अपना शहर चुनें

States

टीम इंडिया के शर्मनाक प्रदर्शन पर भड़के कपिल देव, कहा- विराट कोहली की 'उम्र' हो गई है, नजर हो रही कमजोर

कपिल देव ने साल 1983 में भारत को पहली बार वर्ल्ड कप जिताया था
कपिल देव ने साल 1983 में भारत को पहली बार वर्ल्ड कप जिताया था

भारतीय कप्तान (Indian Captain) विराट कोहली (Virat Kohli) न्यूजीलैंड (New Zealand) के खिलाफ टेस्ट सीरीज (Test Series) में बुरी तरह नाकाम रहे. उन्होंने चार पारियों में महज 38 रन बनाए.

  • Share this:
नई दिल्ली. टी20 सीरीज में 5-0 की जीत के बाद भारतीय कप्तान (Indian Captain) विराट कोहली (Virat Kohli) के लिए न्यूजीलैंड का दौरा (New Zealand Tour) किसी भयावह सपने से कम नहीं रहा. दुनिया की नंबर वन टेस्ट टीम को न्यूजीलैंड ने दो मैचों की सीरीज में धूल चटा दी. सितारों से सजी भारतीय टीम ने वेलिंगटन टेस्ट दस विकेट तो क्राइस्टचर्च टेस्ट सात विकेट से गंवाया. टी20, वनडे और टेस्ट सीरीज मिला दें तो विराट कोहली 11 पारियों में महज 208 रन ही बना सके. इसमें भी उनके बल्ले से एक बार ही अर्धशतक निकल सका. या यूं कहा जाए कि वनडे और टेस्ट सीरीज में टीम इंडिया (Team India) के शर्मनाक प्रदर्शन की वजह विराट कोहली की विफलता ही बनी.

जो ताकत थी, अब वो बन गई कमजोरी
भारतीय टीम (Indian Team) को 1983 का वर्ल्ड कप जिताने वाले कप्तान कपिल देव (Kapil Dev) ने टीम इंडिया (Team India) के लचर प्रदर्शन को लेकर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की है. एबीपी न्यूज से बात करते हुए कपिल देव ने कहा है कि विराट कोहली (Virat Kohli) अब धीमे हो गए हैं. उन्होंने कहा, 'जब आप एक खास उम्र तक पहुंचते हैं, जब आप 30 की उम्र पार करते हैं तो आपकी आंखों पर इसका असर पड़ने लगता है. स्विंग होती गेंदों पर विराट कोहली की ताकत उनका फ्लिक होता था, जिसके सहारे वो चौका लगा देते थे. मगर अब उसी तरह की गेंदों पर दो बार आउट हो गए.'

नजर और रिफलेक्सेस हुए कमजोर
कपिल देव (Kapil Dev) ने कहा, 'मुझे लगता है कि विराट कोहली (Virat Kohli) को अपनी आंखों को एडजस्ट करने की जरूरत है. जब बड़े खिलाड़ी बोल्ड या एलबीडब्‍ल्यू आउट होने लग जाएं तो इसका मतलब है कि उन्हें अधिक अभ्यास की जरूरत है. ये दिखाता है कि आपकी नजर और रिफलेक्सेस कमजोर पड़ गए हैं. ऐसा होने पर आपकी ताकत को आपकी कमजोरी बनने में देर नहीं लगती.'



सहवाग, रिचर्ड्स और द्रविड़ को भी हुई थी मुश्किल
दुनिया के बेहतरीन ऑलराउंडरों में शुमार कपिल देव (Kapil Dev) ने कहा, '18 से 24 साल की उम्र तक आंखें बहुत तेज होती हैं. ये इस बात पर भी निर्भर करता है कि आप उनकी देखभाल कैसे करते हैं. वीरेंद्र सहवाग, विव रिचर्ड्स, राहुल द्रविड़ जैसे खिलाड़ियों को भी अपने करियर में इसी तरह की समस्या का सामना करना पड़ा था. इसीलिए विराट कोहली (Virat Kohli) को अधिक प्रैक्टिस की जरूरत है. जब आपकी नजर कमजोर होती है तो आपको अपनी तकनीक और मजबूत करने की जरूरत होती है. जिन गेंदों पर विराट कोहली पहले तेजी से शॉट लगाते थे, उन्हीं को खेलते हुए वक्त वे थोड़े धीमे हो गए हैं.'

आईपीएल से मिलेगी मदद
कपिल देव (Kapil Dev) ने साथ ही इंडियन प्रीमियर लीग (Indian Premier League) को देखते हुए रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु के कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) को एक और सलाह दी. कपिल देव ने कहा, 'विराट कोहली को अपने खेल को वापस पटरी पर लाने पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए. मुझे लगता है कि इंडियन प्रीमियर लीग के जरिये उन्हें इसमें मदद मिलेगी. वह बेहतरीन क्रिकेटर हैं, उन्हें खुद ही इस बात का अहसास हो जाएगा और वह जरूरी तालमेल बैठा लेंगे.'

'क्या हम सिर्फ घर में नंबर1 हैं? अब शास्‍त्री कहेंगे हमने सबक सीखा पर उसके...'

जो रूट पर Corona Virus का खौफ, कहा-श्रीलंका दौरे पर हाथ नहीं मिलाएंगे
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज