वर्ल्ड कप जीतने के लिए इस खिलाड़ी ने ली थी मनोचिकित्सक की मदद

इंग्लैंड की वर्ल्ड कप जीत में अहम योगदान देने वाले जोस बटलर एक समय टूर्नामेंट के बीच में ही टीम के खराब प्रदर्शन से बेहद निराश हो गए थे. फाइनल में तो वे यहां तक सोचने लगे थे कि अगर इंग्लैंड हार गया तो फिर वे दोबारा क्रिकेट कैसे खेल पाएंगे.

News18Hindi
Updated: July 22, 2019, 4:20 PM IST
वर्ल्ड कप जीतने के लिए इस खिलाड़ी ने ली थी मनोचिकित्सक की मदद
इंग्लैंड को वर्ल्ड कप दिलाने में जोस बटलर का अहम योगदान रहा. फाइनल में भी उन्होंने अर्धशतक लगाया था. (फोटो-रॉयटर्स)
News18Hindi
Updated: July 22, 2019, 4:20 PM IST
वर्ल्ड कप 2019 का खिताब मेजबान इंग्लैंड ने बेहद रोमांचक अंदाज में अपने नाम किया. इंग्लैंड ने सुपरओवर में न्यूजीलैंड के खिलाफ जीत दर्ज करते हुए यह उपलब्धि हासिल की. यहां तक कि फाइनल में हर ओवर और हर गेंद के बाद मैच का रुख कभी इंग्लैंड तो कभी न्यूजीलैंड की ओर जा रहा था. मगर अंत में बाजी इंग्लैंड के ही नाम रही और उसने अपना पहला विश्व कप जीतने में कामयाबी हासिल की.

मगर क्या आप जानते हैं कि फाइनल में दोनों टीमों के खिलाड़ियों पर कितना अधिक दबाव था, खासकर इंग्लैंड के विकेटकीपर बल्लेबाज जोस बटलर पर. बटलर के मन में तो ये ख्याल भी आने लगा था कि अगर इंग्लैंड की टीम फाइनल नहीं जीत सकी तो फिर वह दोबारा कभी क्रिकेट कैसे खेल पाएंगे. इतना ही नहीं, वर्ल्ड कप सेमीफाइनल से पहले लीग चरण में जब इंग्लैंड की टीम का प्रदर्शन खराब होने लगा था तो इस खिलाड़ी ने उन हालात से उबरने के लिए मनोचिकित्सक तक की मदद ली थी.

इंग्लैंड की वर्ल्ड कप जीत में जोस बटलर ने न केवल शानदार अर्धशतक लगाया, बल्कि बेन स्टोक्स के साथ अहम साझेदारी भी की. यहां तक कि सुपरओवर की आखिरी गेंद पर उन्होंने ही न्यूजीलैंड के बल्लेबाज मार्टिन गुप्टिल को रन आउट कर टीम को उसका पहला वर्ल्ड कप दिलाया. मगर कम ही लोग जानते हैं कि वे टूर्नामेंट और खासकर फाइनल के दबाव में बिखर गए थे. इससे उबरने के लिए उन्होंने टीम के मनोचिकित्सक डेविड यंग की मदद ली थी. उसके बाद ही वे इस बात पर विश्वास कर पाए थे कि ये वर्ल्ड कप इंग्लैंड ही जीतने जा रहा है.

icc, cricket, icc cricket world cup 2019, jos buttler, ecb, england cricket team, world cup final, ईसीबी, आईसीसी, क्रिकेट, आईसीसी क्रिकेट वर्ल्ड कप 2019, जोस बटलर, वर्ल्ड कप फाइनल
इंग्लैंड ने न्यूजीलैंड के खिलाफ सुपरओवर में जीत दर्ज कर वर्ल्ड कप अपने नाम किया.


इस बारे में बटलर कहते हैं कि मुझे तब टूर्नामेंट से बाहर होने का डर सताने लगा था. ऐसा लग रहा था कि चार साल से अच्छा क्रिकेट खेलने के बाद भी नतीजा कुछ नहीं है. मैंने रविवार के फाइनल से पहले आठ फाइनल खेले थे और इनमें से सात में मुझे हार का सामना करना पड़ा था. समरसेट हो या चैंपियंस ट्रॉफी या फिर कोलकाता में टी-20, सभी में हार मिली. मैं दोबारा से फाइनल में हार का दर्द सहन नहीं करना चाहता था.

वो आखिरी गेंद...

मार्टिन गुप्टिल ने जैसे ही वो शॉट खेला, मैंने देखा कि गेंद जेसन के पास गई है. मुझे तभी महसूस हुआ कि अगर हमने इस पल पर काबू पा लिया तो जीत हमारी होगी. मैं जानता था कि गुप्टिल को लंबा फासला तय करना है. मगर दबाव में कुछ भी आसान नहीं था, लेकिन मैं जानता था कि इसे सहज होना ही होगा. जब जेसन ने गेंद उठा ली तो यह बात बिल्कुल भी जेहन में नहीं आई कि उनसे मिसफील्ड भी हो सकती थी. उन्होंने मेरी ओर गेंद फेंकी और मैंने रन आउट कर दिया.
Loading...

खतरे में थी विराट कोहली की कप्तानी, क्या इसलिए किया ये फैसला?

कप्तान ने किया बड़ा खुलासा, वर्ल्ड कप में जानबूझकर खराब खेले सीनियर प्लेयर, हार के बाद हंस रहे थे

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 22, 2019, 11:40 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...