महिला खिलाड़ियों से चयनकर्ताओं ने की सेक्स की डिमांड, सनथ जयसूर्या ने...

महिला खिलाड़ियों से चयनकर्ताओं ने की सेक्स की डिमांड, सनथ जयसूर्या ने...
श्रीलंका महिला क्रिकेट टीम से हुई थी सेक्स की डिमांड!

क्रिकेट अकसर मैच फिक्सिंग के मामलों से कलंकित होता रहा है लेकिन फैंस उस वक्त हैरान रह गए जब महिला खिलाड़ियों से टीम में बने रहने के लिए सेक्स की डिमांड (Sex Scandal) होने लगी

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 30, 2020, 8:28 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. क्रिकेट के मैदान पर अकसर खिलाड़ी एक-दूसरे को गालियां देते हैं, मारपीट भी कर जाते हैं. यही नहीं क्रिकेट का ये खेल मैच फिक्सिंग के जख्म भी झेल चुका है लेकिन क्या आप जानते हैं कि इस खेल को सेक्स स्कैंडल से कलंकित करने की भी कोशिश की गई है. जी हां क्रिकेट में ऐसा मौका भी आया है जब टीम में जगह बनाए रखने के लिए एक टीम के चयनकर्ताओं ने खिलाड़ियों से शारीरिक संबंध (Sri Lanka Women Cricket Team Sex Scandal) बनाने की मांग कर डाली. उन्होंने महिला खिलाड़ियों से सीधे तौर पर कहा- जो खिलाड़ी खुश करेगी, वही टीम में खेलेगी. आइए आपको बताते हैं क्या है ये पूरा मामला.

श्रीलंकाई महिला टीम से हुई सेक्स की डिमांड
साल 2014, अक्टूबर का महीना और एक ऐसी खबर सामने आई जिसने क्रिकेट पंडितों ही नहीं बल्कि करोड़ों फैंस को भी हिला कर रख दिया. श्रीलंका की स्थानीय मीडिया ने बड़ी ब्रेकिंग न्यूज देते हुए बताया कि श्रीलंका की महिला खिलाड़ियों ने चयनकर्ताओं पर आरोप लगाया है कि उन्हें राष्ट्रीय टीम में जगह बनाने के लिए चयनकर्ताओं के साथ शारीरिक संबंध बनाने जैसी मांगों का सामना करना पड़ रहा है. श्रीलंकाई महिला खिलाड़ियों ने टीम मैनेजमेंट और सेलेक्टरों पर ये आरोप लगाया. महिला खिलाड़ियों का दावा था कि सेलेक्टर और टीम मैनेजमेंट के लोग खुले तौर पर ये कह रहे हैं कि जो खिलाड़ी उन्हें संतुष्ट करेगी वही टीम में खेलने की हकदार होगी.

श्रीलंकाई महिला क्रिकेट टीम (Sri Lanka Women Cricket Team Sex Scandal) के इस आरोप के बाद क्रिकेट की दुनिया में जैसे भूचाल सा आ गया. ये खबर पूरी दुनिया में आग की तरह फैल गई और श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड ने तुरंत हरकत में आते हुए इसकी जांच के आदेश दे दिये. श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड ने उस वक्त के चीफ सेलेक्टर सनथ जयसूर्या समेत तीन अधिकारियों को इस मामले की जांच सौंपी.
जयसूर्या ने दिलाया इंसाफ


श्रीलंका को 1996 में वर्ल्ड कप जिताने वाले सनथ जयसूर्या (Sanath Jayasuriya) ने इस मामले की गंभीरता से जांच की और ठीक 7 महीने बाद वो निष्कर्ष पर पहुंचे. जयसूर्या ने अपनी जांच में पाया कि इस मामले में 3 अधिकारी शामिल थे, जिसमें से दो अधिकारियों ने यौन उत्पीड़न के कुछ मामलों में शामिल रहे वहीं एक अधिकारी अनुचित व्यवहार का दोषी पाया गया जो यौन उत्पीड़न के दायरे में नहीं आता है. हालांकि जयसूर्या की कमेटी ने पाया कि किसी भी व्यक्ति से किसी तरह के शारीरिक संबंध बनाने का सबूत नहीं मिला. जयसूर्या की इस रिपोर्ट के बाद श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड ने दोषी पाए गए तीनों चयनकर्ताओं को तुरंत बर्खास्त कर दिया. इस तरह श्रीलंका की महिला खिलाड़ियों को इंसाफ मिला.

साल 2012 में भी लगे थे यौन शोषण के आरोप
बता दें श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड से जुड़े कुछ अधिकारी साल 2012 में भी यौन शोषण के आरोपों से घिरे थे. श्रीलंका बोर्ड की एक महिला कर्मचारी ने पांच अधिकारियों पर यौन शोषण का आरोप लगाया था हालांकि श्रीलंकाई बोर्ड ने इस मामले को खारिज करते हुए कोई कार्रवाई नहीं की थी.

विवाद: ग्लेन मैक्ग्रा ने इस बल्लेबाज को दी गला काटने की धमकी, मैदान पर...
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज