Home /News /sports /

Uttarakhand Glacier Burst: ऋषभ पंत देंगे अपनी मैच फीस, लोगों से भी मदद करने को कहा

Uttarakhand Glacier Burst: ऋषभ पंत देंगे अपनी मैच फीस, लोगों से भी मदद करने को कहा

ऋषभ पंत आईसीसी टेस्ट रैंकिंग में नंबर 7 पर पहुंचे (PIC : AP)

ऋषभ पंत आईसीसी टेस्ट रैंकिंग में नंबर 7 पर पहुंचे (PIC : AP)

Uttarakhand Glacier Burst: भारतीय विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत ने उत्तराखंड के चमोली में हुए हादसे पर दुख जताया है.

    नई दिल्ली. उत्तराखंड के चमोली जिले में रविवार को नंदा देवी ग्लेशियर का एक हिस्सा टूट जाने के कारण ऋषिगंगा घाटी में अचानक विकराल बाढ़ आ गई. इससे वहां दो पनबिजली परियोजनाओं में काम कर रहे कम से कम 10 लोगों की मौत हो गई और 150 से ज्यादा मजदूर लापता हैं. भारतीय विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत (Rishabh Pant) अपने गृह राज्य में आई इस आपदा से बेहद दुखी हैं. पंत ने हादसे के पीड़ितों की मदद के लिए अपना मैच फीस देने का ऐलान  किया है. उन्होंने ट्वीट किया, ‘उत्तराखंड में लोगों की जान जाने से गहरा दुख पहुंचा है. मैंने अपनी मैच फीस बचाव कार्य में देने का फैसला किया है और लोगों से भी मदद की अपील करता हूं.’

    रविवार को गंगा की सहायक नदियों धौली गंगा, ऋषि गंगा और अलकनंदा में बाढ़ से उच्च पर्वतीय क्षेत्रों में दहशत फैल गयी और बड़े पैमाने पर तबाही हुई. एनटीपीसी की तपोवन-विष्णुगाड पनबिजली परियोजना और ऋषिगंगा परियोजना पनबिजली परियोजना को बड़ा नुकसान हुआ और उनके कई श्रमिक सुरंग में फंस गये. तपोवन परियोजना की एक सुरंग में फंसे सभी 16 मजदूरों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया है जबकि लगभग 150 अब भी लापता है.

    पौड़ी, टिहरी, रूद्रप्रयाग, हरिद्वार एवं देहरादून समेत कई जिलों को हाई अलर्ट पर रखा गया है और आईटीबीपी एवं एनडीआरएफ को बचाव और राहत के लिए भेजा गया. भारतीय मौसम विज्ञान विभाग ने कहा है कि अगले दो दिनों तक क्षेत्र में वर्षा की संभावना नहीं है. मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने मृतकों के परिजनों को चार-चार लाख रुपये का मुआवजा देने की भी घोषणा की.

    यह भी पढ़ें:

    IPL 2021 Auction: अर्जुन तेंदुलकर पर दांव लगा सकती हैं ये 3 टीमें, पूरा हो सकता है आईपीएल खेलने का सपना

    WI vs BAN: मौत को मात दे चुके हैं काइल मायर्स, अब दोहरा शतक ठोक जिताया टेस्ट मैच

    बाढ़ आने के समय 13.2 मेगावाट की ऋषिगंगा परियोजना और एनटीपीसी की 480 मेगावाट तपोवन-विष्णुगाड परियोजना में लगभग 176 मजदूर काम कर रहे थे जिसकी पुष्टि मुख्यमंत्री रावत ने स्वयं की. इनके अलावा, ऋषिगंगा परियोजना में ड्यूटी कर रहे दो पुलिसकर्मी भी लापता हैं. हालांकि, इन 176 मजदूरों में से कुछ लोग भाग कर बाहर आ गए.

    Tags: Cricket news, India Vs England, Rishabh Pant, Uttarakhand Glacier burst, Uttrakhand

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर