वसीम अकरम की जसप्रीत बुमराह को सलाह- भगवान के लिए काउंटी क्रिकेट मत खेलना

वसीम अकरम की जसप्रीत बुमराह को सलाह- भगवान के लिए काउंटी क्रिकेट मत खेलना
वसीम अकरम की बुमराह को सलाह

पाकिस्तान के पूर्व कप्तान और दिग्गज तेज गेंदबाज वसीम अकरम (Wasim Akram) ने जसप्रीत बुमराह (Jasprit Bumrah) को दुनिया का सर्वश्रेष्ठ गेंदबाज बताया

  • Share this:
नई दिल्ली. कई ऐसे क्रिकेट हुए हैं जिन्होंने अपने खेल को सुधारने के लिए इंग्लैंड की काउंटी क्रिकेट का सहारा लिया है. भारत के पूर्व दिग्गज तेज गेंदबाज जहीर खान (Zaheer Khan) ने भी काउंटी क्रिकेट से अपना खेल सुधारा था. हालांकि पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज वसीम अकरम ने भारतीय तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह को सलाह दी है कि कृपया करके काउंटी क्रिकेट खेलने ना जाएं. वसीम अकरम ने कहा कि जसप्रीत बुमराह जैसे खिलाड़ी को अगर भविष्य में काउंटी क्रिकेट और आराम करने में से किसी एक को चुनना हो तो उन्हें आराम करना चाहिए.

'बुमराह के लिए आराम जरूरी'
भारत के पूर्व टेस्ट क्रिकेटर और कमेंटेटर आकाश चोपड़ा से बातचीत करते हुए वसीम अकरम (Wasim Akram) ने कहा कि अब समय बदल गया है, अब ज्यादा क्रिकेट होती है इसलिए गेंदबाजों को शरीर को आराम देना जरूरी है. उन्होंने कहा, 'भारतीय खिलाड़ी पूरे साल क्रिकेट खेलते हैं. बुमराह इस समय भारत के टॉप बॉलर हैं. दुनिया के सबसे अच्छे गेंदबाजों में से एक हैं. मैं उन्हें सलाह दूंगा कि जब इंटरनेशनल क्रिकेट नहीं खेला जा रहा है तो आराम ही करें.' अकरम ने कहा कि वो 6 महीने पाकिस्तान और 6 महीने लैंकशर के लिए काउंटी खेलते थे लेकिन तब अलग दौर था.

वसीम अकरम (Wasim Akram) ने युवा तेज गेंदबाजों को ज्यादा से ज्यादा फर्स्ट क्लास क्रिकेट खेलने की सलाह दी. उन्होंने कहा कि वो चाहते हैं कि युवा गेंदबाज टी20 से नहीं फर्स्ट क्लास क्रिकेट से ज्यादा सीखेंगे. अकरम ने कहा, 'टी20 क्रिकेट जबर्दस्त है, उसमें मजा है, पैसा है और खिलाड़ियों के लिए इसकी अहमियत को मैं समझता हूं लेकिन किसी भी गेंदबाज की परख टी20 से नहीं लंबे फॉर्मेट के खेल से होती है.'
फिटनेस का ध्यान रखते हैं अकरम


आकाश चोपड़ा (Aakash Chopra) ने जब अकरम से उनके लॉकडाउन के शेड्यूल और क्रिकेट करियर के बारे में पूछा तो उन्होंने कहा, 'कराची में कोई नहीं होता सुबह 6 बजे, सुबह रनिंग करता हूं. बच्चे के साथ खेलता हूं. पत्नी को लेकर वॉक पर जाता हूं. वर्कआउट कर मुझे अच्छा महसूस होता है. जिस दिन वर्कआउट नहीं करता मजा नहीं आता. साथ ही मैं समय पर सोता हूं.'

आकाश चोपड़ा ने बताया कि इमरान खान, जावेद मियांदाद और मुदस्सर नजर ने उनकी काफी मदद की. उन्होंने कहा, 'इमरान खान और जावेद मियांदाद मेरी बड़ी तारीफ करते थे और टैलेंटेड बताते थे. लेकिन मुझे पता नहीं था कि टैलेंट होता क्या है. एक दिन उन्होंने मुझे कहा कि तुम्हारे पास स्विंग और पेस है जो कि बेहद कम गेंदबाजों के पास है. इसके बाद मैंने उसपर ध्यान देना शुरू किया और दूसरे दौरे के पहले मैच में ही मैंने 10 विकेट ले लिये. मियांदाद और इमरान खान ने मेरे अंदर मेहनत करने का जुनून पैदा किया.'

वसीम अकरम (Wasim Akram) ने बताया कि उन्होंने कभी पिच को नहीं देखा. वो बस गेंद को स्विंग करने पर ध्यान देते थे. साथ ही उन्होंने धीमी पिच पर बाउंसर का ज्यादा इस्तेमाल किया, जिससे बल्लेबाजों को मुश्किल पेश आती थी.

मुंबई पुलिस को बड़ा दान देने के बाद विराट कोहली ने उठाया एक और कदम
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading