सुरेश रैना बोले- धोनी से दोस्ती की वजह से नहीं, काबिलियत के दम पर टीम में था

धोनी की दोस्ती की वजह से नहीं अपने दम पर टीम इंडिया में था-सुरेश रैना (Suresh Raina/Twitter)

धोनी की दोस्ती की वजह से नहीं अपने दम पर टीम इंडिया में था-सुरेश रैना (Suresh Raina/Twitter)

सुरेश रैना (Suresh Raina) ने अपनी किताब 'बिलीव' में एक ऐसे दर्द को साझा किया है जो उन्हें धोनी से दोस्ती के कारण झेलना पड़ा. रैना को अकसर सुनना पड़ा था कि उन्हें धोनी से दोस्ती की वजह से टीम इंडिया में जगह मिलती थी.

  • Share this:

नई दिल्ली. बाएं हाथ के बल्लेबाज सुरेश रैना (Suresh Raina) ने अपनी ताबड़तोड़ बल्लेबाजी से टीम इंडिया को कई मैच जिताए. रैना मिडिल ऑर्डर में आकर मुश्किल मौकों पर रन बनाने में माहिर थे. वनडे और टी20 क्रिकेट में उनकी काबिलियत का लोहा माना जाता था लेकिन इसके बावजूद उन्हें अपने इंटरनेशनल करियर के दौरान कुछ ऐसी बातें सुनने को मिलीं जो किसी भी शख्स को नामंजूर होंगी. रैना ने इसी बात का खुलासा अपनी किताब 'बिलीव' में किया है. सुरेश रैना ने किताब में लिखा है कि उन्हें कहा जाता कि धोनी (MS Dhoni) से दोस्ती की वजह से वो टीम इंडिया में हैं.

रैना ने अपनी किताब में धोनी की तारीफ करते हुए लिखा, 'धोनी जानते थे कि मुझसे बेस्ट प्रदर्शन कैसे करवाया जा सकता है और मैंने उनपर भरोसा किया. बहुत दुख होता है जब लोग हमारी दोस्ती को मेरी टीम इंडिया में जगह पाने से जोड़ते हैं. मैंने हमेशा टीम इंडिया में अपनी जगह हासिल की, ठीक वैसे ही जैसे मैंने धोनी का भरोसा और सम्मान हासिल किया.'

बहुत पुराना है धोनी-रैना का दोस्ताना

बता दें धोनी और सुरेश रैना की दोस्ती काफी पुरानी है. धोनी और रैना लगभग साथ ही टीम इंडिया में आए थे. धोनी ने 2004 और रैना ने 2005 में इंटरनेशनल डेब्यू किया था. इसके बाद इन दोनों खिलाड़ियों ने टीम इंडिया को कई मैच जिताए. इन दोनों की दोस्ती ऐसी थी कि धोनी और रैना दोनों ने ही साथ में संन्यास लिया. धोनी ने 15 अगस्त, 2020 को इंटरनेशनल क्रिकेट को अलविदा कहा और उन्हीं के संन्यास के कुछ देर बाद ही रैना ने भी संन्यास ले लिया.
सुरेश रैना का करियर

रैना ने भारत के लिए 226 वनडे मैचों में 35.31 की औसत से 5615 रन बनाए. उन्होंने 5 शतक और 36 अर्धशतक जड़े. वहीं टी20 में रैना ने 66 पारियों में 29.18 की औसत से 1605 रन बनाए. रैना के नाम एक टी20 शतक भी है. रैना ने 18 टेस्ट मैच भी खेले जिसमें उन्होंने एक शतक की मदद से 768 रन बनाए.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज