इस गेंदबाज ने भारतीय कप्तान के 'घाव' को कुरेदा, कहा- कोहली को गलती करते देख मजा आ गया

इस गेंदबाज ने भारतीय कप्तान के 'घाव' को कुरेदा, कहा- कोहली को गलती करते देख मजा आ गया
चैपल ने कोहली की फिटनेस पर बात करते हुए कहा ‘कोहली की फिटनेस और विकेटों के पीछे दौड़ कमाल की है. वह बेहद फिट हैं और उसकी कुछ पारियां लाजवाब रही हैं. उनकी कप्तानी भी बेखौफ है और वह हारने से नहीं डरते. वह जीत की कोशिश में हार के लिए भी तैयार रहते हैं.’

विराट कोहली (Virat Kohli) ने न्यूजीलैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज में 4 पारियों में महज 38 रन बनाए, ये उनके करियर की सबसे खराब फॉर्म में से एक है

  • Share this:
क्राइस्टचर्च. न्यूजीलैंड दौरे पर विराट कोहली (Virat Kohli) ने जैसी शुरुआत की थी वैसा ही उनका अंत भी हुआ. क्राइस्टचर्च की दूसरी पारी में विराट कोहली महज 14 रन बनाकर आउट हो गए. विराट कोहली के न्यूजीलैंड में खराब प्रदर्शन से न्यूजीलैंड की टीम बेहद खुश नजर आई. न्यूजीलैंड के सीनियर तेज गेंदबाज ट्रेंट बोल्ट (Trent Boult) ने रविवार को दूसरे टेस्ट के दूसरे दिन कहा कि विराट कोहली जैसे विश्व स्तरीय बल्लेबाज को दबाव में आकर गलतियां करते हुए देखना काफी अच्छा था.

विराट कोहली की गलतियों से कीवी टीम बेहद खुश
मेजबानों ने पूरी टेस्ट श्रृंखला में खतरनाक कोहली (Virat Kohli) को बड़ी पारी नहीं खेलने दी जो अपनी चार पारियों में 20 रन के स्कोर तक भी नहीं पहुंच सके. बोल्ट से जब पूछा गया कि कोहली को रोके रखने का राज क्या है तो उन्होंने कहा, 'कोहली दुनिया के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों में से एक हैं, इसमें कोई शक नहीं.' उन्होंने कहा कि उनकी टीम की रणनीति बाउंड्री गेंद सीमित संख्या में डालकर कोहली को दबाव में लाने की थी. बोल्ट ने कहा, 'निश्चित रूप से वह इन्हें बहुत बढ़िया तरीके से खेलते हैं और हमने उन पर काफी दबाव बनाने की कोशिश की, इन बाउंड्री गेंद को कम रखकर उसके बल्ले को चुप रखा और उसे कुछ गलतियां करते हुए देखना अच्छा था.'

भारतीय बल्लेबाजों को धीमी पिच की आदत
भारतीय बल्लेबाजी लाइन अप को मूव करती हुई गेंदों पर काफी परेशानी हो रही थी. इस पर बोल्ट ने कहा, 'शायद, वे भारत में नीची और धीमी पिचों पर खेलने के आदी हैं और उन्हें यहां सांमजस्य बिठाने में समय लगा. उसी तरह अगर मैं भारत में गेंदबाजी करूंगा तो वो हालात मेरे लिये अलग ही होंगे.' बता दें स्विंग के खिलाफ हर भारतीय संघर्ष करता दिखा और परेशानी के मामले में तो विराट कोहली काफी ऊपर थे. विराट कोहली ने पूरी टेस्ट सीरीज में 100 से भी कम गेंदें खेली. वो 4 पारियों में सिर्फ 38 रन बना सके. टेस्ट करियर में 50 से ऊपर का औसत रखने वाले विराट कोहली (Virat Kohli) इस सीरीज में महज 9.50 रनों की औसत से रन बना पाए.उनका सर्वश्रेष्ठ स्कोर महज 19 रन रहा.



सिर्फ टेस्ट ही नहीं विराट कोहली (Virat Kohli) ने वनडे और टी20 सीरीज में भी रन नहीं बनाए. वनडे सीरीज में विराट ने 3 मैचों में 25 के औसत से 75 रन बनाए. ये सीरीज भारत 0-3 से हार गया. टी20 सीरीज में कोहली के बल्ले से 4 मैचों में 26.25 की औसत से 105 रन ही निकले. साफ है न्यूजीलैंड दौरा विराट कोहली के करियर का सबसे खराब दौरों में से एक है. यही वजह है कि वनडे सीरीज में भारतीय टीम 0-3 से हार गई और अब टेस्ट सीरीज में भी भारत का सूपड़ा साफ हो सकता है. (भाषा के इनपुट के साथ)

'सुपरमैन' जडेजा ने हवा में एक हाथ से लपका कैच, साथी खिलाड़ी भी रह गए हैरान
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज