सौरव गांगुली और जय शाह बने रहेंगे अपने पद पर, सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई टली

सौरव गांगुली और जय शाह को लेकर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई टली (Sourav Ganguly Twitter)

सौरव गांगुली और जय शाह को लेकर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई टली (Sourav Ganguly Twitter)

बीसीसीआई के अध्यक्ष सौरव गांगुली और सचिव जय शाह का कार्यकाल 2020 के मध्य समाप्त हो चुका है. हालांकि, दोनों अपने पदों पर कार्य कर रहे हैं क्योंकि सुप्रीम कोर्ट इस मामले की सुनवाई नहीं कर पाया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 16, 2021, 11:02 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार (15 अप्रैल) को भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) की सुनवाई को दो सप्ताह के लिए स्थगित कर दिया है. इस मामले में अब सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) और जय शाह (Jay Shah) को आरोपों का जवाब देने का और भी समय मिल गया है. बीसीसीआई के अध्यक्ष सौरव गांगुली और सचिव जय शाह का कार्यकाल 2020 के मध्य समाप्त हो चुका है. हालांकि, दोनों अपने पदों पर कार्य कर रहे हैं क्योंकि सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) इस मामले की सुनवाई नहीं कर पाया.

सुप्रीम कोर्ट ने 9 दिसंबर को इस पर अपनी अलग-राय रखी थी. फरवरी में यह मामला मार्च तक के लिए खिसका दिया गया. इस निरंतर देरी ने यह सुनिश्चित कर दिया है कि गांगुली और शाह को अपने पदों से नहीं हटाया जा सकता.

IPL 2021 Points Table: राजस्थान से हार दिल्ली चौथे नंबर पर, पहले पर पहुंची RCB

बीसीसीआई का संविधान अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, सचिव, संयुक्त सचिव और खजांची को इस बात की इजाजत देता है कि वे तीन साल तक कूलिंग ऑफ पीरियड में बने रह सकते हैं, यह सुविधा छह साल लगातार अपने पद पर बने रहने के बाद मिलती है. तीन साल के कूलिंग आफ पीरियड के बाद तीन साल का और समय मिल सकता है. यानी वह 9 साल तक पद पर बने रह सकता है.
यह उन सात अहम नियमों में से एक है, जिस पर पूरा संविधान खड़ा है. इसमें ही बीसीसीआई ने संशोधन किया है. इसमें किसी भी तरह का संशोधन पदाधिकारियों को अपने पद पर बने रहने की छूट देता है. 23 अक्टूबर 2019 को बीसीसीआई के अध्यक्ष पद पर सौरव गांगुली बैठे थे. पहले कार्यकाल में वह केवल 278 दिन प्रमुख बने रहे. जुलाई 2014 में वह कैब में संयुक्त सचिव बने थे.

बेटी वामिका के आने से बदल गई है विराट-अनुष्का की जिंदगी, बोले- उसे हंसते हुए....

लिहाजा 26 जुलाई 2020 को उनका बीसीसीआई कार्यकाल खत्म हो गया. सचिव शाह ने 2013 में गुजरात क्रिकेट एसोसिएशन के सचिव बने थे. इससे पहले वह जीसीए एक्जीक्यूटिव थे. तब से वह जीसीए से जुड़े थे. लिहाजा उनका कार्यकाल भी समाप्त हो चुका है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज