भुवी-बुमराह से पहले टीम इंडिया की 'रन-मशीन' को है IPL से दूर रहने की जरूरत, ये है वजह

इस साल अब तक विराट हर फॉर्मेट (टेस्ट, वनडे, टी20 और आईपीएल) के 55 मैच खेल चुके हैं. इन मैचों में उन्होंने 3485 गेंदों यानी 580 ओवर बल्लेबाजी की है.

News18Hindi
Updated: November 10, 2018, 10:14 AM IST
भुवी-बुमराह से पहले टीम इंडिया की 'रन-मशीन' को है IPL से दूर रहने की जरूरत, ये है वजह
टीम इंडिया
News18Hindi
Updated: November 10, 2018, 10:14 AM IST
टीम इंडिया के कप्‍तान विराट कोहली क्रिकेट फैन को विदेश जाने की सलाह देने के कारण सोशल मीडिया पर जमकर ट्रोल होने के अलावा आईपीएल से जसप्रीत बुमराह और भुवनेश्‍वर कुमार को दूर रखने की सलाह देने के कारण चर्चा में हैं. विराट कोहली ने हाल ही में सीओए के साथ हुई बैठक में ये मांग रखी है कि तेज गेंदबाजों को आईपीएल नहीं खेलने दिया जाए. खासकर जसप्रीत बुमराह और भुवनेश्वर कुमार को पूरे आईपीएल से विश्राम देने का सुझाव दिया ताकि वे विश्व कप के लिये तरोताजा रहें.

यकीनन विराट की इस सोच की जितनी तारीफ की जाए कम है. समिति अगर उनकी इस मांग को स्वीकार कर लेती है, तो इंग्लैंड में होने वाले विश्व कप में टीम इंडिया की संभावनाएं मजबूत होंगी. लेकिन बड़ा सवाल यह है कि क्या वर्ल्ड कप को देखते हुए सिर्फ तेज गेंदबाजों को ही थकावट से बचाने के लिए आईपीएल से दूर रखने की जरूरत है?

इन दो सालों में कप्तान विराट कोहली की फॉर्म ने टीम इंडिया को लगातार रन दिए हैं और उनका बल्ला वनडे में टीम की जीत की गारंटी भी नजर आता है. शायद यही कारण है कि अखबारों की हेडलाइनों में उन्हें ‘वन मैन आर्मी’ और ‘रन- मशीन’ जैसी संज्ञाएं दी जा रही हैं.

विराट कोहली


लेकिन एक खतरा है. पिछले दो साल से जिस तरह से वह लगातार खेल रहे हैं या यूं कहिए कि टीम में अकेले ही खेल रहे हैं, उन्हें भी आईपीएल से छुट्टी लेनी चाहिए ताकि वह पूरी ताजगी के साथ भारत की विश्व कप में संभावनाओं को मजबूत कर सकें.

बतौर बल्लेबाज विराट कोहली पर वर्क लोड परेशान कर देने वाला है. इस साल अब तक वह हर फॉर्मेट (टेस्ट, वनडे, टी20 और आईपीएल) के 55 मैच खेल चुके हैं. इन मैचों में उन्होंने 3485 गेंदों यानी 580 ओवर बल्लेबाजी की है.

ये भी पढ़ें: विदेशी खिलाड़ियों को लेकर कमेंट पर 'विराट' विवाद में फंसे कोहली, लोगों ने खूब सुनाई खरी-खोटी
Loading...
पिछले साल के आंकड़ें जोड़ दें तो वह 1132 से ज्यादा ओवर तक क्रीज पर रहे. फील्डिंग, कप्तानी और मैचों के लिए लगातार यात्राएं कीं. इसके अलावा उन्होंने 2017-2018 में अब तक मैराथन बल्लेबाजी से नौ शतक भी ठोके हैं.

विराट कोहली


इस साल अब तक 14 वनडे, 20 टेस्ट, सात टी-20 और 14 आईपीएल के मैच खेल चुके हैं. टीम के बाकी सदस्य इन आंकड़ों के आस-पास भी नहीं हैं. खुदा की रहमत है कि उनकी फिटनेस जबर्दस्त है, लेकिन ऐसा भी नहीं है कि शरीर कभी धोखा नहीं देगा.

राष्ट्रमंडल खेलों के दौरान स्थापित किए गए सफदरजंग अस्पताल के स्पोर्ट्स मेडिसन सेंटर के निदेशक दीपक चौधरी बताते हैं कि शरीर के ज्यादा इस्तेमाल से खिलाड़ियों का चोटिल होना सामान्य बात है. क्योंकि अगर जिस्म का ज्यादा इस्तेमाल हो रहा है तो विश्व स्तरीय प्रतिस्पर्धा में फिर से उतरने के लिए मसल्स की रिकवरी होना बहुत जरूरी है. शरीर के मसल ठीक से रिकवर न होने की स्थिति में खिलाड़ी के चोटिल होने का पूरे चांस हैं.

असल में इन सब में आईपीएल फॉर्मेट शरीर को तोड़ देने वाला है. कल्पना कीजिए कि एक खिलाड़ी की, जिसे अल-सुबह एक-दो बजे मैच खत्म करने के बाद अगले मुकाबले के लिए सुबह फ्लाइट पकड़नी हो और 15-20 घंटे बाद वह फिर मैदान पर हो.

विराट कोहली


पूरे डेढ़ महीने एक से दूसरे शहर, घर से दूर होटल-दर-होटल, बाहर का खाना, यह सब ऐसा है जो किसी को भी जिस्मानी, दिमागी और भावनात्मक तौर पर तोड़ देता है. जाहिर है कि इन्हीं संभावनाओं को ध्यान में रखते हुए विराट ने तेज गेंदबाजों को अगले आईपीएल से बाहर रखने का सुझाव दिया है.

खुद विराट इस समय सबसे ज्यादा बोझ उठाए हुए हैं और विश्व कप से पहले उन्हें लेकर चिंता लाजिमी है. उम्मीद की जानी चाहिए कि विराट जैसे क्रिकेटर को बचाने के लिए प्रशासक समिति खुद उन्हें आईपीएल से बाहर बैठ विश्व कप के लिए जिस्म को तैयार रखने को कहेगी, क्योंकि विश्व कप में उनका बल्ला सबसे ज्यादा जीत की संभावना की राह दिखा सकता है.

ये भी पढ़ें- फैंस, मीडिया और खिलाड़ियों पर बार-बार क्‍यों भड़क जाते हैं विराट कोहली?
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर