संन्यास के बाद बोले वेणुगोपाल राव-आंध्र का खिलाड़ी खेलने की इच्छा जताता था तो उसका मजाक उड़ाया जाता था

टीम इंडिया के लिए 16 वनडे खेलने वाले राव ने 30 जुलाई 2005 को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में डेब्यू किया था.

News18Hindi
Updated: July 31, 2019, 2:02 PM IST
संन्यास के बाद बोले वेणुगोपाल राव-आंध्र का खिलाड़ी खेलने की इच्छा जताता था तो उसका मजाक उड़ाया जाता था
वेणु गोपाल आंद्र प्रदेश के क्रिकेटर थे
News18Hindi
Updated: July 31, 2019, 2:02 PM IST
भारतीय टीम के बल्लेबाज और आंध्र प्रदेश के कप्तान रह चुके वेणुगोपाल ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया है. टीम इंडिया के लिए 16 वनडे खेलने वाले राव ने 30 जुलाई 2005 को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में डेब्यू किया था. संन्यास के बाद वेणुगोपाल ने उन दिनों को भी याद किया जब आंध्र प्रदेश का कोई खिलाड़ी टीम इंडिया में खेलने की इच्छा जाहिर करता था तो लोग उसकी हंसी उड़ाते थे.

वेणुगोपाल राव के लिए ड्रेसिंग रूम में मेरे बिताए सबसे सुखद पलों में से एक तब था जब टीम इंडिया के तत्कालीन कोच ग्रेग चैपल ने उनकी तारीफ की थी और दूसरा वो क्षण जब उन्होंने अपने बल्लेबाजी आदर्श सचिन तेंदुलकर के साथ ड्रेसिंग रूम शेयर किया था. हालांकि 2017 के बाद से वेणुगोपाल राव सिर्फ कॉरपोरेट टूर्नामेंट खेल रहे थे. इस दौरान संन्यास का विचार लगातार उनके मन में चलता रहा.

अपने करियर के बारे में वेणुगोपाल राव ने ईएसपीएनक्रिकइंफो को बताया कि 1990 की शुरुआत में जब आंध्र प्रदेश का कोई खिलाड़ी खेलने की इच्छा जताता था तो उसका मजाक उड़ाया जाता था. मगर आंध्र के दो क्रिकेटरों ने इस बात को गलत साबित किया. राव के अलावा ऐसे दूसरे क्रिकेटर एमएसके प्रसाद रहे जो अब भारतीय टीम के मुख्य चयनकर्ता भी हैं.

30 जुलाई 2005 को श्रीलंका के खिलाफ डेब्यू करने वाले वेणुगोपाल राव ने फर्स्ट क्लास मैचों में 7 हजार से ज्यादा रन बनाए थे.
30 जुलाई 2005 को श्रीलंका के खिलाफ डेब्यू करने वाले वेणुगोपाल राव ने फर्स्ट क्लास मैचों में 7 हजार से ज्यादा रन बनाए थे.


राव आगे कहते हैं कि विशाखापट्टनम के पास के गांव में मेरे पिता काम करते थे. उनकी सैलरी 7000 रुपये थी और पांच बच्चों के रहते हुए खेलना बड़ी बात थी. इसका पूरा श्रेय मेरे पेरेंट्स को जाता है. हालांकि अब इस बात को 14 साल बीत चुके हैं जब राव ने इंटरनेशनल क्रिकेट में डेब्यू किया था. तब सचिन तेंदुलकर टेनिस एल्बो से उबर रहे थे. ओवर रेट मामले में सौरव गांगुली निलंबन झेल रहे थे. वीवीएस लक्ष्मण चयनकर्ताओं की स्वाभाविक पसंद नहीं थे. और महेंद्र सिंह धोनी को ओपनिंग के लिए कहा गया था. भारतीय टीम को तब एक मिडिल ऑर्डर बल्लेबाज की जरूरत थी. ऐसे में सुरेश रैना के साथ वेणुगोपाल राव को ये जिम्मेदारी निभाने के लिए कहा गया.

डेब्यू में मुरलीधरन से सामना

वेणुगोपाल राव के अनुसार, डेब्यू मैच में मुथैया मुरलीधरन का सामना करना कभी न भूलने वाला अनुभव है. एक बल्लेबाज के तौर पर हम स्‍पिन खेलते हुए बड़े होते हैं, लेकिन मुरलीधरन का सामना करते हुए मैंने महसूस किया कि मैं पूरी तरह तैयार नहीं हूं. वह असाधारण खिलाड़ी थे.
Loading...

आंध्र प्रदेश के साथ राव का करियर

आंध्र प्रदेश के लिए खेलते हुए वेणुगोपाल राव ने 121 फर्स्ट क्लास मैच खेले, जिनमें उन्होंने 7081 रन बनाए. इस दौरान उनका औसत 40.93 का रहा. उन्होंने 17 शतक और 30 अर्धशतक लगाए.

णुगोपाल ने इंडियन प्रीमियर लीग में भी 65 मैच खेले. वो डेक्कन चार्जर्स, दिल्ली डेयरडेविल्स और सनराइजर्स हैदराबाद का हिस्सा रहे
णुगोपाल ने इंडियन प्रीमियर लीग में भी 65 मैच खेले. वो डेक्कन चार्जर्स, दिल्ली डेयरडेविल्स और सनराइजर्स हैदराबाद का हिस्सा रहे


ग्रेग ने कहा-मुझे फर्क नहीं पड़ता तुम कहां से आए हो

भारतीय टीम में आंध्र प्रदेश के क्रिकेटरों की स्थिति बयां करते हुए वेणुगोपाल बताते हैं कि मैंने क्रिकेटर के तौर पर बड़े होते हुए यही महसूस किया कि अगर तमिलनाडु या मुंबई का कोई क्रिकेटर 120 रन बनाता है तो मुझे चर्चा में आने के लिए 200 रन बनाने होंगे. भारतीय टीम में डेब्यू करने से पहले मैं काफी नर्वस था. मेरे दिमाग में कई तरह की बातें चल रही थीं. मैं थोड़ा नर्वस भी था. तब टीम के कोच ग्रेग चैपल मेरे पास आए और बोले-देखो, मुझे इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि तुम कहां से आते हो, मैं जानता हूं कि तुम यहां आने के हकदार हो और इसीलिए यहां हो. उन शब्दों से मुझे विश्वास मिला.

इस तरह पता चला सिलेक्‍शन का

वेणुगोपाल राव के अनुसार, श्रीलंका दौरे से पहले 30 संभावित खिलाड़ियों के लिए कंडीशनिंग कैंप लगा. सीनियर खिलाड़ी दूसरी टीम के साथ मैच खेले. मैंने सीनियर टीम के खिलाफ 90 रन बनाए. तब विपक्षी टीम में जहीर खान, हरभजन ‌सिंह और इरफान पठान जैसे गेंदबाज थे. ग्रेग चैपल मेरे प्रदर्शन से प्रभावित हुए और अगले दिन मुझे बताया गया कि श्रीलंका दौरे के लिए मुझे चुन लिया गया है.

युवराज और अंबाती रायडू के बाद अब टीम इंडिया के एक और खिलाड़ी ने लिया संन्यास

वर्ल्ड कप जीतने वाली टीम के सदस्य रहे राजपूत ने किया टीम इंडिया के मुख्य कोच के लिए आवेदन
First published: July 31, 2019, 2:02 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...