होम /न्यूज /खेल /

जो मुझसे प्यार करते हैं उनके बीच भी मैं अकेला महसूस करता था: विराट कोहली

जो मुझसे प्यार करते हैं उनके बीच भी मैं अकेला महसूस करता था: विराट कोहली

पूर्व कप्तान विराट कोहली मानसिक स्वास्थ्य को लेकर अक्सर बात करते रहते हैं. (AFP)

पूर्व कप्तान विराट कोहली मानसिक स्वास्थ्य को लेकर अक्सर बात करते रहते हैं. (AFP)

भारतीय क्रिकेट में शारीरिक फिटनेस के मामले में विराट कोहली के योगदान की कई लोगों ने सराहना की है. हालांकि, भारत के पूर्व कप्तान मानसिक फिटनेस के भी प्रबल समर्थक रहे हैं. उन्होंने खुलासा किया कि कैसे उन्होंने अपने आंतरिक खुद से जुड़े नहीं होने के कारण कुछ इमोशंस के साथ संघर्ष किया.

अधिक पढ़ें ...

हाइलाइट्स

विराट कोहली ने मानसिक स्वास्थ्य पर ध्यान देने के महत्व के बारे में बताया.
कोहली ने बताया कैसे दबाव एक खिलाड़ी को प्रतिकूल रूप से प्रभावित कर सकता है.
कोहली ने कहा कि उन्हें यात्रा करना पसंद है और इससे उन्हें आराम करने में मदद मिलती है.

नई दिल्ली. भारतीय स्टार बल्लेबाज विराट कोहली (Virat Kohli) ने एक एथलीट के लिए अन्य बातों के अलावा दबाव और आलोचना के बीच मानसिक स्वास्थ्य (Mental Health) को बनाए रखने के महत्व के बारे में बात की है. उन्होंने बताया कि कई बार वह अकेला महसूस करते थे, तब भी जब वह अपने प्रियजनों से भरे कमरे में थे. उनका मानना ​​है कि यह एक ऐसी भावना है, जिससे बहुत से लोग खुद को जोड़ सकेंगे.

कोहली को लगता है कि जब भी कोई खुद से संबंध तोड़ता है तो कुछ समय निकालना और खुद से दोबारा जुड़ना जरूरी है. उन्होंने कहा कि एक एथलीट को समय का बंटवारा करना सीखना चाहिए, ताकि संतुलन बना रहे. विराट ने कहा कि यह प्रैक्टिस से होता है. इसमें निवेश करने लायक कुछ है, जो उन्हें लगता है कि काम करते समय आनंद प्राप्त करने का एकमात्र तरीका है.

VIDEO: सहवाग ने बताई 2003 वर्ल्ड कप की कहानी, शोएब अख्तर की धमकी और अफरीदी के गाली का जवाब सचिन ने कैसे दिया

‘यह निश्चित रूप से एक गंभीर मुद्दा है’
विराट ने इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में कहा, ”एक एथलीट के लिए, खेल एक खिलाड़ी के रूप में आप में से सर्वश्रेष्ठ ला सकता है, लेकिन साथ ही आप जिस दबाव में लगातार रहते हैं, वह आपके मानसिक स्वास्थ्य को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकता है. यह निश्चित रूप से एक गंभीर मुद्दा है. जितना हम हर समय मजबूत रहने की कोशिश करते हैं, यह आपको तोड़ता है.”

एक ओवर में बटोरे 34 रन, अब चढ़ा रनों के पहाड़ पर, कोहली और रोहित अधिक दूर नहीं

‘यात्रा से मिलती है तनाव कम करने में मदद’
खेलों से जुड़े लोगों को कोहली की सलाह यह है कि जहां एक अच्छा एथलीट बनने के लिए शारीरिक फिटनेस पर ध्यान देना जरूरी है, वहीं आंतरिक रूप से लगातार अपने संपर्क में रहना भी जरूरी है. उन्होंने यह भी कहा कि एक चीज जिसने उन्हें व्यस्त शेड्यूल के बाद आराम करने में मदद की, वह है परिवार के साथ समय बिताना. उन्होंने यह भी कहा कि यात्रा ने उन्हें “तनाव कम करने” में मदद की है.

ऐसा वक्त भी था, जब अकेला महसूस करते थे विराट
पूर्व भारतीय कप्तान ने कहा, ”मैंने व्यक्तिगत रूप से ऐसे समय का अनुभव किया है कि जब मुझे समर्थन और प्यार करने वाले लोगों से कमरा भरा था, उस वक्त भी मैं अकेला महसूस करता था. मुझे यकीन है कि यह एक ऐसी भावना है, जिससे बहुत से लोग जुड़े हो सकते हैं. इसलिए, अपने लिए समय निकालें और अपने खुद से फिर से जुड़ें. यदि आप वह कनेक्शन खो देते हैं, तो अन्य चीजों को आपके आस-पास उखड़ने में ज्यादा समय नहीं लगेगा.”

Tags: Cricket news, Mental health, Virat Kohli

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर