लाइव टीवी

Under 19: बल्ले से फ्लॉप, खिताब से भी चूके, मगर कप्तानी में सुपरहिट रहे प्रियम गर्ग

News18Hindi
Updated: February 10, 2020, 11:03 AM IST
Under 19: बल्ले से फ्लॉप, खिताब से भी चूके, मगर कप्तानी में सुपरहिट रहे प्रियम गर्ग
कप्तान प्रियम गर्ग को इस वर्ल्ड कप में बल्लेबाजी करने के ज्यादा मौके नहीं मिल पाए

न्यूजीलैंड और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बड़े मुकाबले में प्रियम गर्ग (Priyam Garg) की कप्तानी का असली कमाल देखने को मिला था

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 10, 2020, 11:03 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. प्रियम गर्ग (Priyam Garg) माेहम्मद कैफ, विराट कोहली, उन्मुक्त चंद और पृथ्वी शॉ के क्लब में शामिल होने से चूक गए. ये चारों वो कप्तान हैं, जिन्होंने भारत को अंडर 19 वर्ल्ड कप का खिताब दिलाया. भारत को सबसे पहली बार विश्व चैंपियन बनाने वाले कप्तान कैफ ने सीनियर टीम में भी अपना लोहा मनवाया. वहीं विराट कोहली (Virat Kohli) टीम इंडिया की कमान संभाल रहे हैं. हालांकि उन्मुक्त चंद का संघर्ष अभी भी जारी है तो पृथ्वी का सफर राह पकड़ चुका है. उपविजेता बनने के बाद प्रियम गर्ग आने वाली चुनौतियाें में खुद को कितना साबित कर पाते हैं, यह तो आने वाला समय ही बताएगा, मगर अंडर 19 विश्व कप के इस अभियान में वें बतौर कप्तान सुपरहिट रहे.

india vs bangladesh, under 19 world cup, priyam garg, cricket, sports news, bcci, bcci cricket, sports news, भारत बनाम बांग्लादेश, ‌क्रिकेट, स्पोर्ट्स न्यूज, प्रियम गर्ग, बीसीसीआई
वर्ल्ड कप ट्रॉफी के साथ भारतीय कप्तान प्रियम गर्ग और बांग्लादेश के कप्तान अकबर अली


इस पूरे ही टूर्नामेंट में फैंस उनके बल्ले का सही से कमाल नहीं देख पाए, मगर कप्तानी के दम पर उन्होंने अपना लोहा मनवा लिया. क्वार्टर फाइनल में ऑस्ट्रेलिया जैसी मजबूत टीम के सामने उनकी रणनीति ही थी, जो भारत को सेमीफाइनल तक लेकर आई. फिर पाकिस्तान के खिलाफ जीत. हालांकि फाइनल में वें मैदान पर टीम ‌की बेहतरीन अगुआई करते हुए नजर तो आ रहे थे, मगर गेंदबाज आखिरी के तीन विकेट नहीं निकाल पाए. गर्ग की ही रणनीति के अनुसार यशस्वी जायसवाल ने गेंदबाजी की और परवेज हुसैन का अहम विकेट लिया.

टूर्नामेंट में प्रियम गर्ग का प्रदर्शन

टूर्नामेंट में प्रियम गर्ग (Priyam Garg) को  सिर्फ 3 बार ही बल्लेबाजी करने  का मौका मिल पाया. जिसमें उन्होंने टूर्नामेंट के पहले मैच में श्रीलंका के खिलाफ 56 रन की पारी खेली थी. इसके बाद जापान और न्यूजीलैंड के खिलाफ उन्हें बल्‍लेबाजी  का मौका ही नहीं मिल पाया. ऑस्ट्रेलिया के क्वार्टर फाइनल के अहम मुकाबले में जरूरत के समय वह सिर्फ पांच रन ही बना पाए और पाकिस्तान के खिलाफ भी सलामी बल्लेबाजों ने उन्हें बल्लेबाजी का मौका ही नहीं दिया. फाइनल में भी वो सिर्फ सात रन ही बना पाए.

under 19 world cup, india vs bangladesh, under world cup final
भारतीय टीम ग्रुप ए की टॉपर टीम रही थी. (फाइल फोटो)


कप्तानी से संभाली टीममेरठ में जन्में 19 साल के प्रियम गर्ग (Priyam Garg)  की शानदार कप्तानी का नमूना ग्रुप स्तर पर न्यूजीलैंड और क्वार्टर फाइनल में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ देखने को मिला. दोनों ही टीमों को खिताब का प्रबल दावेदार माना जा रहा था. लीग मैच में न्यूजीलैंड से भारत को कड़ी टक्कर भी मिली. हालांकि डकवर्थ लुइस के आधार पर भारत ने मुकाबला 44 रन से जीत लिया था.  23 ओवर के खेल में भारत ने बिना किसी नुकसान के 115 रन बनाए थे और नियम के आधार पर कीवी टीम को 192 रन बनाने थे. विपक्षी टीम ने तूफानी अंदाज में पारी का आगाज किया. मगर गर्ग की रणनीति से गेंदबाजों ने 53 रन के बाद कीवी पारी को बिखेर के रख दिया. इस टूर्नामेंट में उन्होंने अपने गेंदबाजों की काबिलियत का सही से इस्तेमाल किया. उन्होंने जिस तरह से गेंदबाजों को रोटेट किया, वो देखने लायक था. उनकी इस रणनीति का परिणाम भी हर किसी ने देखा.

cricket news, sports news, india vs pakistan, icc, under 19 cricket world cup, इंडिया वस पाकिस्तान, खेल, क्रिकेट न्यूज, इंडियन क्रिकेट टीम, पाकिस्तान क्रिकेट टीम, आईसीसी, अंडर19 क्रिकेट वर्ल्ड कप, indian cricket team, pakistan cricket team, वर्ल्ड कप सेमीफाइनल, world cup semifinal, यशस्वी जायसवाल, yashaswi jaisawal
भारतीय टीम ने सबसे ज्यादा चार बार अंडर19 वर्ल्ड कप जीता है. (फाइल फोटो)


ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ लक्ष्य बचाने के लिए खास रणनीति
क्वार्टर फाइनल में भारत ने ऑस्ट्रेलिया जैसी मजबूत टीम के सामने पहले बल्‍लेबाजी करते हुए सिर्फ 233 रन ही बना पाई थी. कप्तान के अनुसार उन्हें 260 रन की उम्मीद थी. मगर पारी के बीच कुछ विकेट जल्दी गिरने से पारी लड़खड़ा गई थी. जिसके बाद निचले क्रम के बल्लेबाजों ने पारी  को 233 रन तक पहुंचाया. ऑस्‍ट्रेलिया को 234 रनाें का लक्ष्य देने के बाद प्रियम के अपनी टीम का हौंसला बढ़ाया. उनके अनुसार इस  विकेट पर 180 भी काफी थे. इसके बाद गेंदबाजों ने अपना कमाल दिखाया. वर्ल्ड कप से पहले जिम्बाब्वे और अफगानिस्तान के खिलाफ खेले गए वॉर्म अप मैच में गर्ग ने 73 और 36 रन बनाए थे.

पिता के संघर्ष से बने क्रिकेटर
प्रियम ने 2018 में रणजी ट्रॉफी (Ranji Trophy) से फर्स्ट क्लास क्रिकेट में डेब्यू किया था और उन्होंने अपने डेब्यू मैच में नाबाद शतक जड़ दिया था. प्रियम को क्रिकेटर बनाने में उनके पिता का संघर्ष भी जुड़ा है. प्रियम के सिर पर से मां का साया पहले ही उठ चुका था, इसके बाद उनके पिता ने ही मां की भी जिम्मेदारी निभाई. पिता ने दूध और अखबार बेचकर, स्कूल की गाड़ी चलाकर बेटे का सपना पूरा किया.

U19 World Cup जीतने के लिए 'गिरा' बांग्लादेश, भारतीय बल्लेबाज का घुटना 'तोड़ा'

पोंटिंग- लारा की तूफानी बल्लेबाजी, युवराज सिंह हुए फेल, 1 रन से हारी टीम

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 10, 2020, 8:50 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर