भाषा
Updated: August 10, 2019, 3:04 PM IST
खेल मंत्री कीरेन रिजीजू ने शनिवार को बीसीसीआई के राष्ट्रीय डोपिंग रोधी एजेंसी (नाडा) के अंतर्गत आने के फैसले का स्वागत किया और इसे खेलों में स्वच्छ और पारदर्शी शासन की दिशा में एक बड़ा कदम करार दिया.

बरसों तक नानुकुर करने के बाद आखिरकार भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) शुक्रवार को राष्ट्रीय डोपिंग निरोधक एजेंसी (नाडा) के दायरे में आने को तैयार हो गया जिससे उसके राष्ट्रीय खेल महासंघ (एनएसएफ) बनने की संभावना बढ़ गयी है. रिजीजू ने पीटीआई से कहा, ‘मैं नहीं चाहता कि कोई भी मुद्दा या मामला अनसुलझा रहे. सारे मतभेद सर्वसम्मति से निपटा लेने चाहिए क्योंकि मैं खेलों और खिलाड़ियों के हित में खेलों में स्वच्छ और पारदर्शी शासन में भरोसा करता हूं.’
बीसीसीआई सीईओ राहुज जोहरी से शुक्रवार को मुलाकात के बाद जुलानिया ने कहा कि बोर्ड ने लिखित में दिया है कि वह नाडा की डोपिंग निरोधक नीति का पालन करेगा. उन्होंने कहा ,‘अब सभी क्रिकेटरों का टेस्ट नाडा करेगी .’

उन्होंने कहा ,‘बीसीसीआई ने हमारे सामने तीन मसले रखे जिसमें डोप टेस्ट किट्स की गुणवत्ता, पैथालाजिस्ट की काबिलियत और नमूने इकट्ठे करने की प्रक्रिया शामिल थी .’ उन्होंने कहा ,‘हमने उन्हें आश्वस्त किया कि उन्हें उनकी जरूरत के मुताबिक सुविधायें दी जाएंगी लेकिन उसका कुछ शुल्क लगेगा . बीसीसीआई दूसरों से अलग नहीं है .’ खेल मंत्रालय के शीर्ष अधिकारी ने कहा, ‘हां, नाडा जब चाहे और जहां चाहे, वहां परीक्षण कर सकता है. विश्व डोपिंग रोधी एजेंसी का 5.2 उपबंध राष्ट्रीय डोपिंग रोधी एजेंसी को अपने क्षेत्र में एथलीट का परीक्षण करने का अधिकार प्रदान करता है. यही वाडा का चार्टर है और हम इसके साझीदार हैं.’

जब और जहां चाहे खिलाड़ियों का डोप टेस्ट ले सकता है NADA- खेल सचिव

नाडा के दायरे में आने को तैयार हुआ बीसीसीआई
First published: August 10, 2019, 3:04 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...