• Home
  • »
  • News
  • »
  • sports
  • »
  • विराट कोहली ने की थी नोटबंदी की तारीफ, नागरिकता कानून पर क्‍यों किया बोलने से मना

विराट कोहली ने की थी नोटबंदी की तारीफ, नागरिकता कानून पर क्‍यों किया बोलने से मना

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्‍तान विराट कोहली. (AP Photo)

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्‍तान विराट कोहली. (AP Photo)

विराट कोहली (Virat Kohli) ने 2016 में नोटबंदी (Demonetisation) को ‘भारतीय राजनीति का सबसे महत्वपूर्ण कदम’ करार दिया था जिसके लिए उन्हें आलोचना भी झेलनी पड़ी थी.

  • Share this:
    गुवाहाटी: भारतीय कप्तान विराट कोहली  (Virat Kohli) ने शनिवार को नागरिकता संशोधन अधिनियम (Citizenship Amendment Act) पर बिना किसी पूर्ण जानकारी के टिप्पणी करने से इनकार किया. लेकिन 4 साल पहले उन्‍होंने नोटबंदी (Demonetization) के फैसले की खुलकर तारीफ की थी. सीएए से अफगानिस्तान, बांग्लादेश और पाकिस्तान के अल्पसंख्यक समुदाय हिन्दू, सिख, बौद्ध, जैन, पारसी और ईसाइयों को 12 साल के बजाय छह साल भारत में रहने पर भारतीय नागरिकता दिए जाने का प्रावधान है. कोहली ने 2016 में नोटबंदी को ‘भारतीय राजनीति का सबसे महत्वपूर्ण कदम’ करार दिया था जिसके लिए उन्हें आलोचना भी झेलनी पड़ी थी. लोगों ने इस विषय पर उनकी जानकारी को लेकर सवाल उठाए थे.

    बीसीसीआई के अनुबंध से बंधे हैं कोहली
    इस घटना के बाद से विराट कोहली राजनीतिक मुद्दों पर बोलने से बचते रहे हैं. नागरिकता कानून को लेकर प्रदर्शनों के दौरान भी भारतीय क्रिकेटर्स की चुप्‍पी पर कई लोगों ने सवाल उठाए थे. हालांकि आकाश चोपड़ा और इरफान पठान जैसे पूर्व क्रिकेटर्स ने खुलकर अपनी राय रखी थी. लेकिन सक्रिय खिलाड़ियों में से किसी ने भी कुछ नहीं कहा था. इसकी एक वजह यह भी है कि टीम इंडिया के अधिकतर क्रिकेटर बीसीसीआई से अनुबंधित हैं. ऐसे में उनका राजनीतिक या विवादित मसलों पर बोलना अनुबंध की शर्तों के खिलाफ हो जाता है.

    virat kohli caa comment, citizenship amendment act, virat kohli press conference, kohli caa answer, caa virat kohli, विराट कोहली सीएए, विराट कोहली संशोधित नागरिकता कानून, इंडिया श्रीलंका टी20
    विराट कोहली ने CAA पर खुलकर कुछ नहीं कहा.


    'ऐसा कुछ नहीं कहना चाहता हूं जिस पर आम राय न हो'
    सीएए के खिलाफ गुवाहाटी में कुछ दिन पहले बड़े स्तर पर विरोध प्रदर्शन हुए थे और ऐसे में भारतीय कप्तान से जब इस संबंध में सवाल किया गया तो उन्होंने जवाब देने में बेहद सतर्कता बरती. कोहली ने श्रीलंका के खिलाफ पहले टी20 अंतरराष्ट्रीय की पूर्व संध्या पर कहा, ‘इस मसले पर मैं गैरजिम्मदार नहीं होना चाहता है और ऐसा कुछ नहीं कहना चाहता हूं जिस पर दोनों पक्षों की आम राय न हो. मुझे इसके बारे में संपूर्ण जानकारी होनी चाहिए कि इसका क्या मतलब है और इसको लेकर क्या चल रहा है और इसी के बाद मुझे इस पर बयान देने के लिए जिम्मेदार होना चाहिए.’

    भारत में नागरिकता संशोधन बिल को लेकर जबरदस्त विरोध-प्रदर्शन चल रहा है.
    भारत में नागरिकता संशोधन बिल को लेकर जबरदस्त विरोध-प्रदर्शन चल रहा है.


    'ऐसी चीज में नहीं पड़ना चाहता जिसकी मुझे पूर्ण जानकारी नहीं'
    कप्तान ने स्पष्ट किया कि वह जिस विषय के बारे में ज्यादा नहीं जानते उस पर टिप्पणी करके खुद को विवादों में नहीं घसीटना चाहते हैं. उन्होंने कहा, ‘क्योंकि आप एक बात कह सकते हैं और उसके बाद कोई दूसरी बात कह सकता है. इसलिए मैं ऐसी किसी चीज में नहीं पड़ना चाहता जिसकी मुझे पूर्ण जानकारी नहीं हो और इस टिप्पणी करना मेरे लिहाज से जिम्मेदारी भरा नहीं होगा.’

    इरफान पठान बोले- सबसे ज्‍यादा विकेट लेने पर भी टीम इंडिया में नहीं लिया

    नागरिकता कानून पर विराट कोहली ने तोड़ी चुप्‍पी, दिया ये बड़ा बयान

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज