• Home
  • »
  • News
  • »
  • sports
  • »
  • CRICKET WASIM AKRAM SAYS PAKISTAN SHOULD NOT COPY AUSTRALIA ON ROTATION POLICY

वसीम अकरम ने पाकिस्तानी टीम की नीति पर उठाए सवाल, कहा-ऑस्ट्रेलिया की नकल मत करो

वसीम अकरम ने पाकिस्तान की टीम की रणनीति पर सवाल खड़े किये (फोटो-वसीम अकरम इंस्टाग्राम)

वसीम अकरम (Wasim Akram) ने पाकिस्तानी क्रिकेट के थिंक टैंक पर निशाना साधते हुए कहा कि उन्हें ऑस्ट्रेलिया की रोटेशन पॉलिसी को देख अपने खिलाड़ियों को आराम नहीं देना चाहिए.

  • Share this:
    नई दिल्ली. दिग्गज तेज गेंदबाज और पाकिस्तान के पूर्व कप्तान वसीम अकरम (Wasim Akram) ने पाकिस्तानी टीम पर निशाना साधते हुए उन्हें सलाह दी है कि वो तेज गेंदबाजों को बिना वजह आराम ना दें. एक इंटरव्यू में वसीम अकरम से रोटेशन पॉलिसी पर सवाल पूछा गया जिसपर उन्होंने कहा कि पाकिस्तानी टीम को ऑस्ट्रेलिया की नकल नहीं करनी चाहिए. अकरम ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया जिस तरह अपने खिलाड़ियों को आराम देता रहता है उस तरह पाकिस्तानी खिलाड़ियों को जरूरत नही है.

    वसीम अकरम ने उन बातों को सिरे से खारिज कर दिया जिसमें ये कहा जा रहा था कि लगातार खेलने से शाहीन अफरीदी को चोट लग सकती है. वसीम अकरम ने क्रिकेट पाकिस्तान को दिये इंटरव्यू में कहा, 'आराम का मुद्दा दिक्कत है. मेरे हिसाब से पहले खिलाड़ी को पूछा जाना चाहिए कि क्या उसे आराम की जरूरत है. जिस ऑस्ट्रेलिया अपने खिलाड़ियों को आराम दे रहा है हम उनकी नकल नहीं कर सकते. हमारी संस्कृति ही अलग है. हमारी सोच ही अलग है.'

    शुरुआती दौर में थकने का सवाल ही नहीं-अकरम
    वसीम अकरम ने आगे कहा, 'शाहीन अफरीदी अगर ऐसे ही खेलते रहे तो बड़े गेंदबाज बन सकते हैं. शाहीन अफरीदी पाकिस्तान के लिए तीनों फॉर्मेट खेल रहे हैं. उनकी गेंदबाजी मजबूत हो रही है. शुरुआती दिनों में उन्हें ज्यादा से ज्यादा खेलना चाहिए ताकि उन्हें अनुभव मिले. वो अभी काउंटी क्रिकेट भी नहीं खेल रहे हैं. ऐसे में थकान तो कोई मुद्दा ही नहीं है.'

    WTC Final: विराट कोहली को कपिल देव की सलाह, इंग्लैंड दौरे पर अति-आक्रामकता से बचें

    पाकिस्तान का कोच बनने से किया इनकार
    वसीम अकरम ने पाकिस्तान का कोच बनने से भी इनकार कर दिया. उन्होंने कहा कि वो इस रोल के लिए फिट नहीं बैठते हैं क्योंकि वो 200 से 250 दिन देश से बाहर रहते हैं. अकरम ने साथ ही कहा कि पाकिस्तानी क्रिकेट फैंस और लोगों का कोच के प्रति व्यवहार खराब है, टीम के खराब प्रदर्शन का ठीकरा उसपर फोड़ा जाता है जो कि सही नहीं है. साथ ही वो टीम के खिलाड़ियों का कोच के प्रति व्यवहार भी गलत मानते हैं.