जब मनमुटाव के कारण हरियाणा से खेलने जा रहे थे सहवाग, अरुण जेटली ने संभाली थी बात

दिल्ली एंड डिस्ट्रिक्ट क्रिकेट एसोसिएशन (DDCA) से मनमुटाव के चलते वीरेंद्र सहवाग (Virendra Sehwag) ने दिल्ली छोड़कर हरियाणा जाने की योजना बना ली थी, पूरी तैयारियां भी हो चुकी थी. लेकिन जैसे ही अरुण जेटली (Arun jaitley) को यह बात पता लगी, वह सहवाग से बात करने आ गए

News18Hindi
Updated: August 24, 2019, 2:08 PM IST
जब मनमुटाव के कारण हरियाणा से खेलने जा रहे थे सहवाग, अरुण जेटली ने संभाली थी बात
अरुण जेटली डीडीसीए के अध्यक्ष रह चुके हैं
News18Hindi
Updated: August 24, 2019, 2:08 PM IST
लंबी बीमारी के बाद पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली (Arun Jaitley) ने शनिवार को एम्स में आखिरी सांस ली. दोपहर 12 बजकर 07 मिनट पर उन्होंने दुनिया को अलविदा कह दिया. पूर्व वित्त मंत्री के निधन से पूरा देश दुख में है. खेल जगत में भी मायूसी छाई हुई है. खासकर क्रिकेट की दुनिया में. अरुण जेटली और क्रिकेट का काफी पुराना नाता रहा है. वह दिल्ली एंड डिस्ट्रिक्ट क्रिकेट एसोसिएशन (DDCA) के अध्यक्ष भी रहे और गौतम गंभीर, वीरेंन्द्र सहवाग (Virendra Sehwag) जैसे कई क्रिकेटरों के करियर को संवारने में उनका भी बड़ा हाथ रहा. सहवाग और जेटली के बीच हमेशा ही अच्छे रिश्ते रहे, लेकिन एक समय ऐसा भी आया था कि जब डीडीसीए और सहवाग के बीच मनमुटाव हो गया था और फिर यह दूरियों में बदल गई. दूरियां इतनी अधिक बढ़ गई थी कि सहवाग ने दिल्ली छोड़कर हरियाणा जाने की योजना बना ली ‌थी.

वह हरियाणा से खेलने की तैयारी करने लगे थे. सभी औपचारिकताएं भी पूरी हो गई थीं. लेकिन जैसे ही यह बात अरुण जेटली को पता चली, उन्होंने खुद सहवाग से बात की और उन्हें दिल्ली छोड़कर जाने से रोकने की कोशिश की.

वीरेंद्र सहवाग हरियाणा से खेलने की तैयारी करने लगे थे


काफी बातचीत और समझाने के बाद दिग्गज खिलाड़ी वीरेंद्र सहवाग ने अरुण जेटली की बात मान ली और दिल्ली काे छोड़कर नहीं गए.  सिर्फ वीरेंद्र सहवाग ही नहीं दिल्ली गौतम गंभीर, आशीष नेहरा जैसे खिलाड़ियों के भी संबंध जेटली से काफी अच्छे ‌थे. जेटली के निधन पर सहवाग ने दुख जाहिर करते हुए कहा कि उन्होंने दिल्ली से कई क्रिकेटर्स को भारत का प्रतिनिधित्व करने का मौका दिलाने में अहम रोल निभाया है.



उन्होंने कहा कि एक समय था जब दिल्ली के ज्यादातर खिलाड़ियों को बड़े स्तर पर खेलने का मौका नहीं मिलता ‌था. लेकिन डीडीसीए में अरुण जेटली के नेतृत्व में उनके (सहवाग) सहित कई खिलाड़ियों को देश का प्रतिनिधित्व करने का मौका मिला. उन्होंने खिलाड़ियों की जरूरतों  को सुना और वह समस्याओं को सुलझाने वाले थे. सहवाग ने कहा कि निजी तौर पर अरुण जेटली के साथ उनके रिश्ते काफी अच्छे थे.

रिटायरमेंट पर रायडू का यू-टर्न, कहा आईपीएल से करूंगा वापसी
Loading...

श्रीसंत के घर में लगी आग, पत्नी ने बचाई परिवार की जान

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 24, 2019, 2:00 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...