अपना शहर चुनें

States

टी-20 विश्‍व कप के लिए चुनी टीम से खुश हैं कैप्‍टन कूल

टीम इंडिया के कैप्‍टन कूल ने कहा कि चयनकर्ताओं और उनका मकसद यह था कि वे ऐसी टीम चुनें, जिसमें शामिल खिलाड़ी एक से अधिक हालात में खुद को फिट बैठा सकें.
टीम इंडिया के कैप्‍टन कूल ने कहा कि चयनकर्ताओं और उनका मकसद यह था कि वे ऐसी टीम चुनें, जिसमें शामिल खिलाड़ी एक से अधिक हालात में खुद को फिट बैठा सकें.

टीम इंडिया के कैप्‍टन कूल ने कहा कि चयनकर्ताओं और उनका मकसद यह था कि वे ऐसी टीम चुनें, जिसमें शामिल खिलाड़ी एक से अधिक हालात में खुद को फिट बैठा सकें.

  • Agencies
  • Last Updated: February 19, 2016, 9:07 PM IST
  • Share this:
भारत की एकदिवसीय और टी-20 टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने शुक्रवार को अगले महीने शुरू हो रहे टी-20 विश्व कप के लिए चुनी गई टीम को लेकर खुशी जाहिर की और कहा कि उनकी टीम हर लिहाज से संतुलित है.

लाइफस्टाइल ब्रांड-सेवन के ब्रांड एम्बेसेडर चुने गए धोनी ने कहा कि टीम का चयन काफी हद तक रणनीतिक जरुरतों पर निर्भर करता है, ऐसे में वह इसे लेकर विस्तार में बात नहीं कर सकते लेकिन जहां तक संतुलन की बात है तो वह अपनी टीम से खुश हैं.
धोनी ने कहा कि मैं इस विषय को बहुत विस्तार नहीं दूंगा क्योंकि इसमें रणनीति का मुद्दा भी शामिल है, लेकिन मेरा मानना है कि जो 15 खिलाड़ी हमारे पास हैं, उनमें से अगर किसी को कुछ होता है तो हमारे पास उनका स्थानापन्न मौजूद है. मुझे एक सीमिंग ऑलराउंडर की जगह अगर एक स्पिनिंग ऑलराउंडर के साथ खेलना होगा तो हमारे पास वह भी है.

टीम इंडिया के कैप्‍टन कूल ने कहा कि चयनकर्ताओं और उनका मकसद यह था कि वे ऐसी टीम चुनें, जिसमें शामिल खिलाड़ी एक से अधिक हालात में खुद को फिट बैठा सकें. उन्‍होंने कहा कि हमारी टीम काफी संतुलित है और किसी भी परिस्थिति में हम टीम में उपयुक्त फेरबदल करने की स्थिति में होंगे.
विश्व कप का आयोजन 15 मार्च से 3 अप्रैल तक भारत के विभिन्न शहरों में होगा. भारत का पहला मैच 15 मार्च को नागपुर में न्यूजीलैंड से होगा. इसके बाद भारत 19 मार्च को धर्मशाला में चिर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान से भिड़ेगी.



विश्व कप से पहले भारत को एशिया कप में खेलना है. इस साल इस टूर्नामेंट का आयोजन टी-20 फॉमेट में हो रहा है. इसका आयोजन बांग्लादेश में 24 फरवरी से होना है और भारतीय टीम इसके लिए 21 फरवरी को रवाना हो रही है.

भारत ने आस्ट्रेलिया में पांच मैचों की एकदिवसीय सीरीज 1-4 से गंवाने के बाद टी-20 सीरीज में 3-0 से जीत हासल की थी और फिर अपने घर में श्रीलंका को टी-20 सीरीज में 2-1 से हराया.

इस सीरीज में धोनी ने रविचंद्रन अश्विन से गेंदबाजी की शुरुआत कराई. अश्विन ने शानदार प्रदर्शन किया और तीसरे मैच में विशाखापट्टन में 8 रन देकर चार विकेट लिए. पूरी सीरीज में भारतीय गेंदबाजों ने अच्छा खेल दिखाया लेकिन ऑस्ट्रेलिया के साथ हुई एकदिवसीय सीरीज में 300 और उससे अधिक के लक्ष्य को बचा नहीं सके थे.

टी-20 फॉरमेंट में गेंदबाजों के अच्छे प्रदर्शन को लेकर माही ने कहा कि टी-20 में हमारी गेंदबाजी अच्छी रही है. गेंदबाज इस फॉरमेट के लिहाज से काफी अनुभवी हैं. 50 ओवर में सबकुछ अलग हो जाता है. यहां हालात बदल जाते हैं.

50 ओवर फॉरमेट में दबाव बनाने की बात आती है और उसमें सफलता नहीं मिलने पर खुद पर ही दबाव बन जाता है. 50 ओवर फॉरमेट में डेथ ओवरों में हम लगातार अच्छी गेंदबाजी नहीं कर सके हैं, लेकिन टी-20 में हमारी गेंदबाजी संतुलित है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज