क्रिकेट जगत को बड़ा झटका, 51 शतक लगाने वाले दुनिया के दिग्‍गज बल्‍लेबाज का निधन

क्रिकेट जगत को बड़ा झटका, 51 शतक लगाने वाले दुनिया के दिग्‍गज बल्‍लेबाज का निधन
एवर्टन वीक्स 95 साल के थे (फाइल फोटो)

इस दिग्‍गज क्रिकेटर का परिवार काफी गरीब था. वे खुद ग्राउंड स्‍टाफ का काम करते थे. जानें इस खिलाड़ी का ग्राउंड स्‍टाफ से महान बनने का सफर

  • Share this:
नई दिल्‍ली. क्रिकेट जगत के महान खिलाड़ी वेस्‍टइंडीज के एवर्टन वीक्‍स ( sir everton weekes) अब इस दुनिया में नहीं रहे. वह 95 साल के थे. उन्‍हें वेस्‍टइंडीज में क्रिकेट के फाउडिंग फादर के तौर पर जाना जाता था 1948 में अपने करियर का आगाज करने वाले वीक्‍स 10 साल तक इंटरनेशनल क्रिकेट में सक्रिय रहे. इस बीच उन्‍होंने 48 टेस्‍ट मैचों में 58.61 की औसत से 4 हजार 455 रन बनाए. टेस्‍ट क्रिकेट में वीक्‍स का सर्वश्रेष्‍ठ प्रदर्शन 207 रन का रहा. उन्‍होंने 15 शतक भी लगाए. वीक्‍स के नाम लगातार 5 शतक जड़ने का भी रिकॉर्ड है. वीक्‍स के नाम कुल 51 शतक है, जिसमें से 15 इंटरनेशनल टेस्‍ट क्रिकेट और 36 फर्स्‍ट क्‍लास क्रिकेट में लगाए. उन्‍होंने 152 फर्स्‍ट क्‍लास मैच खेले.

लगातार छठा शतक लगाने से चूके
मार्च से दिसंबर 1948 के बीच वीक्‍स ने लगातार पांच शतक लगाए. उनके पास लगातार छठा शतक लगाने का मौका था, मगर अंपायरिंग गलती के कारण व‍ह 90 रन पर आउट हो गए. इस पारी से पहले उन्‍होंने अपने करियर के चौथे ही टेस्‍ट में इंग्‍लैंड के खिलाफ 141 रन की पारी खेली. इसके बाद भारत दौरे पर उन्‍होंने 128, 194, 162 और 101 रन की पारी खेली. उन्‍होंने 12 पारियों में 1 हजार टेस्‍ट रन बना लिए थे.

Sir Everton Weekes, west indies cricket, sports neews, icc, cricket, एवर्टन वीक्‍स, क्रिकेट, वेस्‍टइंडीज, स्‍पोर्ट्स न्‍यूज
गरीब परिवार से थे वीक्‍स


वीक्‍स का जन्‍म 26 फरवरी 1925 को बारबाडोस में हुआ था. उनका पूरा परिवार लकड़ी के घर में रहता था और पिता को घर पर पैसे भेजने के लिए एक दशक से भी अधिक समय त्रिनिदाद में बिताना पड़ा. वीक्‍स ने 14 साल की उम्र में स्‍कूल छोड़ दिया और स्‍थानीय क्‍लब की तरफ से खेलने लगे थे और जल्‍द ही वीक्‍स की प्रतिभा ने उनके लिए आगे की राह खोल दिए. वीक्‍स एक अच्‍छे फुटबॉलर भी थे और उन्‍होंने इस खेल में बारबाडोस का प्रतिनिधित्‍व भी किया था.

यह भी पढ़ें :

एस श्रीसंत का सनसनीखेज खुलासा- मुझे आतंकियों के वार्ड में ले जाया गया, 16-17 घंटे किया गया टॉर्चर

पाकिस्तानी क्रिकेटर ने इस दिग्गज बल्लेबाज को कहा- मुसलमान बन जाओ, जन्नत मिलेगी

मगर क्रिकेट उनका पहला प्‍यार था. वह स्थानापन्न फील्‍डर और ग्राउंड स्‍टाफ सदस्‍य दोनों रूप में केंसिंग्टन ओवल में मदद करते थे. इससे उन्‍होंने कई बेहतरीन क्रिकेटर्स को नजदीक से भी देखा. उन्‍होंने बारबाडोस डिफेंस फोर्स जॉइन किया और इसके बाद वह उच्‍च स्‍तर का क्‍लब क्रिकेट खेलने लगे. 19 साल की उम्र में फर्स्‍ट क्‍लास और 22 साल की उम्र में उन्‍होंने टेस्‍ट डेब्‍यू किया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज