WTC Final: हार के बाद कोहली ने कोच शास्त्री के सुर में सुर मिलाया, बोले- 'बेस्ट ऑफ थ्री' से हो चैंपियन का फैसला

WTC Final हारने के बाद भारतीय कप्तान विराट कोहली ने कहा कि टेस्ट की चैम्पियन टीम का फैसला करने के लिए कम से कम तीन टेस्ट की सीरीज होनी चाहिए थी. (PIC:AFP)

WTC Final: भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली(Virat Kohli) ने न्यूजीलैंड के खिलाफ विश्व टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल हारने के बाद 'बेस्ट ऑफ थ्री' फाइनल की वकालत की. उन्होंने कहा कि हम मैच के नतीजे को लेकर ज्यादा परेशान नहीं है. क्योंकि एक मैच से बेस्ट टीम का फैसला नहीं होना चाहिए. इसके लिए 3 टेस्ट की सीरीज खेली जानी चाहिए थी.

  • Share this:
    नई दिल्ली. विराट कोहली(Virat Kohli) की कप्तानी में बीते 2 साल में टीम इंडिया ने शानदार टेस्ट क्रिकेट खेली और विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप के फाइनल(WTC Final) में जगह बनाई. लेकिन आखिरी मोर्चे पर टीम न्यूजीलैंड के हाथों हार गई. इस हार का दर्द टीम इंडिया के करोड़ों चाहने वालों को सालों तक महसूस होगा. लेकिन कप्तान की सोच कुछ अलग है. उन्हें हार की चिंता नहीं है. मैच के बाद हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस में विराट ने कहा कि हम मैच के नतीजे को लेकर ज्यादा नहीं सोच रहे. क्योंकि एक मैच से सर्वश्रेष्ठ टीम का फैसला नहीं होना चाहिए. इसके लिए तो बेस्ट ऑफ थ्री यानी 3 टेस्ट की सीरीज होनी चाहिए थी. इसमें जो टीम बाजी मारती, वही असल में टेस्ट की बेस्ट टीम होती.

    कप्तान कोहली ने कहा कि मैं एक मैच से दुनिया की सर्वश्रेष्ठ टेस्ट टीम का फैसला करने के लिए पूरी तरह से सहमत नहीं हूं. अच्छी टीम कौन है, इसका फैसला 2 दिन बने दबाव से नहीं हो सकता. अगर टेस्ट सीरीज है, तो फिर तीन मैच के जरिए ही असल चैंपियन टीम को चुनना चाहिए. उन्होंने कहा कि अगर आप इस मैच को देखें, तो आपको लगेगा कि विश्व टेस्ट चैंपियनशिप का फैसला करने के लिए 3 टेस्ट की सीरीज होनी चाहिए थी. मैं ये इसलिए नहीं कह रहा कि हम फाइनल नहीं जीते हैं.



    कोच शास्त्री ने भी 'बेस्ट ऑफ थ्री' की बात कही थी
    बेस्ट ऑफ थ्री की बात नई नहीं है, टीम इंडिया के कोच रवि शास्त्री ने न्यूजीलैंड के खिलाफ विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल से पहले भी इसका राग अलापा था. फाइनल से ठीक पहले हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस में भी विराट ने भी कहा था कि हम इस मुकाबले को सिर्फ एक टेस्ट के तौर पर देख रहे हैं और इसके नतीजे से ज्यादा फर्क नहीं पड़ेगा. क्योंकि हमारी टीम ने बीते दो साल में शानदार टेस्ट क्रिकेट खेली है.

    भारत ने 3-4 साल में अच्छी टेस्ट क्रिकेट खेली: विराट
    विराट ने आगे कहा कि मुझे लगता है कि भविष्य में जिम्मेदारों को इस पर भी गौर करना चाहिए. क्योंकि 3 टेस्ट की सीरीज में दोनों टीमों को गलतियों को सुधारने का मौका मिलता है. हमेशा हालात बदलते रहते हैं. कभी एक टीम का पलड़ा भारी होता है, तो कभी दूसरी का. इसके बाद ही बेस्ट टीम का फैसला होता है. इसलिए मैं इस नतीजे को लेकर ज्यादा परेशान नहीं हूं.क्योंकि एक टेस्ट खेलने वाले देश के रूप में हमने सिर्फ पिछले डेढ़ साल में नहीं, बल्कि बीते 3-4 साल में अच्छा प्रदर्शन किया है. ऐसे में विश्व टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल ही इकलौता पैमाना नहीं है, जो भारतीय टीम की काबिलियत और क्षमता को साबित कर सके.

    यह भी पढ़ें: WTC Final: ऋषभ पंत की बहादुरी में एक्सपर्ट्स को दिखी ‘बेवकूफी’, जानें इरफान-आकाश ने क्या कहा

    टीम इंडिया ने पिछली दो टेस्ट सीरीज पिछड़ने के बाद जीती
    टीम इंडिया का पिछली दो टेस्ट सीरीज में अगर प्रदर्शन भी देखें तो कोहली के बेस्ट ऑफ थ्री फॉर्मूले की बात थोड़ी सही लगती है. क्योंकि ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पिछली टेस्ट सीरीज का ओपनिंग मैच टीम इंडिया ने गंवा दिया था. लेकिन इसके बाद भारत ने जोरदार वापसी की और 4 टेस्ट की सीरीज 2-1 से जीती थी. ये भारत की ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ उसके घर में लगातार दूसरी टेस्ट सीरीज जीत थी. इसके बाद इंग्लैंड के खिलाफ भी 4 टेस्ट की घरेलू सीरीज का पहला मैच गंवाने के बाद टीम इंडिया 3-1 से टेस्ट सीरीज जीतने में सफल रही थी.

    यह भी पढ़ें: WTC Final: विराट कोहली को हार के बावजूद कोई पछतावा नहीं, बोले-सही टीम उतारी थी

    'WTC Final बेस्ट ऑफ थ्री होने से रोमांच और बढ़ता'
    जहां तक डब्ल्यूटीसी फाइनल का सवाल है, दो दिन बारिश में धुलने के बावजूद, विजेता टीम तय करने के लिए टेस्ट में काफी समय था. कोहली को लगता है कि इससे बेस्ट ऑफ थ्री सीरीज की संभावना को ही बल मिलता है. उन्होंने कहा कि आपने देखा कि मैच कितना रोमांचक हुआ. ऐसे में कौन विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल जैसे दो और मैच नहीं देखना चाहेगा. क्योंकि इससे असली चैंपियन का फैसला होगा. अगर आप इतिहास देखें तो जितनी भी श्रेष्ठ टेस्ट सीरीज हुईं हैं, आप उन्हें तीन या पांच मैच की सीरीज के रूप में याद करते हैं, जिसमें दो टीमें एक-दूसरे के खिलाफ जाती हैं और वे सीरीज यादगार बन जाती हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.