ICC World Cup : कितने मैच जीत सेमीफाइनल का मिलेगा टिकट, कितने मैच हारकर होगी विदाई, जानें पूरा गणित

वर्ल्ड कप 2019 में सबसे बड़ा सवाल ये ही है कि आखिर कोई टीम कितने मैच जीतकर सेमीफाइनल में जगह बनाएगी. या फिर क्या वास्तव में दक्षिण अफ्रीका और पाकिस्तान का सफर खत्म हो चुका है.

News18Hindi
Updated: June 21, 2019, 11:40 AM IST
ICC World Cup : कितने मैच जीत सेमीफाइनल का मिलेगा टिकट, कितने मैच हारकर होगी विदाई, जानें पूरा गणित
अभी तक के प्रदर्शन को देखते हुए भारत को सेमीफाइनल का टिकट मिलना तय नजर आ रहा है. (फोटो-AP/Aijaz Rahi)
News18Hindi
Updated: June 21, 2019, 11:40 AM IST
वर्ल्ड कप इतिहास में आज से 27 साल पहले ये प्रारूप इस्तेमाल किया जाता था. यानी सभी टीमें एक-दूसरे के खिलाफ मैच खेलने का प्रारूप. पिछली बार 1992 के वर्ल्ड कप में इसका इस्तेमाल हुआ था. तब पाकिस्तान की टीम इमरान खान की अगुआई में चैंपियन बनी थी. वर्ल्ड कप 2019 में हिस्सा ले रहीं सभी दस टीमें भी एक-दूसरे के खिलाफ मैच खेल रही हैं. इनमें सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाली शीर्ष चार टीमें सेमीफाइनल में जगह बनाएंगी.

यह गणित जितना समझने में आसान लग रहा है, दरअसल उतना ही मुश्किल है. ऐसे में जबकि वर्ल्ड कप 2019 का आधा सफर समाप्त हो चुका है, सभी के मन में सवाल यही है कि आखिर वो कौन सी चार टीमें हैं जो अंतिम चार में कदम रखेंगी और उसका गणित क्या होगा. आइए, समझते हैं कि आखिर क्या है ये गणित...

सेमीफाइनल के लिए कितनी जीत :

4 जीत : कम से कम चार मुकाबले जीतना जरूरी, उसके बाद अन्य टीमों के नतीजों पर निर्भर होना होगा, जो बेहद खुशकिस्मत होने पर ही सटीक बैठेंगे.

5 जीत : 9 में से 5 मुकाबले जीतकर सेमीफाइनल में जगह बनाई जा सकती है, लेकिन इसके लिए भी नेट रन रेट के मामले में किस्मत अच्छी होना जरूरी है.

6 या 7 जीत : नौ में से सात मुकाबले जीतने का मतलब है कि टीम ने सेमीफाइनल में जगह बना ली है. बल्कि वो टॉप पर भी रह सकता है. छह मुकाबला जीतने की हालत में सेमीफाइनल में पहुंचना लगभग तय है.

सेमीफाइनल के गणित को दो तरीकों से समझा जा सकता है. इसमें सबसे कम मैच जीतकर अंतिम चार में जगह बनाने और सबसे अधिक मैच जीतकर सेमीफाइनल में पहुंचने का क्रम शामिल है.
Loading...

1. अगर हम यह मान लें कि अभी तक के प्रदर्शन के हिसाब से भारत, इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया की टीमें अधिकतम मुकाबले जीतकर सेमीफाइनल में आसानी से पहुंच जाएंगी. ऐसे में चौथे स्‍थान के लिए सात टीमों के बीच मुकाबला होगा. इसका मतलब ये हुआ कि शीर्ष टीमें क्रमशः 7, 8 और 9 या फिर 8, 8 व 8 मैच जीतकर सेमीफाइनल में पहुंची हैं. लीग चरण में 45 मुकाबले खेले जाने हैं. ऐसे में मान लीजिए कि शीर्ष तीन टीमों ने इनमें से 24 (9+8+7) मैच जीत लिए. उसके बाद बचे 21 मैचों को सात टीमों में बांट दीजिए तो तीन जीत हुईं. ऐसे में जिस भी टीम का नेट रन रेट अधिक होगा वह सेमीफाइनल के लिए क्वालीफाई कर जाएगी. आंकड़े देखें तो तीन मैच जीतकर भी कोई टीम सेमीफाइनल में पहुंच सकती है, लेकिन कागज पर अंतिम चार टीमें तय नहीं हो सकतीं. इसके साथ बारिश सहित तमाम और फैक्टर भी होते हैं. सुरक्षित रूप से यह कहना अधिक सही है कि सेमीफाइनल की उम्मीद के लिए कम से कम चार जीत होनी जरूरी है.

2. इस पैमाने के लिए हमें यह मानकर चलना होगा कि अंक तालिका में निचले पायदान पर मौजूदा पांच टीमें अधिकतम मुकाबले हार गईं हैं और शीर्ष पांच टीमों ने बराबर का प्रदर्शन किया है. अब अगर बॉटम की पांच टीमों ने क्रमश 4, 3, 2, 1 और 0 जीत दर्ज की है या फिर पांचों ने कुल मिलाकर दस मुकाबले जीते हैं तो बाकी बचे 35 मैचों के लिए पांच टीमों में टक्कर है. इसका एक मतलब यह भी हुआ कि पांच टीमें बराबर 7 मैच जीती हैं. ऐसे में सबसे खराब नेट रन रेट वाली टीम बाहर हो जाएगी और बाकी की चार टीमें सेमीफाइनल में जगह बना लेंगी.

वर्ल्ड कप: इन चार टीमों का सेमीफाइनल में पहुंचना लगभग तय

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 21, 2019, 11:40 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...