स्टुअर्ट ब्रॉड ने आईसीसी के अहमदाबाद टेस्ट की पिच को औसत रेटिंग देने के फैसले पर तंज कसा

स्टुअर्ट ब्रॉड ने विज्डन (Wisden) के इंस्टाग्राम अकाउंट पर शेयर किए गए पोस्ट पर लिखा कि ये तुलना करना दिलचस्प होगा कि विश्व क्रिकेट में इससे पहले किसी पिच को 'औसत से नीचे' की रेटिंग दी गई है. (Stuart broad instagram)

स्टुअर्ट ब्रॉड ने विज्डन (Wisden) के इंस्टाग्राम अकाउंट पर शेयर किए गए पोस्ट पर लिखा कि ये तुलना करना दिलचस्प होगा कि विश्व क्रिकेट में इससे पहले किसी पिच को 'औसत से नीचे' की रेटिंग दी गई है. (Stuart broad instagram)

इंग्लैंड के तेज गेंदबाज स्टुअर्ट ब्रॉड (Stuart Broad) ने भारत-इंग्लैंड के बीच अहमदाबाद में हुए तीसरे टेस्ट (India vs England Ahemdabad Test) की पिच को 'औसत' रेटिंग देने के अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (ICC) के फैसले पर तंज कसा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 16, 2021, 10:31 AM IST
  • Share this:

नई दिल्ली. इंग्लैंड के तेज गेंदबाज स्टुअर्ट ब्रॉड (Stuart Broad) ने भारत-इंग्लैंड के बीच अहमदाबाद में हुए तीसरे टेस्ट (India vs England Ahemdabad Test) की पिच को 'औसत' रेटिंग देने के अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (ICC) के फैसले पर तंज कसा है. ब्रॉड ने इसे लेकर विज्डन (Wisden) के इंस्टाग्राम अकाउंट पर शेयर किए गए पोस्ट पर लिखा कि ये तुलना करना दिलचस्प होगा कि विश्व क्रिकेट में इससे पहले किसी पिच को 'औसत से नीचे' की रेटिंग दी गई है. ब्रॉड अहमदाबाद में हुए तीसरे टेस्ट में इंग्लैंड टीम का हिस्सा थे. इस मैच में भारत ने इंग्लैंड को दो दिन में ही हरा दिया था जबकि आखिरी टेस्ट भारत तीन दिन में जीत गया था.

एक दिन पहले ही आईसीसी ने अहमदाबाद में खेले गए तीसरे और चौथे टेस्ट की पिच को औसत और अच्छी पिच की रेटिंग दी है. इसका मतलब ये है कि अहमदाबाद के नरेंद्र मोदी स्टेडियम (Narendra Modi stadium) पर कोई जुर्माना नहीं लगेगा और न ही उसे कोई डी-मेरिट अंक मिलेंगे. नरेंद्र मोदी स्टेडियम की इस पिच पर इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वॉन, एलिस्टेयर कुक और एंड्रयू स्ट्रॉस ने सवाल खड़े किये थे. हालांकि इंग्लैंड क्रिकेट टीम ने पिच की कोई आधिकारिक शिकायत नहीं की थी और उसने आईसीसी पर विकेट के स्तर का फैसला करना छोड़ दिया था. विराट कोहली ने भी पिच को अच्छा बताते हुए कहा था कि भारत और इंग्लैंड दोनों ही टीमों के बल्लेबाजों ने सीधी गेंद पर विकेट गंवाए थे और पिच में कुछ गलत नहीं था.

stuart broad, pitch controversy, wisden, cricket news
भारत और इंग्लैंड के बीच अहमदाबाद में हुआ तीसरा टेस्ट दो दिन में ही खत्म हो गया था. तब इंग्लैंड के पूर्व खिलाड़ियों ने पिच की काफी आलोचना की थी. (Wisden Instagram).

हर पिच को 6 तरह की रेटिंग मिलती है
आईसीसी हर पिच को 6 तरीके से मापता है. मैच के बाद रैफरी की रिपोर्ट के अनुसार पिच को बहुत अच्छा, अच्छा, औसत, औसत से नीचे, खराब और अनफिट बताया जाता है. अंतिम तीन रिपोर्ट पर पिच को डी-मेरिट प्वाइंट मिलते हैं. अगर पिच की रेटिंग औसत से नीचे और खराब होती है तो आईसीसी के पास वेन्यू पर कार्रवाई का अधिकार होता है. वो स्टेडियम पर 1 से तीन डी-मेरिट प्वाइंट का जुर्माना लगा सकता है. आईसीसी के नियमों के मुताबिक किसी भी वेन्यू को अगर पांच साल के भीतर 5 डी-मेरिट प्वाइंट मिलें तो उस पर एक साल तक कोई अंतरराष्ट्रीय मैच आयोजित नहीं होता है और अगर डी-मेरिट अंक 10 हों तो दो सालों तक वहां कोई मैच आयोजित नहीं किया जा सकता है.

IND VS ENG: क्या सूर्यकुमार यादव के लिए बलिदान देंगे विराट कोहली?

2 साल पहले एंटीगुआ की पिच को औसत से नीचे की रेटिंग मिली थी



पिछली बार आईसीसी ने 2019 में वेस्टइंडीज की एंटीगुआ मैदान की पिच को औसत से नीचे की रेटिंग दी थी. तब उस मैदान पर इंग्लैंड और वेस्टइंडीज के बीच टेस्ट खेला गया था. मेहमान टीम दोनों पारियों में 187 और 132 रन पर ऑल आउट हो गई थी और वेस्टइंडीज ने ये मैच 10 विकेट से जीता था. मैच में गिरे तीस विकेट में से 27 तेज गेंदबाजों ने लिए थे. दिलचस्प बात ये है कि ब्रॉड उस टेस्ट का भी हिस्सा थे और उन्होंने मैच में तीन तीन विकेट लिए थे. बाद में इस वेन्यू पर आईसीसी ने एक डी-मेरिट अंक का जुर्माना लगाया था.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज