विराट के फैन हुए स्टीव वॉ, कहा- भारतीय कप्तान ने टीम में कोई भी लक्ष्य हासिल करने की आदत डाली

स्टीव वॉ ने भारतीय कप्तान विराट कोहली की तारीफ की है. (Steve Waugh/Instagram)

स्टीव वॉ ने भारतीय कप्तान विराट कोहली की तारीफ की है. (Steve Waugh/Instagram)

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान स्टीव वॉ (Steve Waugh) ने भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली ( Virat Kohli) की तारीफ की है. वॉ का मानना है कि कोहली के नए तेवरों ने टीम में हर मुश्किल से लड़ने की आदत डाल दी है.

  • Share this:
नई दिल्ली. ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान स्टीव वॉ ( Steve Waugh) ने भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) की तारीफ की है. वॉ का मानना है कि कोहली के नए तेवरों ने टीम में हर मुश्किल से लड़ने की आदत डाल दी है. इसी वजह से ये टीम अब नहीं डरती है और विरोधी को उसी के अंदाज में जवाब देती है. वॉ ने यह बातें अपनी नई डॉक्यूमेंट्री "कैप्चरिंग क्रिकेट- स्टीव वॉ इन इंडिया" में कही हैं.

वॉ ने भारतीय क्रिकेट टीम के सोचने के तरीके में बदलाव लाने का श्रेय भी कोहली को दिया. उन्होंने कहा कि मुझे कोहली इसलिए भी पसंद हैं. क्योंकि टीम इंडिया के बदले हुए तेवरों के पीछे वो ही हैं. उन्होंने ही साथी खिलाड़ियों में मुश्किल परिस्थिति में न डरने की जज्बा पैदा किया. हर चीज का सामना करने का यकीन दिलाया और ये बताया कि किसी भी लक्ष्य को हासिल किया जा सकता है. वो आधुनिक युग के हीरो हैं.

द्रविड़ ने भी युवा खिलाड़ियों में आए बदलाव की वजह बताई
वॉ के अलावा इस डॉक्यूमेंट्री में टीम इंडिया के पूर्व कप्तान राहुल द्रविड़ ( Rahul Dravid) ने भी भारत के युवा क्रिकेटरों की सोच में आए बदलाव की वजह बताई है. द्रविड़ का मानना है कि भारत के युवा आज मानते हैं कि वो कुछ भी हासिल कर सकते हैं. उनके पास हमेशा से ही समझ और क्षमता थी. जिसे अब एक सिस्टम का पूरा सपोर्ट मिल रहा है और यही सिस्टम युवा खिलाड़ियों के टैलेंट को बेहतर ढंग से सामने ला रहा है. रिटायरमेंट के बाद से ही युवा खिलाड़ियों को तराश रहे हैं. वे अंडर-19 और इंडिया-ए टीम के कोच भी रहे हैं. फिलहाल वो बेंगलुरु की नेशनल क्रिकेट एकेडमी (National Cricket Academy) के हेड हैं.
विराट भारत के सबसे सफल टेस्ट कप्तान


विराट भारत के सबसे सफल टेस्ट कप्तान हैं. उनकी कप्तानी में भारत ने अब तक 59 में से 35 टेस्ट जीते हैं. इसमें से 22 घर में तो 13 टेस्ट विदेश में जीते हैं. पिछले टेस्ट में इंग्लैंड के खिलाफ जीत दर्ज करने के साथ ही उन्होंने घर में महेंद्र सिंह धोनी के सबसे ज्यादा टेस्ट जीतने का रिकॉर्ड भी तोड़ा था. धोनी की कप्तानी में भारत ने घर में खेले 30 टेस्ट में से 21 जीते थे, जबकि 3 हारे और 6 ड्रॉ रहे थे. वहीं, विराट की कप्तानी में भारत ने घरेलू मैदानों पर अब तक 29 टेस्ट खेले हैं. इसमें 22 में जीत मिली. 2 में टीम को हार का सामना करना पड़ा और 5 टेस्ट ड्रॉ रहे.

वॉ और कोहली की कप्तानी में काफी समानता
अहमदाबाद टेस्ट में इंग्लैंड के खिलाफ मिली जीत के बाद विराट ने ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान स्टीव वॉ की भी बराबरी की थी. वॉ ने भी अपने घरेलू मैदान पर 29 में से 22 टेस्ट में जीत हासिल की थी. कई दिग्गजों का मानना है कि कोहली की कप्तानी की स्टाइल स्टीव वॉ से काफी मिलती है. अक्सर उनकी तुलना वॉ से की जाती है. अगर रिकॉर्ड पर नजर डालें तो ये बात काफी हद तक सही भी लगती है. वॉ ने 57 टेस्ट में ऑस्ट्रेलिया की कप्तानी की. इसमें से 41 में टीम को जीत मिली तो 9 में हार. यानी उनकी कप्तानी के दौरान 88 फीसदी मैच के रिजल्ट निकले. वहीं, कोहली की कप्तानी में भारत ने 59 में से 35 टेस्ट जीते हैं, जबकि 14 हारे हैं. यानी 83 फीसदी से मैच के नतीजे आए हैं. यानी ये दोनों ऐसे कप्तान हैं, जो मैच में नतीजे के लिए पूरा जोर लगाते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज