विराट कोहली ने खोला अपनी सफलता का राज, बताया कैसे बनाए इतने रन और शतक

विराट कोहली को आईसीसी ने दशक का सर्वश्रेष्ठ पुरुष क्रिकेटर चुना है.

विराट कोहली को आईसीसी ने दशक का सर्वश्रेष्ठ पुरुष क्रिकेटर चुना है.

विराट कोहली (Virat Kohli) को आईसीसी (ICC) ने दशक का सर्वश्रेष्ठ पुरुष क्रिकेटर (ICC Male Cricketer of the Decade) चुना है. इसके अलावा कोहली दशक के सर्वश्रेष्ठ वनडे पुरुष क्रिकेटर भी चुने गए हैं.

  • Share this:

नई दिल्ली. क्रिकेट के इतिहास में भारतीय कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) ने अपने नाम एक और उपलब्धि जोड़ ली है. कोहली को आईसीसी ने दशक का सर्वश्रेष्ठ क्रिकेटर (ICC Cricketer Of The Decade) और दशक का सर्वश्रेष्ठ वनडे खिलाड़ी चुना है. आईसीसी अवॉर्ड मिलने के बाद टीम स्टार के बल्लेबाज कोहली ने अपनी सफलता का राज खोला है. उन्होंने कहा कि वह हमेशा टिककर बल्लेबाजी करना चाहते हैं और टीम की जीत में योगदान करना चाहते हैं.

कोहली ने बयान में कहा, "सबसे पहले तो यह पुरस्कार मिलना मेरे लिए बड़े सम्मान की बात है. पिछले एक दशक में जो लम्हा मेरे दिल के सबसे करीब है वह निश्चित तौर पर 2011 में विश्व कप, 2013 में चैंपियन्स ट्रॉफी और 2018 में ऑस्ट्रेलिया में सीरीज जीतना है." सर्वश्रेष्ठ वनडे क्रिकेटर चुने जाने पर कोहली ने कहा, "वनडे अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से मैं काफी जल्दी जुड़ गया था. मैंने पहले वनडे अंतरराष्ट्रीय टीम में जगह बनाई और इसके कुछ साल बाद मैंने टेस्ट पदार्पण किया." उन्होंने कहा, "इसलिए मुझे काफी पहले ही अपने खेल को समझने का मौका मिला. और मैं पहले भी कह चुका हूं कि मेरा एकमात्र इरादा और मानसिकता टीम के लिए विजयी योगदान देना था और मैंने अपने प्रत्येक मैच में सिर्फ ऐसा करने का प्रयास किया."

कोहली ने बनाए 20 हजार से ज्यादा रन

विराट कोहली ने पिछले दस सालों में टेस्ट, टी20 और वनडे में 56.97 की औसत से 20,396 रन बनाए हैं. उन्होंने इस दशक में 66 शतक और 94 अर्धशतक जड़ा है. कोहली इस दशक में वनडे में 10 हजार से ज्यादा रन बनाने वाले एकमात्र खिलाड़ी हैं. ये रन उन्होंने 61.83 की औसत से बनाए हैं. उन्होंने पिछले दस सालों में वनडे में 39 शतक और 48 अर्धशतक जड़ा है.
आंकड़ों पर कभी नहीं दिया ध्यान

कोहली ने कहा, "अपने इस सफर के दौरान मैंने कभी आंकड़ों और संख्या पर ध्यान नहीं दिया और आप मैदान पर जो कुछ भी करते हो यह उसका नतीजा है और मेरे लिए यह जीत के रास्ते पर चलते हुए हासिल की गई उपलब्धियां हैं." उन्होंने कहा, "अगर सिर्फ निरंतरता पर फोकस किया जाए तो मुझे नहीं लगता कि आप लगातार अच्छा प्रदर्शन कर सकते हैं. आपको यह सुनिश्चित करना होता है कि आप मैदान पर उतरें तो हर हालत में टीम की जीत का प्रयास करें. ऐसा सोचने पर ही आप अपनी सीमाओं और क्षमताओं से बेहतर प्रदर्शन कर सकते हैं.''

यह भी पढ़ें:



विराट कोहली ने हासिल की बड़ी उपलब्धि, आईसीसी ने दशक का सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी चुना

विराट कोहली को आईसीसी ने दिया बड़ा सम्मान, दशक के सर्वश्रेष्ठ वनडे खिलाड़ी चुने गए

मैदान पर अपना दिल और आत्मा लगा देता हूं

उन्होंने कहा, ''मेरी हमेशा यही सोच रही है. मैं मैदान पर अपना दिल और आत्मा लगा देता हूं और प्रयास करता हूं कि एक टीम के रूप में हम सही दिशा में बढ़े. नतीजा मिले या नहीं.'' कोहली ने कहा कि टीम के लक्ष्यों के साथ ही व्यक्तिगत प्रदर्शन जुड़ा होता है. इससे खिलाड़ी को सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन में मदद मिलती है और उनके साथ भी ऐसा ही हुआ है.'' उन्होंने कहा कि इससे सभी प्रारूपों में लंबे समय तक अच्छा प्रदर्शन करने में मदद मिलती है. आप यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि हर बार मैदान पर उतरें तो टीम के लिये कुछ यादगार कर जाएं.

क्रिकेट के हर फार्मेट में खेलना चाहते हैं कोहली

कोहली ने कहा, ''आप 40 रन बनाये, 50 , 60 या फिर शतक या दोहरा शतक. मैं हमेशा जब तक हो सके, टिककर बल्लेबाजी की कोशिश करता हूं ताकि जीत का मार्ग प्रशस्त हो." अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में सबसे फिट खिलाड़ियों में शुमार कोहली ने कहा कि वह सारे प्रारूप खेलना चाहते हैं. उन्होंने कहा, "यह चुनौतीपूर्ण है लेकिन मेरा हमेशा से मानना रहा है कि मैं हर प्रारूप में अच्छा क्रिकेट खेलना चाहता हूं. इससे मुझे प्रारूप के अनुरूप ढलने में मदद मिलती है क्योंकि मैं बेसिक्स पर फोकस रखता हूं."

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज