जानिए उस एक शब्द के बारे में, जिसके बाद दुनिया पर बरपा वेस्टइंडीज क्रिकेट टीम का कहर

जानिए उस एक शब्द के बारे में, जिसके बाद दुनिया पर बरपा वेस्टइंडीज क्रिकेट टीम का कहर
वेस्टइंडीज के खिलाड़ियों को नस्लवाद का सामना करना पड़ा

टीवी पर वेस्‍टइंडीज (West Indies) की टीम ने जो कुछ भी देखा, उसके बाद होटल के कमरे में छाई चुप्‍पी को मैदान पर कोहराम मचाकर तोड़ा

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 10, 2020, 10:46 AM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. पूरी दुनिया में एक बार फिर रंगभेद का मुद्दा हावी हो गया है. हाल में ही क्रिस गेल, डेरेन सैमी ने बयान दिया था कि नस्‍लवाद क्रिकेट में भी है. हालांकि क्रिकेट जगत में यह पहली बार ऐसा नहीं हुआ है. 1976 में भी वेस्‍टइंडीज टीम को नस्‍लवादी टिप्‍पणी का सामना करना पड़ा था, मगर उस एक टिप्‍पणी के बाद वेस्‍टइंडीज की टीम ही बदल गई. कैरेबियाई टीम दुनिया की सबसे खतरनाक टीम बन गई.
दरअसल बात जून 1976 की है, जब कैरेबियाई टीम को अपने इंग्‍लैंड दौरे पर पांच टेस्‍ट मैचों की सीरीज का पहला मैच खेलना था. उस समय इंग्‍लैंड के क्रिकेटर टॉनी ग्रेग ( Tony Greig) के एक शब्‍द से पूरी वेस्‍टइंडीज टीम के स्‍वाभिमान का कत्‍ल कर दिया. मगर इसके बाद का परिणाम दुनिया की हर टीम को एक लंबे समय तक भुगतना पड़ा.

ब्रेकिंग न्‍यूज पर अचानक पड़ी नजर
इंडियन एक्‍सप्रेस की खबर के अनुसार 1 जून 1976 में वेस्‍टइंडीज की टीम होटल में आराम कर रही थी और टीवी ऑन था. हालांकि किसी का भी ध्‍यान टीवी पर नहीं था, इसीलिए जैसे ही कोई उसे बंद करने गया तभी स्‍क्रीन पर ब्रेकिंग न्‍यूज के साथ ग्रेग का चेहरा फ्लैश होने लगा. अचानक हर किसी का ध्‍यान उस पर चला गया.
सालों बाद उस घटना को याद करते हुए विवियन रिचर्ड्स (Viv Richards) ने कहा कि हम लोग बस रणनीति पर चर्चा करने के लिए टीम मीटिंग के लिए जाने ही वाले थे और तभी यह सब हो गया था. हर कोई टॉनी ग्रेग को सुनने के लिए ठहर गया. मगर उस शब्‍द ने कैरेबियन क्रिकेट और वर्ल्‍ड क्रिकेट को पूरी तरह से बदल दिया. रिचर्ड्स के अनुसार टॉनी ग्रेग ने कहा कि हम अपनी टीम के कुछ साथियों की मदद से विंडीज टीम को घुटनों ला देंगे. इसके लिए ग्रेग ने ग्रोवल शब्‍द का इस्‍तेमाल किया था और उन्‍होंने इस साउथ अफ्रीकन लहजे में बोला था, जो रंगभेद से जूझ हरा था और ग्रेग वहां से लौटे ही थे. कैरेबियाई दिग्‍गज ने कहा कि उन्‍होंने इस शब्‍द को नहीं समझा था और न ही इसके नस्‍लीय मतलब को समझ पाए थे. उन्‍होंने डिक्‍शनरी में भी इसे खोजा, वहां भी कुछ नहीं मिला, मगर टीम के सीनियर साथियों का चेहरा देखने के बाद समझ आया कि यह कुछ गंभीर मामला है.



रिचर्ड्स ने कहा कि सभी के चेहरे को देखकर आसानी से समझा जा सकता था कि जो कुछ भी कहा गया, वो खेल से संबंधित नहीं था. यह हर चीज से कही अधिक व्‍यक्तिगत था. हमने महसूस किया था कि वो शब्‍द अपमानजनक था, क्‍योंकि ग्रेग साउथ अफ्रीका से लौटे थे. उन्‍होंने कहा कि ग्रेग के मुंह से उस शब्‍द को साउथ अफ्रीकन लहजे में सुनकर काफी चोट पहुंची थी.

न टीम मीटिंग हुई और न ही रणन‍ीति बनी
दिग्‍गज ने बताया कि टीवी की आवाज को बंद कर दिया गया और इसके बाद टीम मीटिंग में कोई नहीं गया. कप्‍तान क्‍लाइव लॉयड ने कहा कि टीम मीटिंग खत्‍म हो चुकी है. इसके बाद सीधे मैदान पर ही कैरेबियाई टीम और ग्रेग का आमना सामना हुआ और उस मैच में फिर जो हुआ, वो इतिहास के पन्‍नों में दर्ज हो गया. जब भी ग्रेग बल्‍लेबाजी के लिए आते, कैरेबियाई गेंदबाज पूरी तरह से हावी हो जाते. ग्रेग को फुल लेंथ गेंद फेंकी जाती, जिससे कई बार उनका शरीर को हिट हुआ.
इस मैच में कैरेबियाई गेंदबाजों ने ग्रेग की हालत बुरी कर दी थी. इस मैच को ग्रेग चाहकर भी नहीं भूल सके. रिचर्ड्स ने भी इसे व्‍यक्तिगत लिया और उन्‍होंने इस मैच में इंग्लिश गेंदबाजों की जमकर धुनाई की. उन्‍होंने सात पारियों में 829 रन बनाए थे. जिसमें दो दोहरे शतक शामिल थे. उनका सर्वश्रेष्‍ठ स्‍कोर 291 रन का रहा. इसके बाद कैरेबियाई टीम के खेलने का अंदाज इसी तरह का हो गया और इस टीम ने एक दशक से भी ज्‍यादा समय तक क्रिकेट जगत पर राज किया.

राहुल द्रविड़ ने कही बड़ी बात- आज खेल रहा होता तो किसी टीम में जगह नहीं मिलती

कोरोना के डर से पाकिस्तान का ट्रेनिंग कैंप रद्द, लेकिन इस खिलाड़ी ने की पार्टी
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज