Home /News /sports /

राहुल द्रविड़ बतौर कोच क्यों हैं खास? सौरव गांगुली ने इससे जुड़ी दिलचस्प बात बताई

राहुल द्रविड़ बतौर कोच क्यों हैं खास? सौरव गांगुली ने इससे जुड़ी दिलचस्प बात बताई

राहुल द्रविड़ को पिछले महीने टीम इंडिया का हेड कोच बनाया गया है. उन्हें 2023 तक के लिए यह जिम्मेदारी सौंपी गई है.   (AP)

राहुल द्रविड़ को पिछले महीने टीम इंडिया का हेड कोच बनाया गया है. उन्हें 2023 तक के लिए यह जिम्मेदारी सौंपी गई है. (AP)

राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) को पिछले महीने भारतीय क्रिकेट टीम का हेड कोच नियुक्त किया गया है. बतौर कोच द्रविड़ का कार्यकाल 2023 तक होगा. उनकी कोचिंग में ही टीम इंडिया 2022 में टी20 विश्व कप और 2023 में वनडे विश्व कप (ODI World Cup 2023) खेलेगी. इस बीच, सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) ने एक इंटरव्यू में इस बात का खुलासा किया है कि बतौर कोच द्रविड़ क्यों खास है? यह बताने के लिए उन्होंने कानपुर टेस्ट से जुड़ा एक दिलचस्प किस्सा साझा किया.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. भारतीय क्रिकेट बदलाव के दौर से गुजर रहा है. राहुल द्रविड़ के रूप में टीम को नया हेड कोच मिला है. वहीं, अब रोहित शर्मा के हाथों में पूरी तरह व्हाइट बॉल क्रिकेट टीम की कमान आ गई है. ऐसे में भारतीय क्रिकेट का भविष्य कैसा होगा ? क्रिकेट नेक्स्ट से खास बातचीत में बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) ने खुलासा किया है. उन्होंने कहा कि हमारे पास बहुत अच्छा कोच और काबिल कप्तान है. बीते 5 साल में इसी टीम ने सफलता की नई इबारतें गढ़ी हैं. ऐसे में मुझे कोई वजह नजर नहीं आती कि आगे यह टीम ऊंचाईयां हासिल नहीं करेगी.

    इसी इंटरव्यू में गांगुली ने इस बात का भी खुलासा किया कि राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) बतौर कोच क्यों खास है ? इसके लिए उन्होंने कानपुर टेस्ट से जुड़ी एक दिलचस्प बात बताई. गांगुली ने कहा, “मैंने सुना था कि कानपुर टेस्ट से पहले टीम के अभ्यास सत्र के बाद द्रविड़ विकेट, प्रैक्टिस के लिए इस्तेमाल में आई गेंद और बाकी सारा सामान खुद उठाकर ड्रेसिंग रूम में वापस ला रहे थे. राहुल द्रविड़ को ऐसा करते हुए देखना कैमरामैन और फोटोग्राफरों के बहुत अच्छा नजारा रहा होगा. लेकिन मैं उन्हें बहुत पहले से जानता हूं, वो हमेशा से ही इसी तरह के शख्स रहे हैं. वो खेल से जुड़ी हर छोटी बात का ध्यान रखते हैं.”

    इससे पहले, सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) ने हाल ही में एक इंटरव्यू में राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) को टीम इंडिया का हेड कोच बनाने की पूरी कहानी सुनाई थी. गांगुली ने इस इंटरव्यू में कहा था, “सिर्फ आईपीएल के दौरान ही भारतीय कोच को घर पर 1 महीने बिताने का मौका मिलता है. द्रविड़ घर से ज्यादा वक्त तक दूर रहने का सोचकर इस जिम्मेदारी को संभालने के लिए तैयार नहीं हो रहे थे. क्योंकि भारतीय टीम के साथ उन्हें 8 से 9 महीने तक घर से बाहर रहना पड़ता और उनके दो बच्चे हैं.”

    कई दौर की बातचीत के बाद द्रविड़ तैयार हुए: गांगुली
    गांगुली ने आगे कहा कि एक वक्त तो हम भी हार मान चुके थे. उन्हें नेशनल क्रिकेट एकेडमी (National Cricket Academy) के प्रमुख के रूप में नियुक्त किया गया था. हमने सभी इंटरव्यू कर लिए थे, उनका भी इंटरव्यू हो चुका था और उन्हें एनसीए का डायरेक्टर बना दिया गया था. लेकिन एनसीए में जिम्मेदारी निभाने के बाद भी हम उनसे लगातार बात करते रहे. आखिर में वो कोच बनने के लिए राजी हो गए. मुझे लगता है कि कोचिंग के मामले में बीसीसीआई रवि शास्त्री के हटने के बाद इससे बेहतर कुछ नहीं कर सकती थी.

    विराट कोहली की जगह रोहित शर्मा को वनडे टीम की कप्तानी क्यों सौंपी गई, सौरव गांगुली ने किया खुलासा

    India Tour Of South Africa: विराट-रोहित आज मुंबई में मिलेंगे, इस तारीख को दक्षिण अफ्रीका रवाना होगी टीम इंडिया

    द्रविड़ 4 साल इंडिया-ए टीम के साथ रहे
    टीम इंडिया का हेड कोच बनने से पहले राहुल द्रविड़ ने 4 साल इंडिया-ए और अंडर-19 टीम के मुख्य कोच की जिम्मेदारी निभाई थी. उनकी कोचिंग में, इंडिया-ए के कई खिलाड़ियों ने अंतरराष्ट्रीय डेब्यू किया. जूनियर टीम ने भी शानदार प्रदर्शन किया और 2018 में अंडर-19 विश्व कप जीता था. 2019 में, द्रविड़ ने राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी (NCA) के प्रमुख के रूप में पदभार संभाला था.

    Tags: Cricket news, Rahul Dravid, Sourav Ganguly, Team India Head Coach

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर