मंदिरों की दुर्दशा देखकर दुखी वीरेंद्र सहवाग, भक्‍तों को जिम्‍मेदारी देने की उठाई मांग

वीरेंद्र सहवाग मंदिरों की जर्जर अवस्‍था को देखकर दुखी हैं

वीरेंद्र सहवाग मंदिरों की जर्जर अवस्‍था को देखकर दुखी हैं

पूर्व भारतीय क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग (virender sehwag) ने कहा कि मंदिरों को ऐसे देखना काफी दर्दनाक है. इनका काफी महत्‍व है

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 24, 2021, 5:27 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. पूर्व भारतीय क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग (virender sehwag) भारत के ऐतिहासिक मंदिरों की दुर्दशा को देखकर दुखी हैं और उन्‍होंने इन मंदिरों के रख रखाव की जिम्‍मेदारी भक्‍तों को दिए जाने की मांग उठाई है. दरअसल ईशा फाउंडेशन के संस्‍थापक सदगुरु (sadhguru) ने बुधवार को चेन्‍नई के एक मंदिर का वीडियो रिट्वीट किया और कहा कि यह एक मंदिर था. जो भक्ति और बदलाव का अकेला स्‍थान होता है, वो किसी के लिए भी सुरक्षित नहीं हैं.

वीडियो में मंदिर जर्जर अवस्‍था में नजर आ रहा है. सदगुरु ने इस वीडियो को सीएमओ तमिलनाडु को टैग करने के साथ ही वीरेंद्र सहवाग को भी टैग किया.

जिसके बाद सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहने वाले सहवाग ने इस पर अपनी प्रतिक्रिया दी और कहा कि मंदिरों को इस दुर्दशा में देखना दर्दनाक है, जिसका इतना बड़ा महत्‍व था और हजार साल के इसके इतिहास को कम किया जा रहा है.

यह भी पढ़ें : 
विराट कोहली को परेशान करने वाले अनजान गेंदबाज को मुंबई इंडियंस ने खरीदा, कद 6 फीट 8 इंच

ICC T20 Rankings: कप्तान विराट कोहली को हुआ एक स्थान का फायदा, रोहित ने भी लगाई छलांग

सहवाग ने कहा कि यह बिल्‍कुल सही समय है कि एक सही प्रक्रिया के जरिए हर जगह मंदिरों का प्रबंधन भक्‍तों को सौंप दिया जाए. सहवाग की इस सलाह की सोशल मीडिया पर काफी सराहना की जा रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज