ICC चेयरमैन का बड़ा बयान, बोले-टेस्‍ट क्रिकेट को 'मरने' से बचाने के लिए उठाया ये कदम

आईसीसी ने अक्टूबर, 2017 में टेस्ट चैम्पियनशिप को मंजूरी दे दी थी. इसके पहले संस्‍करण में नौ टीमें हिस्सा लेंगी और यह 2019 वर्ल्‍ड कप के बाद शुरू होगी.

News18Hindi
Updated: February 8, 2019, 10:23 AM IST
ICC चेयरमैन का बड़ा बयान, बोले-टेस्‍ट क्रिकेट को 'मरने' से बचाने के लिए उठाया ये कदम
शशांक मनोहर
News18Hindi
Updated: February 8, 2019, 10:23 AM IST
क्रिकेट की सर्वोच्‍च संस्‍था आईसीसी के चेयरमैन शशांक मनोहर ने कहा है कि टेस्ट क्रिकेट मर रहा है और इसे बचाने के लिए ही टेस्ट चैम्पियनशिप को लाया गया है. जबकि फिलहाल वह बांग्लादेश के दौरे पर हैं और उन्‍होंने बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना से मुलाकात की है.

वेबसाइट ईएसपीएनक्रिकइंफो ने शशांक के हवाले से लिखा है, 'हम देखने की कोशिश कर रहे हैं कि टेस्ट चैम्पियनशिप लोगों में दिलचस्पी पैदा कर सकती है या नहीं, क्योंकि हकीकत में टेस्ट क्रिकेट मर रहा है. इसलिए स्थिति को बेहतर करने के लिए हम कई तरीके अपना रहे हैं. आईसीसी बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स इस नतीजे पर पहुंचे थे कि अगर हम टेस्ट चैम्पियनशिप की शुरुआत करेंगे तो टेस्ट क्रिकेट जिंदा रहेगा और इससे खेल के प्रति लोगों का रुझान बढ़ेगा.'

वैसे आईसीसी चेयरमैन ने साफ तौर पर माना कि मौजूदा वक्‍त में टी20 की लोकप्रियता बढ़ रही है और इस बात का अंदाजा उसकी टीआरपी से लगाया जा सकता है.



उन्‍होंने कहा, 'अगर आप ब्रॉडकास्‍टर की टीआरपी देखें तो टी20 की टीआरपी ज्यादा है यह इसलिए है क्योंकि यह खेल का सबसे छोटा फॉर्मेट है. यकीनन अब लोगों के पास पांच दिन का टेस्‍ट मैच देखने का समय नहीं है.'

आपको बता दें कि आईसीसी ने अक्टूबर, 2017 में टेस्ट चैम्पियनशिप को मंजूरी दे दी थी. इसके पहले संस्‍करण में नौ टीमें हिस्सा लेंगी और यह 2019 वर्ल्‍ड कप के बाद शुरू होगी.

जबकि इस दौरान आईसीसी चेयरमैन शशांक ने क्रिकेट के ओलंपिक में शामिल किए जाने को लेकर कहा,' हम ओलंपिक में क्रिकेट को शामिल करने को लेकर मंथन कर रहे हैं, लेकिन 15 दिन के इवेंट में क्रिकेट के टूर्नामेंट कैसे खत्‍म किया जा सकता है. इसके अलावा क्रिकेट के लिए स्‍टेडियम की भी जरूरत है, क्‍योंकि जहां ओलंपिक गेम्‍स होते हैं वो देश अमूमन तौर पर क्रिकेट नहीं खेलते हैं.'

हालांकि आईसीसी के सीईओ डेविड रिचर्डसन ने कुछ समय पहले कहा था कि आईसीसी के सर्वे के मुताबिक 87 फीसदी लोग क्रिकेट को ओलंपिक में देखना चाहते हैं, लेकिन आईसीसी अध्‍यक्ष का फिक्रमंद होना भी जायज है.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर