सचिन तेंदुलकर ने पाकिस्तान के सईद अजमल से कहा था- मैच को गंभीरता से मत लो, लेकिन क्यों?

यह घटना एक चैरिटी मैच की है.

सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) क्रिकेट के भगवान कहे जाते हैं. लेकिन एक बार उन्होंने चैरिटी मैच में पाकिस्तान के ऑफ स्पिनर सईद अजमल (Saeed Ajmal) को अच्छी गेंदबाजी करने से रोक दिया था, ताकि मैच लंबा चले और बड़ा फंड जुटाया जा सके.

  • Share this:
    नई दिल्ली. पाकिस्तान के पूर्व ऑफ स्पिनर सईद अजमल (Saeed Ajmal) को सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ने एक मैच को गंभीरता से नहीं लेने का कहा था. यह सुनकर अजीब लगता है, लेकिन यह सच है. यह घटना साल 2014 में एमसीसी और रेस्ट वर्ल्ड-11 के बीच हुए मुकाबले के दौरान की है. यह एक चैरिटी मैच था. इसमें सचिन तेंदुलकर, शेन वॉर्न सहित कई दिग्गज खिलाड़ी खेल रहे थे.

    वर्ल्ड-11 की टीम में एडम गिलक्रिस्ट, वीरेंद्र सहवाग, केविन पीटरसन, युवराज सिंह, शाहिद अफरीदी और शेन वॉर्न जैसे धुरंधर खेले थे. वहीं एमसीसी में ब्रायन लारा, सचिन तेंदुलकर, राहुल द्रविड़, सईद अजमल जैसे दिग्गज थे. मैच में पहले वर्ल्ड-11 ने बल्लेबाज की. इसमें सईद अजमल ने अपने पहले चार ओवर में ही चार विकेट चटकाए. इससे वर्ल्ड-11 का स्कोर 12 ओवर में पांच विकेट पर 68 रन हो गया. इस दौरान सचिन तेंदुलकर और सईद अजमल की बातचीत हुई.

    मैच जितना लंबा चलेगा उतना अधिक फंड आएगा

    क्रिकेट पाकिस्तान को दिए इंटरव्यू में सईद अजमल ने कहा कि सचिन दौड़ते हुए उनके पास आए और बोले कि मैच में मजे करो, क्योंकि यह चैरिटी मुकाबला है. मैच जितना लंबा चलेगा उतना अधिक फंड आएगा. अजमल ने कहा, ‘सचिन तेंदुलकर दौड़ते हुए आए और कहा कि सईद भाई आपको यह मैच इतना संजीदगी से नहीं खेलना चाहिए. यह चैरिटी मैच है. यह उन लोगों के लिए जो यहां मजे करने आए हैं. वे लोग खाना खाएंगे-पीएंगे. यह मैच साढ़े छह बजे से पहले खत्म नहीं होना चाहिए.’

    यह भी पढ़ें: WTC Final: न्यूजीलैंड को कोहली, रोहित या पुजारा से खतरा नहीं, टीम भारत के युवा बल्लेबाज से डरी

    युवराज पर भारी पड़ा था फिंच का शतक

    उन्होंने कहा कि मैंने सचिन ने कहा कि मैं तो पॉजिटिव तरीके से गेंदबाज कर रहा हूं, तो उन्होंने कहा कि मैं आपसे सहमत हूं, लेकिन यह चैरिटी मैच है तो फंड जुटाना होगा. इसलिए क्रिकेट खेलो और मौज करो. मैच में यह मजेदार वाकया हुआ. मालूम हो कि मैच में युवराज सिंह के 132 रनों की मदद से वर्ल्ड-11 ने पहले खेलते हुए सात विकेट पर 293 रन बनाए. लेकिन एमसीसी की ओर से एरोन फिंच ने 145 गेंद पर 181 रन की बड़ी पारी खेली. टीम ने लक्ष्य को तीन विकेट खोकर 45.5 ओवर में ही हासिल कर लिया.