अपना शहर चुनें

States

4 वर्ल्ड कप जीतने वाली टीम के खिलाड़ियों को नहीं मिली मैच फीस, क्रिकेट बोर्ड के पास नहीं हैं पैसे!

क्रिकेट वेस्टइंडीज ने फंड और वेतन देने में अस्थायी रूप से 50 प्रतिशत कटौती की घोषणा की. (फाइल फोटो)
क्रिकेट वेस्टइंडीज ने फंड और वेतन देने में अस्थायी रूप से 50 प्रतिशत कटौती की घोषणा की. (फाइल फोटो)

कोरोना वायरस (Coronavirus) के बीच क्रिकेट टीमें आर्थिक संकट में घिर चुकी हैं, उनके पास खिलाड़ियों को मैच फीस देने के पैसे भी नहीं हैं.

  • Share this:
नई दिल्ली. 2 वनडे और 2 टी20 वर्ल्ड कप जीतने वाली वेस्टइंडीज (West Indies) टीम जबर्दस्त आर्थिक संकट से जूझ रही है. खबर है कि वेस्टइंडीज के खिलाड़ियों को पिछले चार महीनों से मैच फीस नहीं मिली है. क्रिकेट वेस्टइंडीज ने स्वीकार किया कि खिलाड़ियों की ‘रिटेनर’ राशि दी जा चुकी है लेकिन मैच फीस का भुगतान नहीं किया गया है.

सैलरी मिली, मैच फीस नही
वेस्टइंडीज  (West Indies) खिलाड़ी संघ (डब्ल्यूआईपीए) के सचिव वेन लुइस ने कहा, 'मासिक वेतन (और भत्ते) दे दिये गये हैं. समस्या यह है कि प्रथम श्रेणी प्रतियोगिताओं में रिटेन खिलाड़ियों को अभी तक आठ दौर की मैच फीस नहीं दी गयी है.'

रिपोर्ट के अनुसार पुरुष टीम को जनवरी में आयरलैंड के खिलाफ श्रृंखला (तीन वनडे और तीन टी20) और फरवरी-मार्च में श्रीलंका दौरे (तीन वनडे और दो टी20) के लिये मैच फीस नहीं दी गयी है. महिला खिलाड़ियों को ऑस्ट्रेलिया में फरवरी-मार्च में टी20 विश्व कप में खेले गये चार मैचों की मैच फीस भी दी जानी है.
क्रिकेट वेस्टइंडीज  (West Indies) के मुख्य कार्यकारी अधिकारी जॉनी ग्रेव ने आश्वस्त किया कि निकट भविष्य में भुगतान कर दिया जायेगा. उन्होंने कहा, 'क्रिकेट वेस्टइंडीज वित्तीय रूप से कठिन दौर से गुजर रहा है. इन खिलाड़ियों को हम भुगतान करने की कोशिश कर रहे हैं.'



इन दो सीरीज से हुआ वेस्टइंडीज बोर्ड को नुकसान
वेस्टइंडीज क्रिकेट बोर्ड के अधिकारी ने बताया कि उनकी टीम पिछले दो सालों से खराब आर्थिक स्थिति में है. उन्होंने बताया कि बोर्ड को साल 2018 में श्रीलंका और बांग्लादेश के खिलाफ घरेलू सीरीज के दौरान तगड़ा नुकसान हुआ. वेस्टइंडीज बोर्ड को इन दो घरेलू सीरीज से कुल 22 मिलियन डॉलर का नुकसान हुआ.

वेस्टइंडीज  (West Indies) बोर्ड के अधिकारी ने कहा कि मैच फीस में देरी कोई नहीं बात नहीं है. लेकिन हम जून तक सारी मैच फीस देने की कोशिश करेंगे. बता दें बोर्ड ने पिछले साल भी खिलाड़ियों को लेट मैच फीस दी थी लेकिन साल खत्म होने तक पूरा बकाया दे दिया गया था. वेस्टइंडीज बोर्ड के मुताबिक इस बार मामला थोड़ा गंभीर इसलिए है क्योंकि कोरोना वायरस की वजह से सबकुछ ठप पड़ा है.

वेस्टइंडीज में वेतन विवाद बड़ा मुद्दा
बता दें साल 2014 में भी वेतन विवाद की वजह से वेस्टइंडीज के खिलाड़ियों ने भारत दौरा बीच में ही छोड़ दिया था. भारत दौरे पर वेस्टइंडीज को पांच वनडे, एक टी20 और 3 टेस्ट मैच खेलने थे लेकिन विंडीज टीम 4 वनडे खेलने के बाद ही दौरा छोड़कर चली गई.

Love Story : शादीशुदा महिला के प्यार में पड़े अनिल कुंबले, कोर्ट तक जा पहुंचे

पार्थिव पटेल ने बयां किया 12 साल पुराना वाकया, कहा-एमएस धोनी कप्तान थे इसलिए..
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज