होम /न्यूज /खेल /टैक्सी ड्राइवर का बेटा मुकेश कुमार टीम इंडिया में, अब साउथ अफ्रीका के बल्लेबाजों को करेगा पस्त

टैक्सी ड्राइवर का बेटा मुकेश कुमार टीम इंडिया में, अब साउथ अफ्रीका के बल्लेबाजों को करेगा पस्त

बंगाल के तेज गेंदबाज मुकेश कुमार को टीम इंडिया में शामिल किया गया है. (Twitter)

बंगाल के तेज गेंदबाज मुकेश कुमार को टीम इंडिया में शामिल किया गया है. (Twitter)

IND vs SA ODI Series: वर्ष 2008-09 में जिले में आयोजित एक क्रिकेट टूर्नामेंट में मुकेश ने पहली बार अपनी शानदार गेंदबाजी ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

बंगाल के तेज गेंदबाज मुकेश कुमार को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टीम इंडिया में मिली जगह.
वनडे सीरीज के लिये रविवार को घोषित की गई टीम इंडिया में शामिल किया गया है.
बंगाल के लिये लाल गेंद से शानदार प्रदर्शन करने वाले मुकेश सेलेक्टर्स को प्रभावित करने में सफल रहे.

नयी दिल्ली. बंगाल के तेज गेंदबाज मुकेश कुमार को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 6 अक्टूबर से लखनऊ में शुरू होने वाली आगामी तीन मैचों की वनडे सीरीज के लिये रविवार को घोषित की गई टीम इंडिया में शामिल किया गया है. बंगाल के लिये लाल गेंद से शानदार प्रदर्शन करने वाले मुकेश ने सही समय पर सेलेक्टर्स को प्रभावित करने में सफल रहे हैं. पहले वह न्यूजीलैंड ए के खिलाफ प्रथम श्रेणी मैच में सर्वाधिक विकेट झटकने वाले गेंदबाज रहे और फिर उन्होंने ईरानी कप में शानदार गेंदबाजी की, जिसका ईनाम उन्हें टीम इंडिया में जगह देकर मिला.

क्रिकेट के लिए छोड़ना पड़ा था अपना राज्य

मुकेश मूलत: बिहार के रहने वाले हैं और उन्हें क्रिकेट खेलने के लिए अपना राज्य तक छोड़ना पड़ा. मुकेश के पिता कोलकाता में टैक्सी चलाते थे. उन्होंने अपने बेटे से घर की मदद करने को कहा, लेकिन मुकेश कुमार ने तो कुछ और ही सोच रखा था. जब वह 20 की उम्र में आकर क्रिकेट की ओर सही से देखना शुरू किया. इससे पहले वे रोजाना की आमदनी के लिए क्लब क्रिकेट खेला करते थे. 2014 में क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ बंगाल (CAB) के ट्रायल में पहली बार उनकी प्रतिभा को पहचान मिली. रिपोर्ट“स के अनुसार, उन्होंने कहा कि मेरी भी कहानी अन्य लोगों की तरह सामान्य है. मेरा लक्ष्य टीम इंडिया की ओर से खेलने का है.

ऐसे पहली बार चर्चा में आए थे मुकेश कुमार

वर्ष 2008-09 में जिले में आयोजित एक क्रिकेट टूर्नामेंट में मुकेश ने पहली बार अपनी शानदार गेंदबाजी का प्रदर्शन किया था. टूर्नामेंट के कुल सात मैच में एक हैट्रिक सहित कुल 34 विकेट लेकर उन्होंने अपने दमखम व प्रतिभा का परिचय दिया था. इस दौरान जिला क्रिकेट टीम के सीनियर खिलाड़ी सत्यप्रकाश नरोत्तम और उस समय के हेमन ट्रॉफी के जिला क्रिकेट टीम के कप्तान अमित सिंह की उन पर नजर पड़ी. इसके बाद मुकेश को जिला क्रिकेट टीम में शामिल किया गया.

गेंदबाज बनकर की शुरुआत, फिर IPL में कोहली की टीम में मचाया धमाल, अब टीम इंडिया से खेलेगा

रजत पाटीदार के नाबाद शतक से इंडिया ए मजबूत, न्यूजीलैंड को जीत के लिए एक दिन में चाहिए 396 रन

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ वनडे सीरीज के लिए टीम इंडिया का ऐलान, शिखर धवन बने कप्तान

इसलिए छोड़ना पड़ा बिहार

स्टीयरिंग कमेटी द्वारा वर्ष 2010-11 आयोजित अंडर 19 क्रिकेट टूर्नामेंट में उसने बिहार का प्रतिनिधित्व किया. लेकिन, दुर्भाग्यवश उस समम बिहार में क्रिकेट की मान्यता नहीं होने के कारण उसने वर्ष 2012 में पश्चिम बंगाल का रुख करना और फिर पीछे मुड़कर नहीं देखा.

बंगाल टीम का स्ट्राइक गेंदबाज है मुकेश

बंगाल में मुकेश ने वहां की स्टेट टीम में जगह बनाई. अपनी प्रतिभा के बल पर वह आज बंगाल टीम का स्ट्राइकर गेंदबाज बना हुआ है. वह रणजी ट्रॉफी के लगातार दो सीजन में 30 से ज्यादा विकेट लेकर चयनकर्ताओं की नजर में आया. इसके बाद इंडिया ए टीम में उसका चयन करने के लिए चयनकर्ता मजबूर हुए.

Tags: Hindi Cricket News, Ind vs sa, Indian crickedt team, Team india

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें