Home /News /sports /

Vijay Hazare Trophy: शतक लगाने के बाद क्रुणाल की आंखों से छलके आंसू, बोले- यह आपको समर्पित

Vijay Hazare Trophy: शतक लगाने के बाद क्रुणाल की आंखों से छलके आंसू, बोले- यह आपको समर्पित

बता दें कि क्रुणाल पंड्या (Krunal Pandya) ने अपने डेब्यू वनडे में तूफानी पारी खेली. उन्होंने 26 गेंद पर अर्धशतक पूरा किया. यह बतौर भारतीय बल्लेबाज डेब्यू मैच में सबसे तेज अर्धशतक है. पंड्या ने पारी में 31 गेंद का सामना किया और 7 चौके और 2 छक्के लगाए. यह पारी उन्होंने अपने दिवंगत पिता हिमांशु पंड्या को समर्पित की.
(Krunal Pandya/Instagram)

बता दें कि क्रुणाल पंड्या (Krunal Pandya) ने अपने डेब्यू वनडे में तूफानी पारी खेली. उन्होंने 26 गेंद पर अर्धशतक पूरा किया. यह बतौर भारतीय बल्लेबाज डेब्यू मैच में सबसे तेज अर्धशतक है. पंड्या ने पारी में 31 गेंद का सामना किया और 7 चौके और 2 छक्के लगाए. यह पारी उन्होंने अपने दिवंगत पिता हिमांशु पंड्या को समर्पित की. (Krunal Pandya/Instagram)

Vijay Hazare Trophy: क्रुणाल पंड्या ने विजय हजारे ट्रॉफी (Vijay Hazare Trophy) में त्रिपुरा के खिलाफ 97 गेंद पर 127 रन की पारी खेली. यह लिस्ट-ए मैच में उनका पहला शतक था. वो भी 63वें मैच में.

    नई दिल्ली. इंग्लैंड के खिलाफ पांच टी-20 की सीरीज में भले ही क्रुणाल पंड्या (Krunal Pandya) को मौका नहीं मिला हो. लेकिन उन पर इसका कोई असर नहीं हुआ. उन्होंने एक दिन पहले ही विजय हजारे ट्रॉफी (Vijay Hazare Trophy) में त्रिपुरा के खिलाफ 97 गेंद पर 127 रन की पारी खेली. यह लिस्ट-ए मैच में उनका पहला शतक था. वो भी 63वें मैच में. 29 साल के क्रुणाल ने पहले मुकाबले में भी गोवा के खिलाफ 71 रन की शानदार पारी खेली थी. यानी दो मैच में क्रुणाल 200 से अधिक रन बना चुके हैं. इस पारी को लेकर क्रुणाल बहुत भावुक हैं. उन्होंने मंगलवार को अपने ट्विटर अकाउंट से एक के बाद एक तीन ट्वीट किए और अपने पिता हिमांशु पंड्या (Himanshu Pandya) को याद किया.

    क्रुणाल ने लिखा कि यह पहला मौका था जब मैंने शतक मारा और पिताजी इस मैच को देखने के लिए मेरे साथ मौजूद नहीं थे. वो अब इस दुनिया में नहीं है. यह सोचकर ही मेरा दिल भर आता है. लेकिन मैं उन्हें जितना जानता था. उससे एक बात तो साफ है अगर वो मेरी पारी देख रहे होते तो मेरे हर रन पर खुश होते और कहते शाबाश क्रुणाल शाबाश, रमतो रेहजे ( जमे रहो).

    पिता ने अपने सपने पूरे करना का पूरा मौका दिया: क्रुणाल
    उन्होंने आगे लिखा कि संयोग से मेरी मां पहली बार मेरा मैच देखने के लिए आईं थीं और मैंने सेंचुरी मारी. मैं शतक बनाने के बाद भावुक हो गया था. मैं अपनी यह पारी पिता को समर्पित करता हूं. मुझे पता है कि उनके चेहरे पर हमेशा मुस्कुराहट रहती थी. जब भी मैंने उन्हें इस बात के लिए धन्यवाद दिया कि आपने मुझे अपने सपनों को पूरा करने का भरपूर मौका दिया. पापा आई लव यू.

    India vs England: मोटेरा में कोहली लगा सकते हैं रिकॉर्ड्स का ‘पंच’, तोड़ सकते हैं धोनी-पोंटिंग का खास रिकॉर्ड

    IND vs ENG: बुमराह अंदर, कुलदीप बाहर, पिंक बॉल टेस्ट में कुछ ऐसी हो सकती है भारत की प्लेइंग XI

    इस ऑलराउंडर ने आगे लिखा कि पिछले महीने जब मैंने सैयद मुश्ताक अली टी20 टूर्नामेंट में 76 रन बनाए थे तो मेरी उनसे क्रिकेट को लेकर बात हुई थी. तब उन्होंने कहा था कि बेटा तुम्हारा वक्त बस अब शुरू हुआ है. ये मेरे पिताजी के आखिरी शब्द थे. मैं तब पिता के मुंह से अपनी तारीफ सुनकर बहुत खुश हुआ था. लेकिन आज मेरे लिए उनके विजन को देखकर हैरान हूं.

    हार्दिक ने भी बड़े भाई क्रुणाल को शतक की बधाई दी
    उनकी इस पारी के बाद छोटे भाई हार्दिक ने भी सोशल मीडिया पर एक स्पेशल पोस्ट शेयर की. इसमें हार्दिक ने लिखा कि अब डैड तुम्हारे साथ हैं क्रुणाल. लव यू ब्रो. इस पोस्ट में क्रुणाल बल्ला उठाकर आसमान की तरफ देख रहे हैं. जैसे वो अपने पिता को ही याद कर रहे हैं.

    बता दें कि पिछले महीने क्रुणाल के पिता की कार्डियक अरेस्ट की वजह से मौत हो गई थी. वे तब सैय्यद मुश्ताक अली टी-20 टूर्नामेंट की तैयारियों में मशगूल थे. पिता की मौत की जानकारी मिलते ही क्रुणाल टूर्नामेंट छोड़कर घर लौट गए थे. दोनों भाईयों का अपने पिता के साथ रिश्ता बेहद खास था. सोशल मीडिया पर अक्सर दोनों अपने पिता के साथ बिताए मीठे पलों की तस्वीरें शेयर करते रहे थे.

    Tags: Cricket news, Krunal pandya, Vijay hazare trophy

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर