Home /News /sports /

T20 World Cup: न्यूज़ीलैंड को हराने के लिए टीम इंडिया को बदलना होगा इतिहास, विराट कोहली को डरा रहे ये रिकॉर्ड

T20 World Cup: न्यूज़ीलैंड को हराने के लिए टीम इंडिया को बदलना होगा इतिहास, विराट कोहली को डरा रहे ये रिकॉर्ड

टी-20 इंटरनेशनल के ओवरऑल रिकॉर्ड पर नज़र डालें तो वहां भी न्यूज़ीलैंड का पलड़ा भारी रहा है. ऐसे में विराट को मैच जीतने के लिए जम कर पसीना बहाना पड़ेगा. (फोटो- AP)

टी-20 इंटरनेशनल के ओवरऑल रिकॉर्ड पर नज़र डालें तो वहां भी न्यूज़ीलैंड का पलड़ा भारी रहा है. ऐसे में विराट को मैच जीतने के लिए जम कर पसीना बहाना पड़ेगा. (फोटो- AP)

T20 World Cup: टी-20 वर्ल्ड कप के पहले मैच में हार के बाद अब टीम इंडिया की टक्कर न्यूज़ीलैंड (India vs New Zealand) से होगी. सेमीफ़ाइनल की रेस में बने रहने के लिए भारत को यह मैच हर हाल में जीतना होगा. हाल के दिनों में बड़े मुक़ाबले की बात की जाए तो न्यूज़ीलैंड ने दो बार टीम इंडिया को मात दी है. इस बेहद अहम मुकाबले को जीतने के लिए टीम इंडिया को इतिहास बदलना होगा. पाकिस्तान के हाथों करारी हार के बाद टीम इंडिया का नेट रनरेट माइनस 0.973 है.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. टी-20 वर्ल्ड कप में एक हफ्ते के ब्रेक के बाद टीम इंडिया को न्यूज़ीलैंड (India vs New Zealand) से मैच खेलना है. 31 अक्टूबर को होने वाला ये मुकाबला विराट कोहली (Virat Kohli) की टीम के लिए ‘करो या मरो’ की लड़ाई होगी. हार का मतलब होगा टूर्नामेंट से लगभग बाहर का रास्ता. लेकिन इस बेहद अहम मुकाबले को जीतने के लिए टीम इंडिया को इतिहास बदलना होगा. एक ऐसा रिकॉर्ड जिसे पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी भी नहीं बदल पाए थे. टी-20 वर्ल्ड कप के इतिहास में टीम इंडिया कभी भी न्यूज़ीलैंड को नहीं हरा सकी है.

    रिकॉर्ड्स के आईने में झांके तो भारत और न्यूज़ीलैंड के बीच टी-20 वर्ल्ड कप में अब तक सिर्फ दो बार भिड़ंत हुई है और दोनों बार न्यूज़ीलैंड की टीम ने बाज़ी मारी है. सबसे पहले साल 2007 के टी-20 वर्ल्ड कप में धोनी की टीम को न्यूज़ीलैंड ने 10 रनों से हराया था. इसके बाद 2016 टी-20 वर्ल्ड कप में नागपुर के मैदान पर टीम इंडिया को 47 रनों से करारी हार का सामना करना था.

    दो मैचों में दो हार
    साल 2016 में नागपुर में तो टीम इंडिया 127 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए सिर्फ 79 रनों पर ऑल आउट हो गई थी. टी-20 वर्ल्ड कप में ये टीc इंडिया का सबसे कम स्कोर है. इससे पहले 2007 के टी-20 वर्ल्ड कप में टीम इंडिया जोहान्सबर्ग के मैदान पर 191 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए जीत की मंजिल से 10 रन दूर रह गई थी. इस मैच में गौतम गंभीर ने 33 गेंदों पर 51 रनों की शानदार पारी खेली थी.

    ये भी पढ़ें:-अफगानिस्तान की जीत से दिलचस्प हुई सेमीफाइनल की लड़ाई, अब क्या होगा टीम इंडिया का?

    ओवरऑल रिकॉर्ड में कौन किस पर भारी
    टी-20 इंटरनेशनल के ओवरऑल रिकॉर्ड पर नज़र डालें तो वहां भी न्यूज़ीलैंड का पलड़ा भारी रहा है. अब तक दोनों देशों के बीच कुल 16 टी-20 मैच खेले गए हैं. न्यूज़ीलैंड को यहां 8 मैचों में जीत मिली है. जबकि टीम इंडिया की झोली में 6 मैच आए हैं. दो मैच टाई हुए तो इसका फैसला एलिमिनेटर से किया गया था. जहां टीम इंडिया ने बाज़ी मारी थी.

    बड़े मुक़ाबले में किसका पलड़ा भारी
    हाल के दिनों में बड़े मुक़ाबले की बात की जाए तो न्यूज़ीलैंड ने दो बार टीम इंडिया को मात दी है. 2019 के वनडे वर्ल्ड कप में न्यूज़ीलैंड ने सेमीफाइनल में भारत को हराया था. मैनचेस्टर में खेले गए इस मैच में न्यूज़ीलैंड ने टीम इंडिया 18 रनों से हरा कर उसके फ़ाइनल में पहुंचने के सपने को चकनाचूर कर दिया था. 240 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए टीम इंडिया ने सिर्फ 92 के स्कोर पर 6 विकेट गंवा दिए थे. इस साल जून में टीम इंडिया ने वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में भारत को 8 विकेट से हरा दिया था. लिहाज़ा टी-20 वर्ल्ड कप के ‘करो या मरो’ के मैच में दबाव टीम इंडिया पर रहेगा.

    Tags: Cricket news, ICC T20 World Cup 2021, India vs new zealand, Virat Kohli

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर