West Bengal Elections: क्रिकेटर मनोज तिवारी का राजनीति में शानदार डेब्यू, शिवपुर सीट जीती

मनोज तिवारी ने भारतीय टीम के लिए 12 वनडे और 3 टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेले हैं. (Twitter)

मनोज तिवारी ने भारतीय टीम के लिए 12 वनडे और 3 टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेले हैं. (Twitter)

Manoj Tiwary in Bengal Elections : मनोज तिवारी ने राजनीति में शानदार आगाज किया है और उन्होंने अपने पहले विधानसभा चुनाव में जीत दर्ज की. पहली बार चुनावी मैदान में उतरे मनोज तिवारी ने तृणमूल कांग्रेस पार्टी के उम्मीदवार के तौर पर शिवपुर सीट जीती और बीजेपी के रथिन चक्रवर्ती को हराया.

  • Share this:
नई दिल्ली. पूर्व भारतीय क्रिकेटर मनोज तिवारी (Manoj Tiwary) ने पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनावों में जीत दर्ज की है. पहली बार चुनावी मैदान में उतरे मनोज तिवारी ने तृणमूल कांग्रेस पार्टी के लिए शिवपुर सीट पर जीत हासिल की. उन्होंने बीजेपी के डॉ. रतिन चक्रवर्ती को हराया. चुनाव से पहले टीएमसी छोड़ भाजपा में शामिल हुए डॉ. चक्रवर्ती हावड़ा के मेयर भी रह चुके हैं. पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के नए चेहरे मनोज तिवारी को हावड़ा की शिवपुर सीट से उतारा गया था. वाम मोर्चे ने फॉरवर्ड ब्लॉक के अनुभवी नेता डॉ जगन्नाथ भट्टाचार्य को अपना प्रत्याशी बनाया जो चौथी बार इस सीट से अपनी किस्मत आजमा रहे थे, हालांकि उन्हें हार झेलनी पड़ी.

इस सीट से तीन बार टीएमसी विधायक रहे जातू लाहिड़ी विधानसभा चुनावों में टिकट नहीं मिलने पर पार्टी छोड़ कर बीजेपी में शामिल हो गए थे. इस सीट पर मजबूत पकड़ बनाए रखने वाले 84 वर्षीय लाहिड़ी ने 1991 और 1996 में कांग्रेस उम्मीदवार के तौर पर यहां से जीत हासिल की. टीएमसी के क्रिकेटर उम्मीदवार को पार्टी के सार्वजनिक हुए आंतरिक मतभेदों के कारण भी चुनौती का सामना करना पड़ रहा है जहां जिले के कुछ वरिष्ठ नेताओं और पूर्व पार्षद ने उम्मीदवारों की सूची में नाम नहीं होने के चलते प्रदर्शन किए.

इसे भी पढ़ें, ममता बनर्जी की जीत BJP और राष्‍ट्रीय राजनीति पर क्‍या प्रभाव डालेगी?

लाहिड़ी ने टीएमसी की टिकट पर 2011 में फॉरवर्ड ब्लॉक प्रत्याशी, भट्टाचार्य को करीब 46,000 मतों से हराया था और पांच साल बाद फिर इस सीट से जीत हासिल की थी हालांकि जीत का अंतर 27,000 ही रह गया था. बीजेपी उस वक्त इस सीट पर कहीं भी नजर नहीं आती थी, पार्टी को 2011 एवं 2016 में क्रमश: 3967 एवं 13367 मत मिले थे. यहां 2019 के आम चुनाव में बड़ा फेरबदल देखने को मिला था जब भगवा लहर की मदद से भाजपा के हावड़ा सदर प्रत्याशी रंतीदेब सेनगुप्ता को इस विधानसभा में 66644 मत मिले और वह उस वक्त के टीएमसी सांसद एवं भारतीय फुटबॉल टीम के पूर्व कप्तान प्रसून जोशी को मुख्य चुनौती देने वाले उम्मीदवार के तौर पर उभरे.
पिछले लोकसभा चुनाव के दौरान टीएमसी को यहां 45335 मत मिले थे जबकि माकपा को 19933 मतों से संतोष करना पड़ा था. रतिन चक्रवर्ती के भाजपा में शामिल होने के बाद मध्य हावड़ा के कई स्थानों पर शहर के पूर्व महापौर के पोस्टर लगाकर उन्हें 'अवसरवादी और विश्वासघाती' बताया गया. प्रख्यात होम्योपैथ डॉक्टर भोलानाथ चक्रवर्ती के बेटे और भाजपा प्रत्याशी को इस सीट पर सत्तापलट की उम्मीद थी. सत्तारूढ़ पार्टी भी इस सीट को अपने पास बरकरार रखने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ रही थी जहां मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी चुनाव से पहले बैठक की थी. इसके अलावा टीएमसी सांसद अभिषेक बनर्जी ने भी तिवारी के समर्थन में रोड शो किया.

इसे भी पढ़ें, मुस्लिम, मतुआ, महिला और ममता- बंगाल में TMC के शानदार प्रदर्शन के अहम फैक्टर

मनोज तिवारी ने भारत के लिए 12 वनडे और तीन टी20 अंतरराष्ट्रीय मुकाबले खेले. उन्होंने वनडे करियर में एक शतक और एक अर्धशतक की मदद से कुल 287 रन बनाए जबकि टी20 अंतरराष्ट्रीय करियर में वह केवल 15 ही रन बना सके. आईपीएल में उन्होंने केकेआर का प्रतिनिधित्व किया. उन्होंने अपने करियर में 125 फर्स्ट क्लास मैच खेले और कुल 8965 रन बनाए जिसमें 27 शतक और 37 अर्धशतक शामिल रहे. वह घरेलू क्रिकेट में बंगाल टीम के कप्तान भी रहे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज