खेल

    Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    IPL 2020: KKR का किस्मत कनेक्शन; SRH ही नहीं, इन 9 गेंदों ने भी बाहर कराया

    कोलकाता की टीम 14 अंक लाकर भी प्लेऑफ से बाहर हो गई. (फोटो साभार @KKRiders Twitter)
    कोलकाता की टीम 14 अंक लाकर भी प्लेऑफ से बाहर हो गई. (फोटो साभार @KKRiders Twitter)

    कोलकाता नाइटराइडर्स (Kolkata Knight Riders) की टीम रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर और सनराइजर्स हैदराबाद के बराबर अंक लाकर भी आईपीएल 2020 (IPL 2020) के प्लेऑफ (IPL Playoff) से बाहर हो गई. आईपीएल में यह तीसरा मौका है जब केकेआर (KKR) नेट रन रेट की वजह से बाहर हुई है.

    • News18Hindi
    • Last Updated: November 4, 2020, 8:27 AM IST
    • Share this:
    नई दिल्ली. कोलकाता नाइटराइडर्स (Kolkata Knight Riders) की टीम रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर और सनराइजर्स हैदराबाद के बराबर अंक लाकर भी आईपीएल 2020 (IPL 2020) के प्लेऑफ (IPL Playoff) से बाहर हो गई. बिलकुल इसकी वजह नेट रनरेट ही रहा. लेकिन इसे किस्मत कनेक्शन नहीं तो क्या कहा जाए कि किसी के साथ ऐसा बार-बार दो साल हो. लगातार दो साल दो टीमें बराबर मैच जीतकर बराबर अंक जुटाएं और एक ही टीम प्लेऑफ के लिए क्वालिफाई करे और जो टीम पहली बार बाहर हुई थी, वही दूसरी बार भी बाहर हो. वैसे कोलकाता नाइटराइडर्स तीसरी बार रन रेट के कारण बाहर हुई है.

    साल 2020 का पूरा गणित यहां समझें
    कोलकाता नाइटराइडर्स (KKR) ने 7 मैच जीतकर 14 अंक बनाए. रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर (Royal Challengers Bangalore) और सनराइजर्स हैदराबाद (Sunrisers Hyderabad) ने भी इतने ही मैच जीते. मुंबई 18 और दिल्ली 16 अंक के साथ प्लेऑफ में पहुंच चुकी थीं. इसलिए कोलकाता, बैंगलोर और हैदराबाद के बराबर अंक होने होने के बावजूद दो ही टीमें क्वालिफाई कर सकती थीं. हैदराबाद (0.608) और बैंगलोर (-0.172) ने बेहतर रन रेट के आधार पर जगह बनाई. कोलकाता (-0.214) बाहर हो गई.

    अगर दिल्ली 9 गेंद पहले जीत जाती तो…
    कोलकाता ने 54वें मैच में राजस्थान को हराकर अपने 14 अंक कर लिए थे. दिल्ली और बैंगलोर के बीच 55वां मैच खेल गया. इन दोनों टीमों के भी 54वें मैच के बाद 14-14 थे. दिल्ली ने 55वें मैच में बैंगलोर को 19 ओवर में हराया. अगर दिल्ली की टीम यह मैच 17.3 ओवर में जीत जाती तो बैंगलोर की बजाय कोलकाता प्लेऑफ में पहुंच जाती. यानी, दिल्ली ने जो 9 गेंद ज्यादा खेलीं, उसने केकेआर की किस्मत भी तय की.





    2019 का प्वाइंट टेबल तो आप भूले नहीं होंगे
    साल 2019 में लीग के 56 मैच खत्म होने के बाद दिल्ली, मुंबई और चेन्नई के 18-18 अंक थे. तीनों ने प्लेऑफ खेला था. प्लेऑफ खेलने वाली चौथी टीम सनराइजर्स हैदराबाद थी और उसने इस रेस में केकेआर को नेट रनरेट के आधार ही पछाड़ा था. तब हैदराबाद और केकेआर दोनों टीमों के 12-12 अंक थे. नेट रनरेट में पिछड़ना केकेआर को भारी पड़ गया था. साल 2020 में भी नेट रन रेट की लड़ाई में हैदराबाद ने ही कोलकाता को हराया. वैसे अगर इस बार के आखिरी लीग मैच में हैदराबाद हार जाती तो नेट रनरेट की लड़ाई होती ही नहीं.

    और 2010 की चूहे-बिल्लीकी वो रेस...
    साल 2010 में भी केकेआर ने 7 मैच जीते थे.. इस साल चेन्नई, बैंगलोर और दिल्ली ने भी सात-सात मैच जीते थे. यानी इन तीनों टीमों के कोलकाता के बराबर 14 अंक ही थे. लेकिन केकेआर की टीम रनरेट में पिछड़कर प्लेऑफ से बाहर हो गई थी. तब चेन्नई और बैंगलोर ने अगले राउंड में जगह बनाई थी और कोलकाता और दिल्ली बाहर हो गए थे.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज