• Home
  • »
  • News
  • »
  • sports
  • »
  • तालिबान राज में क्रिकेट पर नहीं लगेगा ब्रेक, अफगानिस्तान को ऑस्ट्रेलिया से टेस्ट खेलने की मंजूरी मिली

तालिबान राज में क्रिकेट पर नहीं लगेगा ब्रेक, अफगानिस्तान को ऑस्ट्रेलिया से टेस्ट खेलने की मंजूरी मिली

तालिबान ने पिछले महीने अफगानिस्तान (Taliban in Afghanistan) की सत्ता संभालने के बाद देश की क्रिकेट टीम को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ नवंबर में होने वाला इकलौता टेस्ट खेलने की मंजूरी दे दी है. (ACB Twitter)

तालिबान ने पिछले महीने अफगानिस्तान (Taliban in Afghanistan) की सत्ता संभालने के बाद देश की क्रिकेट टीम को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ नवंबर में होने वाला इकलौता टेस्ट खेलने की मंजूरी दे दी है. (ACB Twitter)

Taliban in Afghanistan: तालिबान ने पिछले महीने अफगानिस्तान की सत्ता संभालने के बाद देश की क्रिकेट टीम को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ नवंबर में होने वाला इकलौता टेस्ट खेलने की मंजूरी दे दी है. यह मुकाबला 27 नवंबर-1 दिसंबर तक होबार्ट (AFG vs AUS Test) में खेला जाएगा. अफगानिस्तान क्रिकेट बोर्ड (Afghanistan Cricket Board) के मुख्य कार्यकारी हामिद शिनवारी (Hamid Shinwari) ने इस बात की पुष्टि की है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    नई दिल्ली. तालिबान के राज में (Taliban in Afghanistan) क्रिकेट पर रोक नहीं लगेगी. कम से कम फिलहाल तो ऐसा ही नजर आ रहा है. अफगानिस्तान की सत्ता संभालने के बाद तालिबान ने देश की क्रिकेट टीम को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ नवंबर में होने वाले टेस्ट मैच खेलन की मंजूरी दे दी है. अफगानिस्तान क्रिकेट बोर्ड (Afghanistan Cricket Board) के मुख्य कार्यकारी हामिद शिनवारी (Hamid Shinwari) ने न्यूज एजेंसी एएफपी को यह जानकारी दी है. इससे यह उम्मीद जगी है कि तालिबान के शासन में भी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच पहले की तरह जारी रहेंगे.

    अफगानिस्तान को इस साल 27 नवंबर- 1 दिसंबर तक होबार्ट में इकलौता टेस्ट खेलना है. यह मुकाबला पिछले साल ही होना था. लेकिन कोरोना के कारण लागू यात्रा प्रतिबंधों की वजह से मैच नहीं हो पाया था. यह ऑस्ट्रेलिया में अफगानिस्तान का पहला मैच होगा.

    अफगानिस्तान की अंडर-19 टीम बांग्लादेश दौरे पर जाएगी
    ऑस्ट्रेलिया दौरे से पहले अफगानिस्तान की टीम 17 अक्टूबर से 15 नवंबर तक संयुक्त अरब अमीरात में होने वाले टी20 विश्व कप में नजर आएगी. एसीबी के मुख्य कार्यकारी शिनवारी ने इस बात की भी पुष्टि की है कि अफगानिस्तान की अंडर -19 क्रिकेट टीम इस महीने के अंत में बांग्लादेश का दौरा करेगी.

    IND VS ENG: अश्विन से घबरा रहा है इंग्लैंड, ओवल की पिच से होगी छेड़छाड़ !

    तालिबान अपनी छवि बदलने में लगा
    तालिबान इससे पहले 1996 में भी अफगानिस्तान की सत्ता पर काबिज हुआ था. 5 साल तक उसके हाथ में देश की बागडोर थी. तब इस संगठन ने मनोरंजन के ज्यादातर साधनों पर पूरी तरह रोक लगा दी थी. इसमें कई खेल भी शामिल थे. तब स्टेडियम का इस्तेमाल सार्वजनिक रूप से किसी को सजा देने के लिए होता था. इस दौर में भी इस कट्टर इस्लामिक संगठन ने क्रिकेट पर किसी तरह की रोक नहीं लगाई थी. उसे लड़ाकों के बीच भी यह खेल काफी लोकप्रिय है.

    तालिबान ने पिछले महीने राजधानी काबुल पर कब्जा करने के बाद इस बार देश में सख्त इस्लामिक कानून लागू नहीं करने का वादा किया है.

     तालिबान क्रिकेट को समर्थन करता रहेगा: ACB 
    अफगानिस्तान से अमेरिका और नाटो फोर्सेस के बाहर निकलने के बाद यह आशंका जताई जा रही थी तालिबान के शासन में क्रिकेट और दूसरे खेलों पर असर पड़ेगा. लेकिन अफगानिस्तान क्रिकेट बोर्ड के अधिकारी बार-बार यही बात दोहरा रहे थे कि क्रिकेट को तालिबान का समर्थन मिलता रहेगा. हालांकि, हाल में ही कोरोना और यात्रा इंतजामों में आ रही दिक्कतों के कारण अफगानिस्तान की पाकिस्तान के खिलाफ घरेलू वनडे सीरीज रद्द हो गई थी. यह सीरीज श्रीलंका में शिफ्ट कर दी गई थी.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज