लाइव टीवी

अब धोनी-गांगुली नहीं, विराट की कप्‍तानी को लोग रखेंगे याद...

Ajay Raj | News18Hindi
Updated: January 9, 2019, 7:10 PM IST

'विराट सेना' ऑस्‍ट्रेलियाई सरजमीं पर सीरीज जीतने वाली पहली एशियाई टीम बन गई है. यह ना सिर्फ कप्‍तान कोहली बल्कि भारतीय क्रिकेट के लिए भी मील का पत्‍थर है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 9, 2019, 7:10 PM IST
  • Share this:
बेशक बारिश ने सिडनी में टीम इंडिया को ऐतिहासिक जीत दर्ज करने से रोक दिया हो, लेकिन 'विराट सेना' ऑस्‍ट्रेलियाई सरजमीं पर सीरीज जीतने वाली पहली एशियाई टीम बन गई है. यकीनन यह कामयाबी ना सिर्फ कप्‍तान विराट कोहली बल्कि भारतीय क्रिकेट के लिए भी मील का पत्‍थर है. आखिर इस जीत ने विदेशी धरती पर बतौर कप्‍तान विराट कोहली का कद बहुत ऊंचा कर दिया है. जबकि कोहली मौजूदा दौर के सर्वश्रेष्‍ठ बल्‍लेबाज़ हैं और उनकी यही रफ्तार जारी रही तो अगले कुछ साल में क्रिकेट के भगवान माने जाने सचिन तेंदुलकर को भी लोग भूल सकते हैं.

हालांकि सिडनी में दो दिन बारिश ने खलल ना डाला होता तो विराट भारतीय क्रिकेट के महानतम कप्‍तान माने जाने वाले सौरव गांगुली से विदेश में टीम को जीत दिलाने के मामले में आगे निकल जाते. दादा और विराट ने विदेश में 11-11 बार विरोधी टीम के दांत खट्टे किए हैं. जबकि सिडनी टेस्‍ट के ड्रॉ होने के कारण विराट टीम को सबसे अधिक टेस्‍ट जीत दिलाने का रिकॉर्ड बनाने से भी चूके गए हैं. पूर्व कप्‍तान महेंद्र सिंह धोनी और विराट ने 26-26 बार टीम को जीत दिलाई है. बेशक धोनी से विराट एक कदम पीछे हैं और उन्‍हें पछाड़ने के लिए 2019 वर्ल्‍ड कप के बाद तक इंतजार करना पड़ेगा, लेकिन उनको भारत का महानतम कप्‍तान कह देना शायद अब कोई अतिश्‍योक्ति नहीं होगी. आखिर इतने विराट आंकड़े रखने के बाद उन्‍हें सलाम करना तो बनता है.



 

मजेदार बात ये है कि उनकी आधिकारिक कप्‍तानी के जुम्‍मा जुम्‍मा अभी चार साल ही हुए हैं. जी हां, जनवरी, 2015 में इसी सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर धोनी के उत्‍तराधिकारी के रूप में युवा विराट ने टीम की कप्‍तानी संभाली थी. वैसे वह 9 दिसंबर, 2014 से ऐडिलेड में शुरू हुए टेस्‍ट में भी कप्‍तान थे, लेकिन तब उन्‍होंने ये जिम्‍मेदारी धोनी की अनुपस्थिति में संभाली थी. इससे भी हैरानी की बात ये है कि जब विराट को टीम की कप्‍तानी मिली उस वक्‍त भारत दुनिया की सातवें नंबर की टीम थी और अब वह नंबर एक टीम है. और ये सब उनकी कड़ी मेहनत, दमदार कप्‍तानी और साथी क्रिकेटर पर भरोसे के कारण ही संभव हुआ है. हां, कप्‍तानी के पहले 35 टेस्‍ट में 35 बदलाव करने के कारण और कभी किसी खिलाड़ी विशेष को तरजीह देने के कारण उनकी आलोचना भी हुई है, लेकिन क्रिकेट में ऐसा होना लाजिमी है. आखिरी उनके गुरू (धोनी) को भी तो टीम इंडिया को आईसीसी की तीन-तीन ट्रॉफियां दिलाने के बावजूद आलोचनाओं का सामना करना पड़ा है.



 
Loading...

बहरहाल, खुद विराट ने मौजूदा सीरीज के सिडनी टेस्‍ट के आगाज से पहले कहा, ‘आपका नाम भले ही सम्मान के साथ बोर्ड पर लिखा हो लेकिन अगर आपकी टीम जीत दर्ज नहीं करती तो यह मायने नहीं रखता. अब तक यह बड़ी चीज है, बड़ी सीरीज जीत, सिर्फ मेरे लिए ही नहीं लेकिन पूरी टीम के लिए भी, क्योंकि इसी स्थान पर हमने चार साल पहले बदलाव के दौर की शुरुआत की थी और अब हम अपनी विरासत को आगे बढ़ाना चाहते हैं.’

यकीनन विराट ने बेशक मैदान के बाहर अपनी बेजा हरकतों ने अपने प्रशंसकों को निराश किया हो लेकिन टीम इंडिया के कप्‍तान के तौर उन्‍होंने हमेशा देश का नाम ऊंचा किया है और यही बात उन्‍हें भारत का सर्वकालिक महान कप्‍तान बनाने के लिए काफी है. जबकि अगले कुछ सालों तक उनकी कप्‍तानी और बल्‍लेबाजी को टक्‍कर देने वाला भारतीय टीम में कोई खिलाड़ी नहीं है.

कोहली का 'विराट' रिकॉर्ड
वैसे कोहली ने 2014 में सिडनी से ही अपनी कप्‍तानी की शुरुआती की थी और तब से लेकर अब तक वह 46 टेस्‍ट में कप्‍तानी कर चुके हैं. इसमें से 26 बार उनकी जीत हुई है तो 10 बार हार का सामना करना पड़ा है. वहीं 10 टेस्‍ट ड्रॉ रहे हैं. कोहली का जीत प्रतिशत 56.52 है, जो कि भारतीय रिकॉर्ड है. अगर जीत की बात करें तो वह धोनी (27 जीत, मैच-60) से सिर्फ वह एक कदम पीछे हैं.



वनडे और टी20 क्रिकेट में दिखा कप्‍तानी दम
कोहली ने अब तक 216 वनडे खेले हैं और 2013 में पहली बार उन्‍हें वनडे टीम की कप्‍तानी करने का मौका मिला था. अब तक उन्‍होंने 57 मैचों में टीम को लीड किया है, जिसमें से 42 में जीत और 13 में हार मिली है. जबकि एक मैच टाई रहा तो एक का कोई रिजल्‍ट नहीं निकला. वहीं वह 20 बार टी20 क्रिकेट में अपनी टीम को लेकर उतरे हैं, जिसमें से 12 में जीत तो सात में हार मिली है. एक मैच का कोई रिजल्‍ट नहीं निकला है.

बल्‍लेबाज़ विराट
विराट कोहली ने 77 टेस्‍ट में 53.76 के औसत से 6613 रन (25 शतक) बनाए तो 216 वनडे मैचों में 59.83 के औसत से उनके नाम 10232 रन दर्ज हैं. यही नहीं, 38 बार उनके बल्‍ले से सैकड़ा भी निकला है. अगर टी20 क्रिकेट की बात करें तो उन्‍होंने अब तक 65 मैचों में 49.25 के औसत से 2167 रन कूटे हैं.



शतकों का नया बादशाह बनने की राह पर विराट
इंटरनेशनल क्रिकेट में विराट के नाम 63 शतक दर्ज हैं, जो अपने आप में बड़ी बात है. शतकों का शतक पूरा करने वाले सचिन तेंदुलकर के अलावा रिकी पोंटिंग (71) की उनसे आगे हैं. क्‍या पता अपनी बल्‍लेबाजी की वजह से आधुनिक क्रिकेट का 'डॉन ब्रैडमैन' बन चुके कोहली पोंटिंग को अगले कुछ महीनों में पछाड़कर नंबर दो पर पहुंच जाएं. जबकि विराट का अगला पड़ाव सचिन के 100 शतक ही होंगे. फिलहाल क्रिकेट में सक्रिय खिलाड़ी के तौर पर हाशिम अमला 54 शतक के साथ विराट का पीछा कर रहे हैं, लेकिन उनके लिए हमवतन जैक कैलिस (62) अगला और मुश्किल लक्ष्‍य है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 7, 2019, 12:53 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...