लाइव टीवी

बड़ी खबर : कोहली की IPL टीम में रहे 2 क्रिकेटर स्पॉट फिक्सिंग में गिरफ्तार, धीमी बैटिंग के लिए 20 लाख रुपये लेने का आरोप

News18Hindi
Updated: November 7, 2019, 12:42 PM IST
बड़ी खबर : कोहली की IPL टीम में रहे 2 क्रिकेटर स्पॉट फिक्सिंग में गिरफ्तार, धीमी बैटिंग के लिए 20 लाख रुपये लेने का आरोप
सी गौतम और अबरार काजी दोनों विराट कोहली की अगुआई वाली टीम रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु का हिस्सा रह चुके हैं

सी गौतम (Cm Gautam) और अबरार काजी पर धीमी बल्लेबाजी के लिए 20 लाख रुपये लेने का आरोप लगा है. केपीएल 2019 का फाइनल हुबली और बेल्लारी टीम के बीच खेला गया था, जिसमें स्पॉट फिक्सिंग हुई.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 7, 2019, 12:42 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कर्नाटक प्रीमियर लीग (Karnataka Premier League) में स्पॉट फिक्सिंग को लेकर आए दिन चौं‌का देने वाले खुलासे हो रहे हैं. अब तक एक टीम के मालिक, कोच और बल्लेबाज को बेंगलुरु पुलिस की क्राइम ब्रांच गिरफ्तार कर चुकी है. इस लीग में स्पॉट फिक्सिंग में गुरुवार को दो बड़े नाम सामने आए, जिसने भारतीय क्रिकेट को हिलाकर रख दिया है. पुलिस ने फिक्सिंग को लेकर दो और ‌क्रिकेटर्स को गिरफ्तार किया है. ये क्रिकेटर आईपीएल में विराट कोहली (Virat Kohli) की रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर टीम का भी हिस्सा रह चुके हैं.

कर्नाटक प्रीमियर लीग (KPL) में मैच फिक्सिंग पर एक के बाद एक गिरफ्तारी हुई है. 33 साल के सी गौतम (Cm Gautam) और अबरार काजी को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. दोनों रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर का भी हिस्सा रह चुके हैं. गौतम रोहित शर्मा (Rohit Sharma) की अगुआई वाली मुंबई इंडियंस का भी हिस्सा रह चुके हैं. दोनों खिलाड़ियों पर केपीएल के इस सीजन के खिताबी मुकाबले में धीमी बल्लेबाजी के लिए 20 लाख रुपये लेने का आरोप लगा है. केपीएल 2019 का फाइनल हुबली और बेल्लारी टीम के बीच खेला गया था, जिसमें स्पॉट फिक्सिंग हुई. इससे पहले इस लीग में फिक्सिंग को लेकर भारतीय क्रिकेटर निशांत सिंह शेखावत को भी पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है.

Cm Gautam, Karnataka Premier League, virat kohli, rohit sharma, spot fixing
सी गौतम रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के अलावा मुंबई इंडियंस और दिल्ली डेयरडेविल्स टीम का भी हिस्सा रह चुके हैं


बुकीज को खिलाड़ियों तक पहुंचाने में की थी मदद

कर्नाटक प्रीमियर लीग में कई टीमों की ओर से खेलने वाले शेखावत पर आरोप लगा है कि वह बुकीज को खिलाड़ी और कोचिंग स्‍टाफ तक पहुंचाते थे. शेखावत शिमोगा, मैंगलोर और हुबली टाइगर्स की ओर से खेल चुके हैं. 2016 में निशांत करुण नायर की अगुआई वाली मैंगलाेर टीम का हिस्सा थे. इससे पहले  बेंगलुरु ब्लास्टर्स ( Bengaluru Blasters) टीम के गेंदबाजी कोच वीनू और बल्लेबाज विश्वनाथन को भी पुलिस ने गिरफ्तार किया था. इनकी गिरफ्तारी के बाद से ही एक के बाद एक नामों का खुलासा हो रहा है. इन दोनों की गिरफ्तारी के बाद ही शेखावत भी पुलिस की नजरों में आ गए थे.

जहां गौतम और काजी पर धीमी बल्लेबाजी के लिए 20 लाख रुपये लेने का आरोप लगा है, वहीं विश्वनाथन पर धीमी बल्लेबाजी के लिए पांच लाख रुपये लेने का आरोप लगा है. विश्वनाथन को एक मैच में 20 गेंदों पर 10 रन से भी कम स्कोर करने के लिए कहा गया था और उस मैच में इस बल्लेबाज ने 17 गेंदों पर नौ रन बनाए थे. खिलाड़ियों की गिरफ्तारी से पहले क्राइम ब्रांच ने सितंबर में बेलगावी पैंथर्स टीम के मालिक 40 साल के अली अशफाक थारा और आईपीएल, केपीएल के जाने पहचाने ड्रमर भावेश बाफना को गिरफ्तार किया था.

यह भी पढ़ें-
Loading...

रोहित शर्मा ने नहीं किए ये 4 काम तो राजकोट में ही सीरीज हार जाएगी टीम इंडिया!
Video: जिम में श्रेयस अय्यर से 'भिड़े' केएल राहुल, बुरी तरह मिली हार!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 7, 2019, 11:23 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...